Look Inside
Atrikta Sataren
Atrikta Sataren
Atrikta Sataren
Atrikta Sataren

Atrikta Sataren

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Atrikta Sataren

Atrikta Sataren

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘चन्द सतरें और’, ‘सतरें और सतरें’, ‘अन्तिम सतरें’ और अब यह ‘अतिरिक्त सतरें’—यह शृंखला अनीता राकेश की उन यादों का सफ़र है, जिन्हें उन्होंने मोहन राकेश के साथ बिताए अपने जीवन में सँजोया। इस सफ़र में उन्होंने अपनी उन ख़ुशियों, चुनौतियों, परेशानियों और दु:खों का बेबाक वर्णन किया है जो उनके आजीवन अनुभव का हिस्सा होकर रह गए।
राकेश से मुलाक़ात के समय वह स्वयं लेखक नहीं थीं, लिखना उन्होंने बाद में शुरू किया, जिसके पीछे कुछ राकेश की प्रेरणा का बल था, और कुछ नए अनुभवों की अतिरिक्त का आवेग। परिणाम यह कि कहानीकार के रूप में भी उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बनाई, लेकिन ज़्यादा वक़्त नहीं बीता कि मोहन राकेश अकाल ही हमसे और उनसे विदा हो गए। यह घटना उनके लिए एक बड़ी त्रासदी थी जिससे उबरने की प्रक्रिया में ही इन पुस्तकों
की रचना सम्भव हुई और अनीता जी के लिए यह प्रक्रिया आज दशकों बाद भी जारी
है।
‘अतिरिक्त सतरें’ में उन्होंने वापस उन दिनों को टटोला है जब वे राकेश से मिलीं, उनको समझना शुरू किया और अन्तत: एक सपने के सच होने की तरह वे एक हो गए।
उम्मीद है सतरें-शृंखला की अन्य पुस्तकों की तरह यह कड़ी भी पाठकों को अपने मन के नज़दीक लगेगी। ‘chand satren aur’, ‘satren aur satren’, ‘antim satren’ aur ab ye ‘atirikt satren’—yah shrinkhla anita rakesh ki un yadon ka safar hai, jinhen unhonne mohan rakesh ke saath bitaye apne jivan mein sanjoya. Is safar mein unhonne apni un khushiyon, chunautiyon, pareshaniyon aur du:khon ka bebak varnan kiya hai jo unke aajivan anubhav ka hissa hokar rah ge. Rakesh se mulaqat ke samay vah svayan lekhak nahin thin, likhna unhonne baad mein shuru kiya, jiske pichhe kuchh rakesh ki prerna ka bal tha, aur kuchh ne anubhvon ki atirikt ka aaveg. Parinam ye ki kahanikar ke rup mein bhi unhonne apni ek alag pahchan banai, lekin zyada vaqt nahin bita ki mohan rakesh akal hi hamse aur unse vida ho ge. Ye ghatna unke liye ek badi trasdi thi jisse ubarne ki prakriya mein hi in pustkon
Ki rachna sambhav hui aur anita ji ke liye ye prakriya aaj dashkon baad bhi jari
Hai.
‘atirikt satren’ mein unhonne vapas un dinon ko tatola hai jab ve rakesh se milin, unko samajhna shuru kiya aur antat: ek sapne ke sach hone ki tarah ve ek ho ge.
Ummid hai satren-shrinkhla ki anya pustkon ki tarah ye kadi bhi pathkon ko apne man ke nazdik lagegi.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products