Look Inside
Badhti Duriyan Gaharati Darar
Badhti Duriyan Gaharati Darar
Badhti Duriyan Gaharati Darar
Badhti Duriyan Gaharati Darar
Badhti Duriyan Gaharati Darar
Badhti Duriyan Gaharati Darar

Badhti Duriyan Gaharati Darar

Regular price ₹ 925
Sale price ₹ 925 Regular price ₹ 995
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Badhti Duriyan Gaharati Darar

Badhti Duriyan Gaharati Darar

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारत–विभाजन के बाद, इन क़रीब पचास सालों में, हिन्दू–मुस्लिम रिश्तों में सबसे ज़्यादा गिरावट आई है। प्रस्तुत गवेषणापूर्ण अध्ययन में डॉ. रफ़ीक़ ज़करिया ने दोनों समुदायों के बीच आई टूटन के कारणों पर गहन विचार किया है।
अपने विश्लेषण की शुरुआत उन्होंने भारत पर मुहम्मद बिन कासिम (सन् 711) और महमूद गज़नवी (सन् 1020) के हमलों के परिणामों से की है। उसके बाद उन्होंने दिल्ली के सुल्तानों और बाद में मुग़लों के अधीन भारत की स्थितियों पर और दोनों समुदायों के समन्वित हितों के लिए की गई पहलक़दमियों पर नज़र डाली है। फिर वे, हिन्दुस्तान पर अंग्रेज़ी हुकूमत, उसकी ‘फूट डालो, राज करो’ की नीति और मुहम्मद अली जिन्ना द्वारा प्रस्तावित ‘दो–राष्ट्र सिद्धान्त’ का परीक्षण करते हैं। विभाजन की वजहों पर उन्होंने बड़ी गहराई से चिन्तन किया है और उसके दूरगामी परिणामों पर बड़े विस्तार से चर्चा की है। वे, अपने अध्ययन का समापन, एक चुनावी–शक्ति के रूप में हिन्दुत्व के उभार, 1992 में बाबरी मस्जिद की शहादत के परिणाम और भारत के वित्तीय नाड़ी–तंत्र मुम्बई में भाजपा–शिवसेना गठबन्धन की जीत से करते हैं। अपने प्रमेय का विकसन करते–करते डॉ. ज़करिया, दोनों समुदायों के बारे में प्रचलित अनेक ऐतिहासिक, धार्मिक और राजनीतिक भ्रमों–मिथकों को ध्वस्त करते चलते हैं।
डॉ. ज़करिया बड़े गम्भीर विद्वान और वरिष्ठ राजनेता हैं। ज़मीन से जुड़े होने की वजह से उन्हें यथार्थ की प्रत्यक्ष जानकारी है। अपने व्यापक ज्ञान और अनुभव का इस्तेमाल करते हुए उन्होंने ऐसी पुस्तक की रचना की है जो नए मार्ग प्रशस्त करती है, सत्याग्रही अन्तर्दृष्टि प्रदान करती है और हिन्दुस्तान के हिन्दुओं और मुसलमानों को अलग–अलग बाँटनेवाली समस्याओं के सही स्वरूप से जुड़े अहम सवालों का जवाब देती है। सबसे महत्त्वपूर्ण बात तो यह है कि यह पुस्तक बड़े व्यावहारिक सुझाव देकर यह बताती है कि दोनों समुदायों के बीच की गहरी दरारों को कैसे पाटा जा सकता है। Bharat–vibhajan ke baad, in qarib pachas salon mein, hindu–muslim rishton mein sabse zyada giravat aai hai. Prastut gaveshnapurn adhyyan mein dau. Rafiq zakariya ne donon samudayon ke bich aai tutan ke karnon par gahan vichar kiya hai. Apne vishleshan ki shuruat unhonne bharat par muhammad bin kasim (san 711) aur mahmud gazanvi (san 1020) ke hamlon ke parinamon se ki hai. Uske baad unhonne dilli ke sultanon aur baad mein muglon ke adhin bharat ki sthitiyon par aur donon samudayon ke samanvit hiton ke liye ki gai pahalaqadamiyon par nazar dali hai. Phir ve, hindustan par angrezi hukumat, uski ‘phut dalo, raaj karo’ ki niti aur muhammad ali jinna dvara prastavit ‘do–rashtr siddhant’ ka parikshan karte hain. Vibhajan ki vajhon par unhonne badi gahrai se chintan kiya hai aur uske durgami parinamon par bade vistar se charcha ki hai. Ve, apne adhyyan ka samapan, ek chunavi–shakti ke rup mein hindutv ke ubhar, 1992 mein babri masjid ki shahadat ke parinam aur bharat ke vittiy nadi–tantr mumbii mein bhajpa–shivsena gathbandhan ki jit se karte hain. Apne prmey ka viksan karte–karte dau. Zakariya, donon samudayon ke bare mein prachlit anek aitihasik, dharmik aur rajnitik bhrmon–mithkon ko dhvast karte chalte hain.
Dau. Zakariya bade gambhir vidvan aur varishth rajneta hain. Zamin se jude hone ki vajah se unhen yatharth ki pratyaksh jankari hai. Apne vyapak gyan aur anubhav ka istemal karte hue unhonne aisi pustak ki rachna ki hai jo ne marg prshast karti hai, satyagrhi antardrishti prdan karti hai aur hindustan ke hinduon aur musalmanon ko alag–alag bantnevali samasyaon ke sahi svrup se jude aham savalon ka javab deti hai. Sabse mahattvpurn baat to ye hai ki ye pustak bade vyavharik sujhav dekar ye batati hai ki donon samudayon ke bich ki gahri dararon ko kaise pata ja sakta hai.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products