BackBack
-11%

Anviti - Khand : 2

Rs. 1,495 Rs. 1,331

कुँवर नारायण हमारे समय के बड़े कवि हैं। यदि विश्व के कुछ चुनिन्दा कवियों की तालिका बनाई जाए तो उसमें निस्सन्देह उनका स्थान होगा। वे आधुनिक बोध और संवेदना के उन कवियों में हैं जिन्होंने सदैव कविता को मनुष्यता के आभरण के रूप में लिया है। कुँवर नारायण का काव्य... Read More

BlackBlack
Description

कुँवर नारायण हमारे समय के बड़े कवि हैं। यदि विश्व के कुछ चुनिन्दा कवियों की तालिका बनाई जाए तो उसमें निस्सन्देह उनका स्थान होगा। वे आधुनिक बोध और संवेदना के उन कवियों में हैं जिन्होंने सदैव कविता को मनुष्यता के आभरण के रूप में लिया है।
कुँवर नारायण का काव्य मानवीय गुणों का ही नहीं, मानवीय संस्कारों का काव्य है। कविता में उनका प्रवेश चक्रव्यूह से हुआ। अपने गठन में कलात्मक किन्तु दार्शनिक प्रतीतियों वाले इस संग्रह में जीवन की पेचीदगियों को कवि ने सलीक़े से उठाया है। ‘आत्मजयी’ की लगभग अधसदी के बाद ‘वाजश्रवा के बहाने’ की रचना बतौर कुँवर नारायण यह भी जताने के लिए है कि यदि ‘आत्मजयी’ में मृत्यु की ओर से जीवन को देखा गया है तो ‘वाजश्रवा के बहाने’ में जीवन की ओर से मृत्यु को देखने की एक कोशिश है। उनके इस कथन को हम इस रोशनी में देख सकते हैं कि सारा कुछ हमारे देखने के तरीक़े पर निर्भर है—कुछ ऐसे कि यह जीवन विवेक भी एक श्लोक की तरह सुगठित और अकाट्य हो।
उनके रचना-संसार पर समय-समय पर लिखा जाता रहा है। अनेक शोधार्थियों ने उनके व्यक्तित्व और साहित्य पर कार्य किया है। कहना न होगा कि कुँवर नारायण का कृतित्व बहुवस्तुस्पर्शी है। वर्ष 2002 से पहले तक उनके व्यक्तित्व एवं कृतियों पर लिखे महत्त्वपूर्ण लेख ‘उपस्थिति’ नामक संचयन में समाविष्ट हैं। उसके पश्चात् लिखे निबन्धों का यह संकलन दो खंडों में है : ‘अन्वय’ और ‘अन्विति’। ‘अन्विति’ उनकी कृतियों को केन्द्र में रखकर लिखे आलोचनात्मक निबन्धों का चयन है। इसमें हाल की कुछ प्रकाशित कृतियों को छोड़कर बाक़ी कृतियों पर लिखे लेखों को शामिल किया गया है जो उपस्थिति में सम्मिलित नहीं हैं। अधिकांश लेख 2015 तक के हैं जब कुँवर नारायण का प्रबन्ध-काव्य ‘कुमारजीव’ प्रकाशित हुआ।
आशा है, पाठकों को ये दोनों खंड उपयोगी और प्रासंगिक लगेंगे तथा कुँवर नारायण के साहित्य के प्रति रुचि विकसित करेंगे। Kunvar narayan hamare samay ke bade kavi hain. Yadi vishv ke kuchh chuninda kaviyon ki talika banai jaye to usmen nissandeh unka sthan hoga. Ve aadhunik bodh aur sanvedna ke un kaviyon mein hain jinhonne sadaiv kavita ko manushyta ke aabhran ke rup mein liya hai. Kunvar narayan ka kavya manviy gunon ka hi nahin, manviy sanskaron ka kavya hai. Kavita mein unka prvesh chakravyuh se hua. Apne gathan mein kalatmak kintu darshnik prtitiyon vale is sangrah mein jivan ki pechidagiyon ko kavi ne saliqe se uthaya hai. ‘atmajyi’ ki lagbhag adhasdi ke baad ‘vajashrva ke bahane’ ki rachna bataur kunvar narayan ye bhi jatane ke liye hai ki yadi ‘atmajyi’ mein mrityu ki or se jivan ko dekha gaya hai to ‘vajashrva ke bahane’ mein jivan ki or se mrityu ko dekhne ki ek koshish hai. Unke is kathan ko hum is roshni mein dekh sakte hain ki sara kuchh hamare dekhne ke tariqe par nirbhar hai—kuchh aise ki ye jivan vivek bhi ek shlok ki tarah sugthit aur akatya ho.
Unke rachna-sansar par samay-samay par likha jata raha hai. Anek shodharthiyon ne unke vyaktitv aur sahitya par karya kiya hai. Kahna na hoga ki kunvar narayan ka krititv bahuvastusparshi hai. Varsh 2002 se pahle tak unke vyaktitv evan kritiyon par likhe mahattvpurn lekh ‘upasthiti’ namak sanchyan mein samavisht hain. Uske pashchat likhe nibandhon ka ye sanklan do khandon mein hai : ‘anvay’ aur ‘anviti’. ‘anviti’ unki kritiyon ko kendr mein rakhkar likhe aalochnatmak nibandhon ka chayan hai. Ismen haal ki kuchh prkashit kritiyon ko chhodkar baqi kritiyon par likhe lekhon ko shamil kiya gaya hai jo upasthiti mein sammilit nahin hain. Adhikansh lekh 2015 tak ke hain jab kunvar narayan ka prbandh-kavya ‘kumarjiv’ prkashit hua.
Aasha hai, pathkon ko ye donon khand upyogi aur prasangik lagenge tatha kunvar narayan ke sahitya ke prati ruchi viksit karenge.