Asahmati Mein Utha Ek Hath : Raghuvir Sahay Ki Jeewani

Regular price Rs. 464
Sale price Rs. 464 Regular price Rs. 499
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Asahmati Mein Utha Ek Hath : Raghuvir Sahay Ki Jeewani

Asahmati Mein Utha Ek Hath : Raghuvir Sahay Ki Jeewani

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

रघुवीर सहाय का जीवन-भर का काम प्रभूत और बहुमुखी है, जैसा कि इस जीवनी से एक बार और स्पष्ट होगा। इतना बहुमुखी और इतना मौलिक है कि सब कुछ पर यहाँ लिखा भी नहीं जा सका लेकिन उनके सोच के दायरे में आनेवाली कुछ चीज़ों का संकेत और सार यहाँ है, जिन पर अभी तक दुर्भाग्य से हमारा ध्यान नहीं गया है। मेरे ख़याल से उन बातों को भी जीवनी का अंग बनाना चाहिए, जो किसी लेखक के यहाँ अलग से दिखाई देती हैं और साहसिक ढंग से दिखाई देती हैं। उनकी कविताओं-कहानियों का कोई मूल्यांकन यहाँ करने से यथासम्भव बचा गया है, क्योंकि मेरे मत में यह जीवनी का काम नहीं है और रघुवीर जी के मूल्यांकन की बहुत-सी अच्छी कोशिशें हुई भी हैं। यहाँ प्रयत्न यह है कि उन्होंने ख़ुद अपने काम के बारे में क्या कहा है, क्या बताया है, यह अधिकाधिक सामने लाया जाए।
एक आपत्ति यह हो सकती है कि किताब रघुवीर जी के बारे में कुछ अधिक प्रशंसात्मक हो गई है। अगर यह सही है तो इसका 'दोष' कुछ हद तक रघुवीर जी के व्यक्तित्व में है, कुछ उनके बारे में अच्छी-अच्छी बातें करनेवालों में और अन्त में सबसे अधिक मेरा है।
—विष्णु नागर (प्रस्तावना से) Raghuvir sahay ka jivan-bhar ka kaam prbhut aur bahumukhi hai, jaisa ki is jivni se ek baar aur spasht hoga. Itna bahumukhi aur itna maulik hai ki sab kuchh par yahan likha bhi nahin ja saka lekin unke soch ke dayre mein aanevali kuchh chizon ka sanket aur saar yahan hai, jin par abhi tak durbhagya se hamara dhyan nahin gaya hai. Mere khayal se un baton ko bhi jivni ka ang banana chahiye, jo kisi lekhak ke yahan alag se dikhai deti hain aur sahsik dhang se dikhai deti hain. Unki kavitaon-kahaniyon ka koi mulyankan yahan karne se yathasambhav bacha gaya hai, kyonki mere mat mein ye jivni ka kaam nahin hai aur raghuvir ji ke mulyankan ki bahut-si achchhi koshishen hui bhi hain. Yahan pryatn ye hai ki unhonne khud apne kaam ke bare mein kya kaha hai, kya bataya hai, ye adhikadhik samne laya jaye. Ek aapatti ye ho sakti hai ki kitab raghuvir ji ke bare mein kuchh adhik prshansatmak ho gai hai. Agar ye sahi hai to iska dosh kuchh had tak raghuvir ji ke vyaktitv mein hai, kuchh unke bare mein achchhi-achchhi baten karnevalon mein aur ant mein sabse adhik mera hai.
—vishnu nagar (prastavna se)

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products