Look Inside
Asha Kalindi Aur Rambha
Asha Kalindi Aur Rambha
Asha Kalindi Aur Rambha
Asha Kalindi Aur Rambha

Asha Kalindi Aur Rambha

Regular price ₹ 274
Sale price ₹ 274 Regular price ₹ 295
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Asha Kalindi Aur Rambha

Asha Kalindi Aur Rambha

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘आशा कालिन्दी और रम्भा’ नामक उपन्यासों की त्रयी क्रमशः सामन्तवादी, पूँजीवादी और गांधीवादी व्यवस्था में स्त्री की स्थिति पर एक टिप्पणी है।
‘आशा’ उपन्यास की नायिका स्वयं अपनी कहानी सुनाती है। सेठ कालिन्दी प्रसाद आशा अर्थात् जानकी बाई को अपनी रखैल बनाना चाहता है। निर्धन दुकानदार बाप की बेटी होने के कारण ही नवाब के हरम में पहुँचा दी जाती है और बाद में वहाँ से मुक्त होने पर जानकी बाई के रूप में नाचने-गाने का धन्धा करने लगती है। आशा नवाब और सेठ कालिन्दी प्रसाद दोनों के लिए ही स्त्री भोग की सामग्री है।
अगली कड़ी में सेठ कालिन्दी अपनी कहानी कहता है। उसका सबसे बड़ा कष्ट यह है कि रुपए के लालच में उसका पिता उसका विवाह बड़े घर की फूहड़ लड़की से कर देता है। पैसा उसके पास कितना ही हो, श्वसुर की सहायता से दूसरे विश्वयुद्ध में वह और भी कमाई करता है। लेकिन उसका पारिवारिक जीवन नरक बना हुआ है। अंग्रेज़ों और कांग्रेस दोनों के बीच सन्तुलन साधकर वह व्यापार में ख़ूब उन्नति करता है। असफल दाम्पत्य जीवन के कारण वह एक वेश्या से सम्बन्ध बनाता है और उसी से उत्पन्न बेटी का नाम वह रम्भा रखता है।
रम्भा, इसकी नियति भी बहुत भिन्न नहीं है। अलग कोठी में पाली-पोसी जाने के बावजूद उसे सोलह साल की उम्र में चालीस साल के सेठ सोनेलाल की रखैल बनने को बाध्य होना पड़ता है, क्योंकि उसके पिता सेठ कालिंदी चरण में यह साहस नहीं है कि समाज में यह कह सके कि वह उसकी बेटी है। सेठ सोनेलाल की रखैल बन जाने के बाद भी रम्भा अपने विकास के लिए संघर्ष करती है। पढ़कर एम.ए. करने के दौरान आनन्द के सम्पर्क में आती है। सोनेलाल का गर्भ धारण करके भी वह उससे घृणा करती है। आनन्द के सम्पर्क में आकर वह जनसेवा की ओर प्रवृत्त होती है और एक स्कूल चलाने लगती है। ‘asha kalindi aur rambha’ namak upanyason ki tryi krmashः samantvadi, punjivadi aur gandhivadi vyvastha mein stri ki sthiti par ek tippni hai. ‘asha’ upanyas ki nayika svayan apni kahani sunati hai. Seth kalindi prsad aasha arthat janki bai ko apni rakhail banana chahta hai. Nirdhan dukandar baap ki beti hone ke karan hi navab ke haram mein pahuncha di jati hai aur baad mein vahan se mukt hone par janki bai ke rup mein nachne-gane ka dhandha karne lagti hai. Aasha navab aur seth kalindi prsad donon ke liye hi stri bhog ki samagri hai.
Agli kadi mein seth kalindi apni kahani kahta hai. Uska sabse bada kasht ye hai ki rupe ke lalach mein uska pita uska vivah bade ghar ki phuhad ladki se kar deta hai. Paisa uske paas kitna hi ho, shvsur ki sahayta se dusre vishvyuddh mein vah aur bhi kamai karta hai. Lekin uska parivarik jivan narak bana hua hai. Angrezon aur kangres donon ke bich santulan sadhkar vah vyapar mein khub unnati karta hai. Asphal dampatya jivan ke karan vah ek veshya se sambandh banata hai aur usi se utpann beti ka naam vah rambha rakhta hai.
Rambha, iski niyati bhi bahut bhinn nahin hai. Alag kothi mein pali-posi jane ke bavjud use solah saal ki umr mein chalis saal ke seth sonelal ki rakhail banne ko badhya hona padta hai, kyonki uske pita seth kalindi charan mein ye sahas nahin hai ki samaj mein ye kah sake ki vah uski beti hai. Seth sonelal ki rakhail ban jane ke baad bhi rambha apne vikas ke liye sangharsh karti hai. Padhkar em. e. Karne ke dauran aanand ke sampark mein aati hai. Sonelal ka garbh dharan karke bhi vah usse ghrina karti hai. Aanand ke sampark mein aakar vah janseva ki or prvritt hoti hai aur ek skul chalane lagti hai.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products