BackBack
-11%

Badalta Hua Desh : Swarndesh Ki Lok Kathayen

Rs. 150 Rs. 134

प्रस्तुत कहानियों के रचनाकार मनोज कुमार पांडेय अब तक हिन्दी जगत में अपनी पक्की पहचान बना चुके हैं। इनके पहले के तीन कहानी-संग्रह पुख़्ता सबूत हैं कि इक्कीसवीं सदी के इस युवा रचनाकार ने कहानी का दामन मज़बूती से थाम रखा है। मनोज के लेखन का सबसे ग़ौरतलब पहलू यह... Read More

Description

प्रस्तुत कहानियों के रचनाकार मनोज कुमार पांडेय अब तक हिन्दी जगत में अपनी पक्की पहचान बना चुके हैं। इनके पहले के तीन कहानी-संग्रह पुख़्ता सबूत हैं कि इक्कीसवीं सदी के इस युवा रचनाकार ने कहानी का दामन मज़बूती से थाम रखा है। मनोज के लेखन का सबसे ग़ौरतलब पहलू यह है कि ये कहानी–लेखन के ढर्रे और फ़्रेम को लगातार चुनौती देते चलते हैं। ख़ुद तोड़-फोड़ करते हैं और कहानी की कहन को कई क़दम आगे ले जाते हैं।
इन कहानियों की प्रतीक-योजना बड़ी प्रत्यक्ष प्रणाली से उजागर है। लेखक ने हर कहानी में नए सिरे से जोखिम उठाया है। स्थितिगत व्यंग्य की विद्रूपता अन्य किसी प्रणाली से व्यक्त की भी नहीं जा सकती। कहानियों को इस परिप्रेक्ष्य में समझे जाने की ज़रूरत है। इन कहानियों में यदि आख्यान की सादगी है तो कबीर की तरह उद्देश्य की खड़ी चोट भी है। कहानी केवल राजा और प्रजा की नहीं रहती, वरन् यह जन और तंत्र की हो जाती है। इन्हें पढ़कर लगता है कि आज के समय की आँख में उँगली डालकर सच्चाई दिखाने का काम लेखक के ज़‍िम्मे है। ये कहानियाँ अपनी सरलता में जटिल यथार्थ की दस्तावेज़ हैं। मनोज समय के सघन अँधेरों पर रचनाओं की रोशनी और रोशनाई डाल कर बताते हैं; बचो, बचो, इस फैलते अन्‍धकार से बचो। यही एक लेखक का कर्तव्य होता है।
–ममता कालिया
गहरे प्रेक्षण, बदलावों को पकड़नेवाली अचूक संवेदनशीलता और समर्थ कथा-भाषा से मनोज कुमार पांडेय ने इक्कीसवीं सदी में उभरे कहानीकारों के बीच अपनी ख़ास पहचान बनाई है। 'पानी' और 'शहतूत' जैसी कहानियों का यह लेखक अपनी रचनाओं के लिए कभी बहुत लम्बा इन्तज़ार नहीं करवाता। बावजूद इसके, हर बार उसके पास कहने के लिए कोई नई बात होती है; साथ ही, कहने की अलग भंगिमा भी। इस बार मनोज जिस स्वर्णदेश की कहानियाँ सुना रहे हैं, वह उनके अब तक के लेखन से इस मायने में बिलकुल जुदा है कि यहाँ क़ि‍स्सागोई वाले अन्दाज़ में एक ऐसा दिक्काल उपस्थित है जो अपनी सूरत में हमारा न होकर भी सीरत में सौ फ़ीसद हमारा है। यह अन्योक्ति वाली युक्ति में गहा हुआ हमारे समय का सार है। पढ़कर हम आश्वस्त होते हैं कि अतीत-प्रेमी राजा ने भले ही स्वर्णदेश की भाषा में घुस आए विजातीय शब्दों की छँटनी करके उसे दिव्यांग बना दिया हो, और लोग कुछ भी बोलने-लिखने में असमर्थ हो चले हों, हमारी भाषा का दमखम अभी बचा हुआ है। यह कथा-शृंखला इसका ज़‍िन्दा सबूत है।
–संजीव कुमार Prastut kahaniyon ke rachnakar manoj kumar pandey ab tak hindi jagat mein apni pakki pahchan bana chuke hain. Inke pahle ke tin kahani-sangrah pukhta sabut hain ki ikkisvin sadi ke is yuva rachnakar ne kahani ka daman mazbuti se tham rakha hai. Manoj ke lekhan ka sabse gauratlab pahlu ye hai ki ye kahani–lekhan ke dharre aur frem ko lagatar chunauti dete chalte hain. Khud tod-phod karte hain aur kahani ki kahan ko kai qadam aage le jate hain. In kahaniyon ki prtik-yojna badi pratyaksh prnali se ujagar hai. Lekhak ne har kahani mein ne sire se jokhim uthaya hai. Sthitigat vyangya ki vidrupta anya kisi prnali se vyakt ki bhi nahin ja sakti. Kahaniyon ko is pariprekshya mein samjhe jane ki zarurat hai. In kahaniyon mein yadi aakhyan ki sadgi hai to kabir ki tarah uddeshya ki khadi chot bhi hai. Kahani keval raja aur prja ki nahin rahti, varan ye jan aur tantr ki ho jati hai. Inhen padhkar lagta hai ki aaj ke samay ki aankh mein ungali dalkar sachchai dikhane ka kaam lekhak ke za‍imme hai. Ye kahaniyan apni saralta mein jatil yatharth ki dastavez hain. Manoj samay ke saghan andheron par rachnaon ki roshni aur roshnai daal kar batate hain; bacho, bacho, is phailte an‍dhakar se bacho. Yahi ek lekhak ka kartavya hota hai.
–mamta kaliya
Gahre prekshan, badlavon ko pakadnevali achuk sanvedanshilta aur samarth katha-bhasha se manoj kumar pandey ne ikkisvin sadi mein ubhre kahanikaron ke bich apni khas pahchan banai hai. Pani aur shahtut jaisi kahaniyon ka ye lekhak apni rachnaon ke liye kabhi bahut lamba intzar nahin karvata. Bavjud iske, har baar uske paas kahne ke liye koi nai baat hoti hai; saath hi, kahne ki alag bhangima bhi. Is baar manoj jis svarndesh ki kahaniyan suna rahe hain, vah unke ab tak ke lekhan se is mayne mein bilkul juda hai ki yahan qi‍ssagoi vale andaz mein ek aisa dikkal upasthit hai jo apni surat mein hamara na hokar bhi sirat mein sau fisad hamara hai. Ye anyokti vali yukti mein gaha hua hamare samay ka saar hai. Padhkar hum aashvast hote hain ki atit-premi raja ne bhale hi svarndesh ki bhasha mein ghus aae vijatiy shabdon ki chhantani karke use divyang bana diya ho, aur log kuchh bhi bolne-likhne mein asmarth ho chale hon, hamari bhasha ka damkham abhi bacha hua hai. Ye katha-shrinkhla iska za‍inda sabut hai.
–sanjiv kumar