Baba Batesarnath

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Baba Batesarnath

Baba Batesarnath

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अगर यह कहना सच है कि भारत की आत्मा गाँवों में निवास करती है, तो यह कहना सच को रेखांकित करना है कि नागार्जुन के उपन्यासों में इस महादेश की आत्मा साकार हो उठी है। वे सच्चे अर्थों में जनवादी कथाकार हैं–जनसाधारण की बात को जनसाधारण के लिए जनसाधारण की भाषा में कहनेवाले कथाकार। उनके भाषा-शिल्प में कहीं कोई घटाटोप नहीं, बनावट नहीं; अगर कुछ है तो जीवन का सहज प्रवाह; और इसीलिए मन को छू लेने की जैसी शक्ति उनके उपन्यासों में है, वह कम देखने को मिलती है।
बाबा बटेसरनाथ रचना-शिल्प की दृष्टि से नागार्जुन का विलक्षण प्रयोग है। इसका कथानायक कोई मानव-शरीरधारी नहीं, बल्कि एक बूढ़ा बरगद है जिसके प्रति गाँव के लोगों की भावना वैसी ही है जैसी अपने किसी बड़े-बूढ़े के प्रति होती है, और इसीलिए वे लोग उस पेड़ को साधारण ‘बरगद’ नाम से नहीं, बल्कि आदरसूचक ‘बाबा बटेसरनाथ’ कहकर पुकारते हैं। यही बाबा बटेसरनाथ अपनी कहानी सुनाते-सुनाते पूरे गाँव की कहानी सुना जाते हैं, जिसकी कई पीढ़ियों के इतिहास के वे साक्षी रहे हैं। ग्रामीण जीवन के सुख-दुख, ह्रास-रुदन और अभाव-अभियोगों का इसमें बड़ा ही सहज और मर्मस्पर्शी चित्रण हुआ है। Agar ye kahna sach hai ki bharat ki aatma ganvon mein nivas karti hai, to ye kahna sach ko rekhankit karna hai ki nagarjun ke upanyason mein is mahadesh ki aatma sakar ho uthi hai. Ve sachche arthon mein janvadi kathakar hain–jansadharan ki baat ko jansadharan ke liye jansadharan ki bhasha mein kahnevale kathakar. Unke bhasha-shilp mein kahin koi ghatatop nahin, banavat nahin; agar kuchh hai to jivan ka sahaj prvah; aur isiliye man ko chhu lene ki jaisi shakti unke upanyason mein hai, vah kam dekhne ko milti hai. Baba batesarnath rachna-shilp ki drishti se nagarjun ka vilakshan pryog hai. Iska kathanayak koi manav-sharirdhari nahin, balki ek budha bargad hai jiske prati ganv ke logon ki bhavna vaisi hi hai jaisi apne kisi bade-budhe ke prati hoti hai, aur isiliye ve log us ped ko sadharan ‘bargad’ naam se nahin, balki aadarsuchak ‘baba batesarnath’ kahkar pukarte hain. Yahi baba batesarnath apni kahani sunate-sunate pure ganv ki kahani suna jate hain, jiski kai pidhiyon ke itihas ke ve sakshi rahe hain. Gramin jivan ke sukh-dukh, hras-rudan aur abhav-abhiyogon ka ismen bada hi sahaj aur marmasparshi chitran hua hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products