Asantosh Ke Din

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Asantosh Ke Din

Asantosh Ke Din

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्दी उपन्यास-जगत् में राही मासूम रज़ा का प्रवेश एक सांस्कृतिक घटना-जैसा ही था। ‘आधा गाँव’ अपने-आप में मात्र एक उपन्यास ही नहीं, सौन्दर्य का पूरा प्रतिमान था। राही ने इस प्रतिमान को उस मेहनतकश अवाम की इच्छाओं और आकांक्षाओं को मथकर निकाला था, जिसे इस महादेश की जन-विरोधी व्यवस्था ने कितने ही आधारों पर विभाजित कर रखा है।
राही का कवि-हृदय व्यवस्था द्वारा लादे गए झूठे जनतंत्र की विभीषिकाओं को उजागर करने में अत्यन्त तत्पर, विकल, संवेदनशील और आक्रोश से भरा हुआ रहा है। यही हृदय और अधिक व्यंजनाक्षम होकर ‘असन्तोष के दिन’ में व्याप रहा है। आक्रोश और संवेदना की यह तरलता यहाँ धुर गम्भीर राजनीतिक सवालों को पेश करती है, जिनकी आँच में सारा हिन्दुस्तान पिघल रहा है।
राष्ट्र की अखंडता और एकता, जातिवाद की भयानक दमघोंटू परम्पराएँ, साम्प्रदायिकता का हलाहल, एक-से-एक भीषण सत्य, चुस्त शैली और धारदार भाषा में लिपटा चला आता है और हमें घेर लेता है। इस कृति की माँग है कि इन सवालों से जूझा और टकराया जाए। इसी समय, इनके उत्तर तलाश किए जाएँ अन्यथा मनुष्य के अस्तित्व की कोई गारंटी नहीं रहेगी। Hindi upanyas-jagat mein rahi masum raza ka prvesh ek sanskritik ghatna-jaisa hi tha. ‘adha ganv’ apne-ap mein matr ek upanyas hi nahin, saundarya ka pura pratiman tha. Rahi ne is pratiman ko us mehanatkash avam ki ichchhaon aur aakankshaon ko mathkar nikala tha, jise is mahadesh ki jan-virodhi vyvastha ne kitne hi aadharon par vibhajit kar rakha hai. Rahi ka kavi-hriday vyvastha dvara lade ge jhuthe jantantr ki vibhishikaon ko ujagar karne mein atyant tatpar, vikal, sanvedanshil aur aakrosh se bhara hua raha hai. Yahi hriday aur adhik vyanjnaksham hokar ‘asantosh ke din’ mein vyap raha hai. Aakrosh aur sanvedna ki ye taralta yahan dhur gambhir rajnitik savalon ko pesh karti hai, jinki aanch mein sara hindustan pighal raha hai.
Rashtr ki akhandta aur ekta, jativad ki bhayanak damghontu paramprayen, samprdayikta ka halahal, ek-se-ek bhishan satya, chust shaili aur dhardar bhasha mein lipta chala aata hai aur hamein gher leta hai. Is kriti ki mang hai ki in savalon se jujha aur takraya jaye. Isi samay, inke uttar talash kiye jayen anytha manushya ke astitv ki koi garanti nahin rahegi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products