Baa

Giriraj Kishore

Rs. 250 – Rs. 595

गांधी को लेकर एक बड़ा और चर्चित उपन्यास लिख चुके गिरिराज जी इस उपन्यास में कस्तूरबा गांधी को लेकर आए हैं। गांधी जैसे व्यक्तित्व की पत्नी के रूप में एक स्त्री का स्वयं अपने और साथ ही देश की आज़ादी के आन्दोलन से जुदा दोहरा संघर्ष। ऐसे दस्तावेज़ बहुत कम... Read More

PaperbackPaperback
HardboundHardbound
Rs. 250
Description

गांधी को लेकर एक बड़ा और चर्चित उपन्यास लिख चुके गिरिराज जी इस उपन्यास में कस्तूरबा गांधी को लेकर आए हैं। गांधी जैसे व्यक्तित्व की पत्नी के रूप में एक स्त्री का स्वयं अपने और साथ ही देश की आज़ादी के आन्दोलन से जुदा दोहरा संघर्ष। ऐसे दस्तावेज़ बहुत कम हैं जिनमें कस्तूरबा के निजी जीवन या उनकी व्यक्ति-रूप में पहचान को रेखांकित किया जा सका हो, नहीं के बराबर। इसीलिए उपन्यासकार को भी इस रचना के लिए कई स्तरों पर शोध करना पड़ा। जो किताबें उपलब्ध थीं, उनको पढ़ा, जिन जगहों से बा का सम्बन्ध था, उनकी भीतरी और बाहरी यात्रा की और उन लोगों से भी मिले जिनके पास बा से सम्बन्धित कोई भी सूचना मिल सकती थी।
इतनी मशक्कत के बाद आकार पा सका यह उपन्यास अपने उद्देश्य में इतनी सम्पूर्णता के साथ सफल हुआ है, यह सुखद है। इस उपन्यास से गुज़रने के बाद हम उस स्त्री को एक व्यक्ति के रूप में चीन्ह सकेंगे जो बापू के बापू बनने की ऐतिहासिक प्रक्रिया में हमेशा एक ख़ामोश ईंट की तरह नींव में बनी रही। और उस व्यक्तित्व को भी जिसने घर और देश की ज़िम्मेदारियों को एक धुरी पर साधा। उन्नीसवीं सदी के भारत में एक कम उम्र लड़की का पत्नी रूप में होना और फिर धीरे-धीरे पत्नी होना सीखना, उस पद के साथ जुड़ी उसकी इच्छाएँ, कामनाएँ और फिर इतिहास के एक बड़े चक्र के फलस्वरूप एक ऐसे व्यक्ति की पत्नी के रूप में ख़ुद को पाना जिसकी ऊँचाई उनके समकालीनों के लिए भी एक पहेली थी। यह यात्रा लगता है कई लोगों के हिस्से की थी जिसने बा ने अकेले पूरा किया। यह उपन्यास इस यात्रा के हर पड़ाव को इतिहास की तरह रेखांकित भी करता है और कथा की तरह हमारी स्मृति का हिस्सा भी बनाता है।
इस उपन्यास में हम ख़ुद बापू के भी एक भिन्न रूप से परिचित होते हैं। उनका पति और पिता का रूप। घर के भीतर वह व्यक्ति कैसा रहा होगा, जिसे इतिहास ने पहले देश और फिर पूरे विश्व का मार्गदर्शक बनते देखा, उपन्यास के कथा-फ़ेम में यह महसूस करना भी एक अनुभव है। Gandhi ko lekar ek bada aur charchit upanyas likh chuke giriraj ji is upanyas mein kasturba gandhi ko lekar aae hain. Gandhi jaise vyaktitv ki patni ke rup mein ek stri ka svayan apne aur saath hi desh ki aazadi ke aandolan se juda dohra sangharsh. Aise dastavez bahut kam hain jinmen kasturba ke niji jivan ya unki vyakti-rup mein pahchan ko rekhankit kiya ja saka ho, nahin ke barabar. Isiliye upanyaskar ko bhi is rachna ke liye kai stron par shodh karna pada. Jo kitaben uplabdh thin, unko padha, jin jaghon se ba ka sambandh tha, unki bhitri aur bahri yatra ki aur un logon se bhi mile jinke paas ba se sambandhit koi bhi suchna mil sakti thi. Itni mashakkat ke baad aakar pa saka ye upanyas apne uddeshya mein itni sampurnta ke saath saphal hua hai, ye sukhad hai. Is upanyas se guzarne ke baad hum us stri ko ek vyakti ke rup mein chinh sakenge jo bapu ke bapu banne ki aitihasik prakriya mein hamesha ek khamosh iint ki tarah ninv mein bani rahi. Aur us vyaktitv ko bhi jisne ghar aur desh ki zimmedariyon ko ek dhuri par sadha. Unnisvin sadi ke bharat mein ek kam umr ladki ka patni rup mein hona aur phir dhire-dhire patni hona sikhna, us pad ke saath judi uski ichchhayen, kamnayen aur phir itihas ke ek bade chakr ke phalasvrup ek aise vyakti ki patni ke rup mein khud ko pana jiski uunchai unke samkalinon ke liye bhi ek paheli thi. Ye yatra lagta hai kai logon ke hisse ki thi jisne ba ne akele pura kiya. Ye upanyas is yatra ke har padav ko itihas ki tarah rekhankit bhi karta hai aur katha ki tarah hamari smriti ka hissa bhi banata hai.
Is upanyas mein hum khud bapu ke bhi ek bhinn rup se parichit hote hain. Unka pati aur pita ka rup. Ghar ke bhitar vah vyakti kaisa raha hoga, jise itihas ne pahle desh aur phir pure vishv ka margdarshak bante dekha, upanyas ke katha-fem mein ye mahsus karna bhi ek anubhav hai.

