BackBack
-11%

Aur Sharad Joshi

Rs. 595 Rs. 530

शरद जोशी जिस समय लिख रहे थे, भारतीय राजनीति समाजवाद की आदर्श ऊँचाइयों और व्यावहारिक राजनीति की स्वार्थी आत्म-प्रेरणाओं के बीच कोई ऐसा रास्ता तलाशने में लगी थी जिससे वह जनता की हितैषी दिखती हुई व्यवस्था और तंत्र को अपने दलगत और व्यक्तिगत हितों के लिए बिना किसी कटघरे में... Read More

BlackBlack
Description

शरद जोशी जिस समय लिख रहे थे, भारतीय राजनीति समाजवाद की आदर्श ऊँचाइयों और व्यावहारिक राजनीति की स्वार्थी आत्म-प्रेरणाओं के बीच कोई ऐसा रास्ता तलाशने में लगी थी जिससे वह जनता की हितैषी दिखती हुई व्यवस्था और तंत्र को अपने दलगत और व्यक्तिगत हितों के लिए बिना किसी कटघरे में आए इस्तेमाल करती रह सके। लम्बे संघर्ष के बाद प्राप्त आज़ादी बहैसियत एक नैतिक प्रेरणा अपनी चमक खोने लगी थी। शासन, प्रशासन और नौकरशाही लोभ और लाभ की अपनी फौरी और निजी ज़रूरतों के सामने वृहत्तर समाज और देश की अवहेलना करने का साहस जुटाने लगी थी। सड़कें उधड़ने लगी थीं, और लोगों के घरों के सामने महँगी कारों को खड़ा करने के लिए गलियाँ घेरी जाने लगी थीं।
शरद जोशी ने भारतीय व्यक्ति के मूल सामाजिक चरित्र के विराट को परे सरकाकर आधुनिक व्यावहारिकता के बहाने अपनी निम्नतर कुंठाओं को पालने-पोसने वाले भारतीय व्यक्ति के उद्भव की आहत काफ़ी पहले सुन ली थी। उन्होंने देख लिया था जीप पर सवार होकर खेतों में जो नई इल्लियाँ पहुँचनेवाली हैं, वे सिर्फ़ फ़सलों को नहीं समूची राष्ट्र-भूमि को खोखला करनेवाली हैं।
आज जब हम राजनीतिक और सामाजिक नैतिकता की अपनी बंजर भूमि को विकास नाम के एक खोखले बाँस पर टाँगे एक भूमंडलीकृत संसार के बीचोबीच खड़े हैं, हमें इस पुस्तक में अंकित उन चेतावनियों को एक बार फिर से सुनना चाहिए जो शरद जोशी ने अपनी व्यंग्योक्तियों में व्यक्त की थीं। Sharad joshi jis samay likh rahe the, bhartiy rajniti samajvad ki aadarsh uunchaiyon aur vyavharik rajniti ki svarthi aatm-prernaon ke bich koi aisa rasta talashne mein lagi thi jisse vah janta ki hitaishi dikhti hui vyvastha aur tantr ko apne dalgat aur vyaktigat hiton ke liye bina kisi kataghre mein aae istemal karti rah sake. Lambe sangharsh ke baad prapt aazadi bahaisiyat ek naitik prerna apni chamak khone lagi thi. Shasan, prshasan aur naukarshahi lobh aur labh ki apni phauri aur niji zarurton ke samne vrihattar samaj aur desh ki avhelna karne ka sahas jutane lagi thi. Sadken udhadne lagi thin, aur logon ke gharon ke samne mahngi karon ko khada karne ke liye galiyan gheri jane lagi thin. Sharad joshi ne bhartiy vyakti ke mul samajik charitr ke virat ko pare sarkakar aadhunik vyavharikta ke bahane apni nimntar kunthaon ko palne-posne vale bhartiy vyakti ke udbhav ki aahat kafi pahle sun li thi. Unhonne dekh liya tha jip par savar hokar kheton mein jo nai illiyan pahunchnevali hain, ve sirf faslon ko nahin samuchi rashtr-bhumi ko khokhla karnevali hain.
Aaj jab hum rajnitik aur samajik naitikta ki apni banjar bhumi ko vikas naam ke ek khokhle bans par tange ek bhumandlikrit sansar ke bichobich khade hain, hamein is pustak mein ankit un chetavaniyon ko ek baar phir se sunna chahiye jo sharad joshi ne apni vyangyoktiyon mein vyakt ki thin.