BackBack
-11%

Awadh Ka Kisan Vidroh

Rs. 695 Rs. 619

भारत को किसानों का देश कहा जाता है, बावजूद इसके न तो किसान कभी इस धारणा को अपने आत्मविश्वास में अनूदित कर सके, न देश के मध्यवर्ग और कर्णधारों ने उन्हें इसके लिए प्रोत्साहित किया। यह देश जो लगातार आगे बढ़ता रहा है, इसका किसान या तो ख़ुद पीछे छूटता... Read More

BlackBlack
Description

भारत को किसानों का देश कहा जाता है, बावजूद इसके न तो किसान कभी इस धारणा को अपने आत्मविश्वास में अनूदित कर सके, न देश के मध्यवर्ग और कर्णधारों ने उन्हें इसके लिए प्रोत्साहित किया। यह देश जो लगातार आगे बढ़ता रहा है, इसका किसान या तो ख़ुद पीछे छूटता चला गया या आगे बढ़ने के लिए उसने किसान की अपनी पहचान को पीछे छोड़ा है। यह हमारे राष्ट्रीय जीवन की सबसे बड़ी विडम्बनाओं में एक है।
यह पुस्तक भारतीय किसान-जीवन के एक महत्त्वपूर्ण अध्याय पर केन्द्रित है। 1920-22 के दौरान अवध के लगभग सभी ज़िलों में स्वत:स्फूर्त ढंग से फूट पड़ा किसान-विद्रोह उस आक्रोश की अभिव्यक्ति था जो किसानों के मन में अपनी लगातार उपेक्षा से पनप रहा था। इस घटना ने एक ओर तत्कालीन समय की सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक नीतियों की सीवन उधेड़कर उसकी वास्तविकता को उजागर किया तो दूसरी ओर राष्ट्रवादी सोच और उसके नेतृत्व के वर्ग-आधार को स्पष्ट करते हुए वर्ग और जाति की विकृतियों को भी उजागर किया। इस आन्दोलन ने शायद पहली बार राष्ट्रवाद की सुपुष्ट मिट्टी से गढ़े जानेवाले देश की वर्गीय प्राथमिकताओं को स्पष्ट किया। आश्चर्य नहीं कि राष्ट्र-निर्माण की आक्रामक पहलक़दमियों में आज भी न सिर्फ़ किसान बल्कि वे सब लोग बाहर रह जाते हैं जिनके पास अपनी बात कहने की भाषा और सामाजिक साहस नहीं है। किसान की अवस्थिति, क्योंकि शहर के हाशिये से भी काफ़ी दूर है, इसलिए वह केन्द्रीय सत्ताओं पर अपना दबाव और भी कम डाल पाता है। उनके किसी भी आन्दोलन के क्रान्तिकारी तेवर को दबाने और अभिजात तबकों को लाभ पहुँचाने की नीति तब भी आम थी, आज भी आम है।
अवध के किसान-विद्रोह का यह पुनर्मूल्यांकन देश के एक अमूर्त विराट के बहाने एक विशाल जनसमूह के मूर्त की इस सुनियोजित उपेक्षा की परम्परा के वर्तमान को समझने के लिए भी उपयोगी है। Bharat ko kisanon ka desh kaha jata hai, bavjud iske na to kisan kabhi is dharna ko apne aatmvishvas mein anudit kar sake, na desh ke madhyvarg aur karndharon ne unhen iske liye protsahit kiya. Ye desh jo lagatar aage badhta raha hai, iska kisan ya to khud pichhe chhutta chala gaya ya aage badhne ke liye usne kisan ki apni pahchan ko pichhe chhoda hai. Ye hamare rashtriy jivan ki sabse badi vidambnaon mein ek hai. Ye pustak bhartiy kisan-jivan ke ek mahattvpurn adhyay par kendrit hai. 1920-22 ke dauran avadh ke lagbhag sabhi zilon mein svat:sphurt dhang se phut pada kisan-vidroh us aakrosh ki abhivyakti tha jo kisanon ke man mein apni lagatar upeksha se panap raha tha. Is ghatna ne ek or tatkalin samay ki samajik, rajnitik aur aarthik nitiyon ki sivan udhedkar uski vastavikta ko ujagar kiya to dusri or rashtrvadi soch aur uske netritv ke varg-adhar ko spasht karte hue varg aur jati ki vikritiyon ko bhi ujagar kiya. Is aandolan ne shayad pahli baar rashtrvad ki supusht mitti se gadhe janevale desh ki vargiy prathamiktaon ko spasht kiya. Aashcharya nahin ki rashtr-nirman ki aakramak pahalaqadamiyon mein aaj bhi na sirf kisan balki ve sab log bahar rah jate hain jinke paas apni baat kahne ki bhasha aur samajik sahas nahin hai. Kisan ki avasthiti, kyonki shahar ke hashiye se bhi kafi dur hai, isaliye vah kendriy sattaon par apna dabav aur bhi kam daal pata hai. Unke kisi bhi aandolan ke krantikari tevar ko dabane aur abhijat tabkon ko labh pahunchane ki niti tab bhi aam thi, aaj bhi aam hai.
Avadh ke kisan-vidroh ka ye punarmulyankan desh ke ek amurt virat ke bahane ek vishal janasmuh ke murt ki is suniyojit upeksha ki parampra ke vartman ko samajhne ke liye bhi upyogi hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year