Additional Information
Book Type

Paperback, Hardbound

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8126728336
Pages 280p
Publishing Year

Baa

गांधी को लेकर एक बड़ा और चर्चित उपन्यास लिख चुके गिरिराज जी इस उपन्यास में कस्तूरबा गांधी को लेकर आए हैं। गांधी जैसे व्यक्तित्व की पत्नी के रूप में एक स्त्री का स्वयं अपने और साथ ही देश की आज़ादी के आन्दोलन से जुदा दोहरा संघर्ष। ऐसे दस्तावेज़ बहुत कम हैं जिनमें कस्तूरबा के निजी जीवन या उनकी व्यक्ति-रूप में पहचान को रेखांकित किया जा सका हो, नहीं के बराबर। इसीलिए उपन्यासकार को भी इस रचना के लिए कई स्तरों पर शोध करना पड़ा। जो किताबें उपलब्ध थीं, उनको पढ़ा, जिन जगहों से बा का सम्बन्ध था, उनकी भीतरी और बाहरी यात्रा की और उन लोगों से भी मिले जिनके पास बा से सम्बन्धित कोई भी सूचना मिल सकती थी।
इतनी मशक्कत के बाद आकार पा सका यह उपन्यास अपने उद्देश्य में इतनी सम्पूर्णता के साथ सफल हुआ है, यह सुखद है। इस उपन्यास से गुज़रने के बाद हम उस स्त्री को एक व्यक्ति के रूप में चीन्ह सकेंगे जो बापू के बापू बनने की ऐतिहासिक प्रक्रिया में हमेशा एक ख़ामोश ईंट की तरह नींव में बनी रही। और उस व्यक्तित्व को भी जिसने घर और देश की ज़िम्मेदारियों को एक धुरी पर साधा। उन्नीसवीं सदी के भारत में एक कम उम्र लड़की का पत्नी रूप में होना और फिर धीरे-धीरे पत्नी होना सीखना, उस पद के साथ जुड़ी उसकी इच्छाएँ, कामनाएँ और फिर इतिहास के एक बड़े चक्र के फलस्वरूप एक ऐसे व्यक्ति की पत्नी के रूप में ख़ुद को पाना जिसकी ऊँचाई उनके समकालीनों के लिए भी एक पहेली थी। यह यात्रा लगता है कई लोगों के हिस्से की थी जिसने बा ने अकेले पूरा किया। यह उपन्यास इस यात्रा के हर पड़ाव को इतिहास की तरह रेखांकित भी करता है और कथा की तरह हमारी स्मृति का हिस्सा भी बनाता है।
इस उपन्यास में हम ख़ुद बापू के भी एक भिन्न रूप से परिचित होते हैं। उनका पति और पिता का रूप। घर के भीतर वह व्यक्ति कैसा रहा होगा, जिसे इतिहास ने पहले देश और फिर पूरे विश्व का मार्गदर्शक बनते देखा, उपन्यास के कथा-फ़ेम में यह महसूस करना भी एक अनुभव है। Gandhi ko lekar ek bada aur charchit upanyas likh chuke giriraj ji is upanyas mein kasturba gandhi ko lekar aae hain. Gandhi jaise vyaktitv ki patni ke rup mein ek stri ka svayan apne aur saath hi desh ki aazadi ke aandolan se juda dohra sangharsh. Aise dastavez bahut kam hain jinmen kasturba ke niji jivan ya unki vyakti-rup mein pahchan ko rekhankit kiya ja saka ho, nahin ke barabar. Isiliye upanyaskar ko bhi is rachna ke liye kai stron par shodh karna pada. Jo kitaben uplabdh thin, unko padha, jin jaghon se ba ka sambandh tha, unki bhitri aur bahri yatra ki aur un logon se bhi mile jinke paas ba se sambandhit koi bhi suchna mil sakti thi. Itni mashakkat ke baad aakar pa saka ye upanyas apne uddeshya mein itni sampurnta ke saath saphal hua hai, ye sukhad hai. Is upanyas se guzarne ke baad hum us stri ko ek vyakti ke rup mein chinh sakenge jo bapu ke bapu banne ki aitihasik prakriya mein hamesha ek khamosh iint ki tarah ninv mein bani rahi. Aur us vyaktitv ko bhi jisne ghar aur desh ki zimmedariyon ko ek dhuri par sadha. Unnisvin sadi ke bharat mein ek kam umr ladki ka patni rup mein hona aur phir dhire-dhire patni hona sikhna, us pad ke saath judi uski ichchhayen, kamnayen aur phir itihas ke ek bade chakr ke phalasvrup ek aise vyakti ki patni ke rup mein khud ko pana jiski uunchai unke samkalinon ke liye bhi ek paheli thi. Ye yatra lagta hai kai logon ke hisse ki thi jisne ba ne akele pura kiya. Ye upanyas is yatra ke har padav ko itihas ki tarah rekhankit bhi karta hai aur katha ki tarah hamari smriti ka hissa bhi banata hai.
Is upanyas mein hum khud bapu ke bhi ek bhinn rup se parichit hote hain. Unka pati aur pita ka rup. Ghar ke bhitar vah vyakti kaisa raha hoga, jise itihas ne pahle desh aur phir pure vishv ka margdarshak bante dekha, upanyas ke katha-fem mein ye mahsus karna bhi ek anubhav hai.