BackBack
-11%

Arambh Hai Prachand

Rs. 125 Rs. 111

हिन्दी फ़िल्मों के गाने अब हिन्दी कविता और उर्दू शायरी का विस्तार-भर नहीं रह गए, अब वे अपने आप में एक स्वतंत्र विधा हैं। उनके लिखने का ढंग अलग है। वे अपनी बात भी अलग ढंग से कहते हैं। उनकी बिम्बों की योजना, शब्दों का चयन और संगीत के साथ... Read More

BlackBlack
Description

हिन्दी फ़िल्मों के गाने अब हिन्दी कविता और उर्दू शायरी का विस्तार-भर नहीं रह गए, अब वे अपने आप में एक स्वतंत्र विधा हैं। उनके लिखने का ढंग अलग है। वे अपनी बात भी अलग ढंग से कहते हैं। उनकी बिम्बों की योजना, शब्दों का चयन और संगीत के साथ उनकी हमक़दमी उन्हें पढ़ी जानेवाली कविता से अलग बनाती है। इसलिए उनको पाठ में देखना भी उन्हें जैसे नए सिरे से जानना होता है।
और ये पीयूष मिश्रा के गाने हैं। पीयूष मिश्रा जो अभिनेता हैं, संगीतकार हैं, और थियेटर के एक बड़े नाम ही नहीं, एक मुहावरा रहे हैं। ये गाने उन्होंने या तो फ़िल्मों के लिए ही लिखे या अपने लिए लिखे और फ़िल्मों ने उन्हें ले लिया। पीयूष मिश्रा की बिम्ब-चेतना का विस्तार बहुत व्यापक है। वे समाज से, देश-विदेश की राजनीति से, व्यक्ति और समाज के आपसी द्वन्द्व से विचलित रहते हैं, उन पर सोचते हैं। और इसलिए जब वे किसी दिए गए फ़िल्म-दृश्य को अपने गीत की लय में विजुअलाइज करते हैं तो उनकी कल्पना उसकी सीमाओं को लाँघकर दूर-दूर तक जाती है। वे सामने मौजूद पात्रों के परिवेश को व्यापक सामाजिक-राजनीतिक सन्दर्भों में रूपायित करते हैं और पर्दे पर मौजूद दृश्य की साक्षी आँखों को सोचने का एक बड़ा परिदृश्य देते हैं। पीयूष मिश्रा के गीत चरित्रों के संवाद नहीं होते, उनकी नियति की व्याख्या होते हैं। ‘गैंग्स ऑफ़ वासेपुर’ और ‘गुलाल’ जैसी फ़िल्मों के गाने हिन्दी फ़िल्म गीतों के इतिहास का एक अलग अध्याय हैं। Hindi filmon ke gane ab hindi kavita aur urdu shayri ka vistar-bhar nahin rah ge, ab ve apne aap mein ek svtantr vidha hain. Unke likhne ka dhang alag hai. Ve apni baat bhi alag dhang se kahte hain. Unki bimbon ki yojna, shabdon ka chayan aur sangit ke saath unki hamaqadmi unhen padhi janevali kavita se alag banati hai. Isaliye unko path mein dekhna bhi unhen jaise ne sire se janna hota hai. Aur ye piyush mishra ke gane hain. Piyush mishra jo abhineta hain, sangitkar hain, aur thiyetar ke ek bade naam hi nahin, ek muhavra rahe hain. Ye gane unhonne ya to filmon ke liye hi likhe ya apne liye likhe aur filmon ne unhen le liya. Piyush mishra ki bimb-chetna ka vistar bahut vyapak hai. Ve samaj se, desh-videsh ki rajniti se, vyakti aur samaj ke aapsi dvandv se vichlit rahte hain, un par sochte hain. Aur isaliye jab ve kisi diye ge film-drishya ko apne git ki lay mein vijualaij karte hain to unki kalpna uski simaon ko langhakar dur-dur tak jati hai. Ve samne maujud patron ke parivesh ko vyapak samajik-rajnitik sandarbhon mein rupayit karte hain aur parde par maujud drishya ki sakshi aankhon ko sochne ka ek bada paridrishya dete hain. Piyush mishra ke git charitron ke sanvad nahin hote, unki niyati ki vyakhya hote hain. ‘gaings auf vasepur’ aur ‘gulal’ jaisi filmon ke gane hindi film giton ke itihas ka ek alag adhyay hain.