Look Inside
Anveshan
Anveshan
Anveshan
Anveshan

Anveshan

Regular price Rs. 70
Sale price Rs. 70 Regular price Rs. 75
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Anveshan

Anveshan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

संवेदनशील कथाकार अखिलेश का पहला उपन्यास ‘अन्वेषण’ जीवन-संग्राम की एक विराट् प्रयोगशाला है जहाँ उच्छल प्रेम, श्रमाकांक्षी भुजाओं और जन-विह्वल आवेगों को हर पल एक अम्ल परीक्षण से गुज़रना पड़ता है। सहज मानवीय ऊर्जा से भरा इसका नायक एक चरित्र नहीं, हमारे समय की आत्मा की मुक्ति की छटपटाहट का प्रतीक है। उसमें ख़ून की वही सुर्ख़ी है, जो रोज़-रोज़ अपमान, निराशा और असफलता के थपेड़ों से काली होने के बावजूद सतत संघर्षों के महासमर में मुँह चुराकर जड़ता की चुप्पी में प्रवेश नहीं करती, बल्कि अँधेरी दुनिया की भयावह छायाओं में रहते हुए भी उस उजाले का ‘अन्वेषण’ करती रहती है जो वर्तमान बर्बर और आत्माहीन समाज में लगातार ग़ायब होती जा रही है। ‘अर्थ’ के इस्पाती इरादों के आगे वह बौना बनकर अपनी पहचान नहीं खोता, बल्कि ठोस धरातल पर खड़ा रहकर चुनौतियों को स्वीकार करता है। यही कारण है कि द्वन्द्व में फँसा नायक बदल रहे समय और समाज के संकट की पहचान बन गया है।
‘अन्वेषण’ की भाषा पारदर्शी है। कहीं-कहीं वह स्फटिक-सी दृढ़ और सख़्त भी हो गई है। इसमें एक ऐसा औपन्यासिक रूप पाने का प्रयत्न है, जिसमें काव्य जैसी एकनिष्ठ एकाग्रता सन्तुलित रूप में विकसित हुई है।
सही मायने में ‘अन्वेषण’ आज के आदमी के भीतर प्रश्नों की जमी बर्फ़ के नीचे दबी चेतना को मुखर करने की सफल चेष्टा है। Sanvedanshil kathakar akhilesh ka pahla upanyas ‘anveshan’ jivan-sangram ki ek virat pryogshala hai jahan uchchhal prem, shrmakankshi bhujaon aur jan-vihval aavegon ko har pal ek aml parikshan se guzarna padta hai. Sahaj manviy uurja se bhara iska nayak ek charitr nahin, hamare samay ki aatma ki mukti ki chhataptahat ka prtik hai. Usmen khun ki vahi surkhi hai, jo roz-roz apman, nirasha aur asaphalta ke thapedon se kali hone ke bavjud satat sangharshon ke mahasmar mein munh churakar jadta ki chuppi mein prvesh nahin karti, balki andheri duniya ki bhayavah chhayaon mein rahte hue bhi us ujale ka ‘anveshan’ karti rahti hai jo vartman barbar aur aatmahin samaj mein lagatar gayab hoti ja rahi hai. ‘arth’ ke ispati iradon ke aage vah bauna bankar apni pahchan nahin khota, balki thos dharatal par khada rahkar chunautiyon ko svikar karta hai. Yahi karan hai ki dvandv mein phansa nayak badal rahe samay aur samaj ke sankat ki pahchan ban gaya hai. ‘anveshan’ ki bhasha pardarshi hai. Kahin-kahin vah sphtik-si dridh aur sakht bhi ho gai hai. Ismen ek aisa aupanyasik rup pane ka pryatn hai, jismen kavya jaisi eknishth ekagrta santulit rup mein viksit hui hai.
Sahi mayne mein ‘anveshan’ aaj ke aadmi ke bhitar prashnon ki jami barf ke niche dabi chetna ko mukhar karne ki saphal cheshta hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products