Ateet Hoti Sadi Aur Stree Ka Bhavishya

Regular price Rs. 646
Sale price Rs. 646 Regular price Rs. 695
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Ateet Hoti Sadi Aur Stree Ka Bhavishya

Ateet Hoti Sadi Aur Stree Ka Bhavishya

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

लोकप्रिय कथा-मासिक ‘हंस’ ने विगत सदी के अन्तिम दशक में ‘औरत उत्तरकथा’ और ‘अतीत होती सदी और स्त्री का भविष्य’ नाम से विशेषांकों का आयोजन किया था। इस किताब की आधार सामग्री ‘अतीत होती सदी और स्त्री का भविष्य’ विशेषांक से ली गई है। उपरोक्त विशेषांकों की अपार लोकप्रियता और अनुपलब्धता के मद्‌देनज़र कुल सामग्री को पुस्तकाकार प्रकाशित करने की योजना को अमली जामा पहनाने के क्रम में यह किताब आपके हाथों में है।
आज जब हम नई सदी में क़दम रख चुके हैं, हमें हर क्षेत्र में मौजूद चुनौतियों और अधूरे कामों की फ़ेहरिस्त हर चन्द अपने सामने रखनी चाहिए। बीती सदी की एक सतत-सुदीर्घ
जद् दोजहद के दौरान स्त्रियों ने अपने हार्दिक मनोभावों को अभिव्यक्त करने की जो बेचैन कोशिशें की हैं, उनसे ग़ुलामी को स्थायित्व देनेवाली नाना प्रकार की प्रवृत्तियाँ और शक्तियाँ बेपर्दा होती जाती हैं। पहली बार स्त्रियाँ उन समस्याओं पर उँगली रखने ख़ुद सामने आई हैं जो सेक्स के आधार पर अलगाए जाने से जन्म लेती हैं। पुस्तक के शुरुआती खंड में शामिल आत्मकथ्यों पर नज़र डालें तो पाएँगे कि वहाँ स्त्रियाँ अपनी आकांक्षाओं-स्वप्नों और संघर्षों की अक्कासी के लिए भाषा को एक नया हथियार बनाए मौजूद हैं—पर्दे और गुमनामियत से बाहर—पुरुषों की दया-सहानुभूति से परे।
‘पितृ-सत्ता के षड्यंत्र’ और ‘स्त्री-छवि’ खंडों में दोनों दृष्टिकोणों को साथ-साथ रखकर जटिलता को उसके पूरेपन में पकड़ने की कोशिशें की गई हैं। यह सारा उद्यम इस एक संकल्प के इर्द-गिर्द है कि नई सदी में भारतीय समाज नए मूल्यों, नए सम्बन्धों, नए व्यवहार, नई मानसिकता की ओर अग्रसर होगा। इस 21वीं सदी में स्त्रियों की मुक्ति के सवालों के जवाब ही देश में आधुनिकता और विकास के चरित्र को तय करेंगे। Lokapriy katha-masik ‘hans’ ne vigat sadi ke antim dashak mein ‘aurat uttaraktha’ aur ‘atit hoti sadi aur stri ka bhavishya’ naam se visheshankon ka aayojan kiya tha. Is kitab ki aadhar samagri ‘atit hoti sadi aur stri ka bhavishya’ visheshank se li gai hai. Uprokt visheshankon ki apar lokapriyta aur anuplabdhta ke mad‌denzar kul samagri ko pustkakar prkashit karne ki yojna ko amli jama pahnane ke kram mein ye kitab aapke hathon mein hai. Aaj jab hum nai sadi mein qadam rakh chuke hain, hamein har kshetr mein maujud chunautiyon aur adhure kamon ki fehrist har chand apne samne rakhni chahiye. Biti sadi ki ek satat-sudirgh
Jad dojhad ke dauran striyon ne apne hardik manobhavon ko abhivyakt karne ki jo bechain koshishen ki hain, unse gulami ko sthayitv denevali nana prkar ki prvrittiyan aur shaktiyan beparda hoti jati hain. Pahli baar striyan un samasyaon par ungali rakhne khud samne aai hain jo seks ke aadhar par algaye jane se janm leti hain. Pustak ke shuruati khand mein shamil aatmkathyon par nazar dalen to payenge ki vahan striyan apni aakankshaon-svapnon aur sangharshon ki akkasi ke liye bhasha ko ek naya hathiyar banaye maujud hain—parde aur gumnamiyat se bahar—purushon ki daya-sahanubhuti se pare.
‘pitri-satta ke shadyantr’ aur ‘stri-chhavi’ khandon mein donon drishtikonon ko sath-sath rakhkar jatilta ko uske purepan mein pakadne ki koshishen ki gai hain. Ye sara udyam is ek sankalp ke ird-gird hai ki nai sadi mein bhartiy samaj ne mulyon, ne sambandhon, ne vyavhar, nai manasikta ki or agrsar hoga. Is 21vin sadi mein striyon ki mukti ke savalon ke javab hi desh mein aadhunikta aur vikas ke charitr ko tay karenge.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products