Anya Se Ananya

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Anya Se Ananya

Anya Se Ananya

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारतीय-साहित्य की विलक्षण बुद्धिजीवी डॉ. प्रभा खेतान दर्शन, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, विश्व-बाज़ार और उद्योग-जगत की गहरी जानकार थीं और सबसे बढ़कर थीं—सक्रिय स्त्रीवादी लेखिका। उन्होंने विश्व के लगभग सारे स्त्रीवादी लेखन को घोट ही नहीं डाला, बल्कि अपने समाज में उपनिवेशित स्त्री के शोषण, मनोविज्ञान, मुक्ति के संघर्ष पर विचारोत्तेजक लेखन भी किया।
और उसी क्रम में उन्होंने लिखी यह आत्मकथा—‘अन्या से अन्यया’। ‘हंस’ में धारावाहिक रूप से प्रकाशित इस आत्मकथा को जहाँ एक बोल्ड और निर्भीक आत्मस्वीकृति की साहसिक गाथा के रूप में अकुंठ प्रशंसाएँ मिलीं, वहीं बेशर्म और निर्लज्ज स्त्री द्वारा अपने आपको चौराहे पर नंगा करने की कुत्सित बेशर्मी का नाम भी दिया गया...।
महिला उद्योगपति प्रभा खेतान का यही दुस्साहस क्या कम था कि उन्‍होंने मारवाड़ी पुरुषों की दुनिया में घुसपैठ की। कलकत्ता चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स की अध्यक्ष बनीं। एक के बाद एक उपन्यास और वैचारिक पुस्‍तकों का लेखन किया। वही प्रभा ‘अन्या से अनन्या’ में एक अविवाहित स्त्री, विवाहित डॉक्टर के धुआँधार प्रेम में पागल है। दीवानगी की इस हद को पाठक क्या कहेंगे कि प्रभा डॉ. सर्राफ़ की इच्छानुसार गर्भपात कराती है और खुलकर अपने आपको डॉ. सर्राफ़ की प्रेमिका घोषित करती है। स्वयं एक अत्‍यन्त सफल, सम्पन्न और दृढ़ संकल्पी महिला परम्परागत ‘रखैल’ का साँचा तोड़ती है, क्योंकि वह डॉ. सर्राफ़ पर आश्रित नहीं है। वह भावनात्मक निर्भरता की खोज में एक असुरक्षित निहायत रूढ़िग्रस्त परिवार की युवती है। प्रभा जानती थीं कि वह व्यक्तिगत रूप से ही असुरक्षित नहीं है, बल्कि जिस समाज का हिस्सा है, वह भी आर्थिक और राजनैतिक रूप से उतना ही असुरक्षित उद्वेलित है। तत्कालीन बंगाल का सारा युवा-वर्ग इस असुरक्षा के विरुद्ध संघर्ष में कूद पड़ा है और प्रभा अपनी इस असुरक्षा की यातना को निहायत निजी धरातल पर समझना चाह रही हैं...एक तूफ़ानी प्यार में डूबकर...या एक बुर्जुआ प्यार से मुक्त होने की यातना जीती हुई...।
इस तरह देखें तो प्रभा खेतान की यह आत्मकथा अपनी ईमानदारी के अनेक स्तरों पर एक निजी राजनैतिक दस्तावेज़ है—बेहद बेबाक, वर्जनाहीन और उत्तेजक...। Bhartiy-sahitya ki vilakshan buddhijivi dau. Prbha khetan darshan, arthshastr, samajshastr, vishv-bazar aur udyog-jagat ki gahri jankar thin aur sabse badhkar thin—sakriy strivadi lekhika. Unhonne vishv ke lagbhag sare strivadi lekhan ko ghot hi nahin dala, balki apne samaj mein upaniveshit stri ke shoshan, manovigyan, mukti ke sangharsh par vicharottejak lekhan bhi kiya. Aur usi kram mein unhonne likhi ye aatmaktha—‘anya se anyya’. ‘hans’ mein dharavahik rup se prkashit is aatmaktha ko jahan ek bold aur nirbhik aatmasvikriti ki sahsik gatha ke rup mein akunth prshansayen milin, vahin besharm aur nirlajj stri dvara apne aapko chaurahe par nanga karne ki kutsit besharmi ka naam bhi diya gaya. . . .
Mahila udyogapati prbha khetan ka yahi dussahas kya kam tha ki un‍honne marvadi purushon ki duniya mein ghuspaith ki. Kalkatta chaimbar auf kaumars ki adhyaksh banin. Ek ke baad ek upanyas aur vaicharik pus‍takon ka lekhan kiya. Vahi prbha ‘anya se ananya’ mein ek avivahit stri, vivahit dauktar ke dhuandhar prem mein pagal hai. Divangi ki is had ko pathak kya kahenge ki prbha dau. Sarraf ki ichchhanusar garbhpat karati hai aur khulkar apne aapko dau. Sarraf ki premika ghoshit karti hai. Svayan ek at‍yant saphal, sampann aur dridh sankalpi mahila parampragat ‘rakhail’ ka sancha todti hai, kyonki vah dau. Sarraf par aashrit nahin hai. Vah bhavnatmak nirbharta ki khoj mein ek asurakshit nihayat rudhigrast parivar ki yuvti hai. Prbha janti thin ki vah vyaktigat rup se hi asurakshit nahin hai, balki jis samaj ka hissa hai, vah bhi aarthik aur rajanaitik rup se utna hi asurakshit udvelit hai. Tatkalin bangal ka sara yuva-varg is asuraksha ke viruddh sangharsh mein kud pada hai aur prbha apni is asuraksha ki yatna ko nihayat niji dharatal par samajhna chah rahi hain. . . Ek tufani pyar mein dubkar. . . Ya ek burjua pyar se mukt hone ki yatna jiti hui. . . .
Is tarah dekhen to prbha khetan ki ye aatmaktha apni iimandari ke anek stron par ek niji rajanaitik dastavez hai—behad bebak, varjnahin aur uttejak. . . .

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products