Look Inside
Ashok Rajpath
Ashok Rajpath
Ashok Rajpath
Ashok Rajpath
Ashok Rajpath
Ashok Rajpath
Ashok Rajpath
Ashok Rajpath
Ashok Rajpath
Ashok Rajpath

Ashok Rajpath

Regular price Rs. 209
Sale price Rs. 209 Regular price Rs. 225
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ashok Rajpath

Ashok Rajpath

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

महत्त्वपूर्ण कथाकार अवधेश प्रीत का यह उपन्यास बिहार के कॉलेज और विश्वविद्यालय के शिक्षण-परिवेश को उजागर करता है कि किस तरह प्राध्यापक अपनी अतिरिक्त आय के लिए कोचिंग का व्यवसाय कर रहे हैं। इसके पार्श्व में छात्र-राजनीति का भी खुलासा होता है—छात्रों की उच्छृंखलता, अनुशासनहीनता और भ्रष्टता से उपजे सवाल पाठक के अन्तर्मन में लगातार विचलन भरते हैं। गाँवों, क़स्बों से अपना भविष्य सँवारने आए छात्र विद्या और अनीता जैसी लड़कियों के रोमांस में उलझकर वायावी वैचारिकता की बहसें ही नहीं करते, अपितु शराब और आवारगी में अपने को पूरी तरह झोंक देते हैं। वे कोचिंग के विरोध में आन्दोलन करते हैं, जिससे अशोक राजपथ का जनजीवन अस्त-व्यस्त और दुकानें बन्द हो जाती हैं, पुलिस प्रशासन इस विरोध की समाप्ति में अ-सक्षम सिद्ध होता है। और एक खिसियाहट हवा में तारी हो जाती है।
दिवाकर, राजकिशोर, जीवकान्त जैसे किरदार अपने कार्य-कलापों से अन्त तक कौतुक, आशंकाएँ और रोमांच के भावों-विभावों का सृजन करते हैं। कमलेश की मृत्यु को छात्र शहीद की सरणि में दर्ज कराते हैं जो कि परिस्थितिजन्य बेचारगी है। उपन्यास में जिज्ञासा के समानान्तर एक सहम महसूस होती रहती है—यहाँ प्रतिवाद का परिणाम अज्ञात नहीं रहता। वहीं अंशुमान की उदास आँखों में अपने आदर्श को बचाने की बेचैनी गहरे तक झकझोर जाती है। सड़कों पर जीवन की हलचल और भागमभाग है—जैसे सभी एक नए लोक की खोज में हों, यानी वे सभी अशोक राजपथ से पीछा छुड़ाने की हड़बड़ी में हों। अन्तत: जीवकान्त स्वयं से प्रश्न करता है—हमें किधर जाना है? Mahattvpurn kathakar avdhesh prit ka ye upanyas bihar ke kaulej aur vishvvidyalay ke shikshan-parivesh ko ujagar karta hai ki kis tarah pradhyapak apni atirikt aay ke liye koching ka vyavsay kar rahe hain. Iske parshv mein chhatr-rajniti ka bhi khulasa hota hai—chhatron ki uchchhrinkhalta, anushasanhinta aur bhrashtta se upje saval pathak ke antarman mein lagatar vichlan bharte hain. Ganvon, qasbon se apna bhavishya sanvarane aae chhatr vidya aur anita jaisi ladakiyon ke romans mein ulajhkar vayavi vaicharikta ki bahsen hi nahin karte, apitu sharab aur aavargi mein apne ko puri tarah jhonk dete hain. Ve koching ke virodh mein aandolan karte hain, jisse ashok rajpath ka janjivan ast-vyast aur dukanen band ho jati hain, pulis prshasan is virodh ki samapti mein a-saksham siddh hota hai. Aur ek khisiyahat hava mein tari ho jati hai. Divakar, rajakishor, jivkant jaise kirdar apne karya-kalapon se ant tak kautuk, aashankaen aur romanch ke bhavon-vibhavon ka srijan karte hain. Kamlesh ki mrityu ko chhatr shahid ki sarani mein darj karate hain jo ki paristhitijanya bechargi hai. Upanyas mein jigyasa ke samanantar ek saham mahsus hoti rahti hai—yahan prativad ka parinam agyat nahin rahta. Vahin anshuman ki udas aankhon mein apne aadarsh ko bachane ki bechaini gahre tak jhakjhor jati hai. Sadkon par jivan ki halchal aur bhagambhag hai—jaise sabhi ek ne lok ki khoj mein hon, yani ve sabhi ashok rajpath se pichha chhudane ki hadabdi mein hon. Antat: jivkant svayan se prashn karta hai—hamen kidhar jana hai?

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products