BackBack
-11%

Aupniveshik Shasan : Unneesveen Shatabdi Aur Stree Prashn

Rs. 995 Rs. 886

पिछली और वर्तमान सदी की आधुनिक स्त्री की समस्याएँ जब बार-बार परम्परा और संस्कृति के परिप्रेक्ष्य में ही समाधान खोजती हैं तो सुदूर मानव इतिहास में न सही निकट के इतिहास में जाकर खोजबीन आवश्यक हो जाती है। उन्नीसवीं सदी नवजागरण की सदी है और आधुनिकता इसी नवजागरण का प्रतिफलन... Read More

Description

पिछली और वर्तमान सदी की आधुनिक स्त्री की समस्याएँ जब बार-बार परम्परा और संस्कृति के परिप्रेक्ष्य में ही समाधान खोजती हैं तो सुदूर मानव इतिहास में न सही निकट के इतिहास में जाकर खोजबीन आवश्यक हो जाती है। उन्नीसवीं सदी नवजागरण की सदी है और आधुनिकता इसी नवजागरण का प्रतिफलन है। चूँकि ’आधुनिक स्त्री’ के जन्म का श्रेय भी इसी शती को दिया जाता है तो इक्सीसवीं सदी में आधुनिक स्त्री की समस्या का समाधान खोजने इसी शताब्दी के पास जाना होगा। यह पुस्तक इक्कीसवीं सदी के दूसरे दशक में भी आधुनिक स्त्रियों के सामने मुँह बाए खड़े प्रश्नों की जड़ तक पहुँचने की वह दृष्टि है जिसे विभिन्न घटकों से गुज़रते हुए व्याख्यायित करने की कोशिश की गई है।
पहले अध्याय में जहाँ 'भारतेन्दु युग : उन्नीसवीं शताब्दी और औपनिवेशिक परिस्थितियाँ’ में उन्नीसवीं सदी की औपनिवेशिक परिस्थितियों और हिन्दी नवजागरण के अन्तर्सम्बन्धों का विश्लेषण किया गया है, वहीं द्वितीय अध्याय ‘औपनिवेशिक आर्थिक शोषण, हिन्दी नवजागरण और भारतेन्दु हरिश्चन्द्र' में औपनिवेशिक शासन-काल में हिन्दी नवजागरण के बीज और उसके पल्लवन के परिवेश की प्रस्तुति का प्रयास है। तृतीय अध्याय में ‘धर्म, खंडित आधुनिकता एवं स्त्री' में केवल हिन्दी या भारतीय नहीं बल्कि पूरे विश्व की स्त्रियों के प्रति धर्म की विद्वेषपूर्ण भावना का एक विहंगम अवलोकन है। चतुर्थ अध्याय 'स्त्री और उन्नीसवीं सदी के उत्तरार्द्ध का हिन्दी साहित्य’ में पैंतीस वर्षों के सामाजिक प्रश्नों में समाविष्ट स्त्री-प्रश्नों को सम्‍बोधित करने की जुगत है। ये पैंतीस वर्ष वस्तुत: भारतेन्दु के जीवन-वर्ष हैं। वहीं पंचम अध्याय ‘उन्नीसवीं सदी के अन्तिम डेढ़ दशक और स्त्री-प्रश्न' में उन्नीसवीं सदी के अन्तिम डेढ़ दशकों में सम्‍बोधित स्त्री-प्रश्नों को ‘मूल’ के साथ चिन्हित किया गया है।
कह सकते हैं कि पुस्तक में उन्नीसवीं शताब्दी के औपनिवेशिक शासन-काल में स्त्री-परिप्रेक्ष्य में धारणाओं-रूढ़‍ियों, भावनाओँ-पूर्वग्रहों, आग्रहों-दुराग्रहों, अनमेल विवाह, वर-कन्या विक्रय, स्त्री-दासता, स्त्री-अशिक्षा, स्त्री-परित्याग, छुआछूत आदि से टकराते तर्क और विश्लेषण की जो ज़मीन तैयार की गई है, वह अपने चिन्तन मेँ महत्त्वपूर्ण तो है ही, विरल भी है। Pichhli aur vartman sadi ki aadhunik stri ki samasyayen jab bar-bar parampra aur sanskriti ke pariprekshya mein hi samadhan khojti hain to sudur manav itihas mein na sahi nikat ke itihas mein jakar khojbin aavashyak ho jati hai. Unnisvin sadi navjagran ki sadi hai aur aadhunikta isi navjagran ka pratiphlan hai. Chunki ’adhunik stri’ ke janm ka shrey bhi isi shati ko diya jata hai to iksisvin sadi mein aadhunik stri ki samasya ka samadhan khojne isi shatabdi ke paas jana hoga. Ye pustak ikkisvin sadi ke dusre dashak mein bhi aadhunik striyon ke samne munh baye khade prashnon ki jad tak pahunchane ki vah drishti hai jise vibhinn ghatkon se guzarte hue vyakhyayit karne ki koshish ki gai hai. Pahle adhyay mein jahan bhartendu yug : unnisvin shatabdi aur aupaniveshik paristhitiyan’ mein unnisvin sadi ki aupaniveshik paristhitiyon aur hindi navjagran ke antarsambandhon ka vishleshan kiya gaya hai, vahin dvitiy adhyay ‘aupaniveshik aarthik shoshan, hindi navjagran aur bhartendu harishchandr mein aupaniveshik shasan-kal mein hindi navjagran ke bij aur uske pallvan ke parivesh ki prastuti ka pryas hai. Tritiy adhyay mein ‘dharm, khandit aadhunikta evan stri mein keval hindi ya bhartiy nahin balki pure vishv ki striyon ke prati dharm ki vidveshpurn bhavna ka ek vihangam avlokan hai. Chaturth adhyay stri aur unnisvin sadi ke uttrarddh ka hindi sahitya’ mein paintis varshon ke samajik prashnon mein samavisht stri-prashnon ko sam‍bodhit karne ki jugat hai. Ye paintis varsh vastut: bhartendu ke jivan-varsh hain. Vahin pancham adhyay ‘unnisvin sadi ke antim dedh dashak aur stri-prashn mein unnisvin sadi ke antim dedh dashkon mein sam‍bodhit stri-prashnon ko ‘mul’ ke saath chinhit kiya gaya hai.
Kah sakte hain ki pustak mein unnisvin shatabdi ke aupaniveshik shasan-kal mein stri-pariprekshya mein dharnaon-rudh‍iyon, bhavnaon-purvagrhon, aagrhon-duragrhon, anmel vivah, var-kanya vikray, stri-dasta, stri-ashiksha, stri-parityag, chhuachhut aadi se takrate tark aur vishleshan ki jo zamin taiyar ki gai hai, vah apne chintan mein mahattvpurn to hai hi, viral bhi hai.