BackBack

Anuvad Vigyan Ki Bhumika

Krishna Kumar Goswami

Rs. 1,495

अनुवाद आधुनिक युग में एक सामाजिक आवश्यकता बन गया है। भूमंडलीकरण से समूचा संसार ‘विश्वग्राम’ के रूप में उभरकर आया है और इसी कारण विभिन्न भाषा-भाषी समुदायों तथा ज्ञानक्षेत्रों में अनुवाद की महत्ता और सार्थकता में वृद्धि हुई है। इधर भाषाविज्ञान और व्यतिरेकी विश्लेषण के परिप्रेक्ष्य में हो रहे अनुवाद... Read More

HardboundHardbound
Description
अनुवाद आधुनिक युग में एक सामाजिक आवश्यकता बन गया है। भूमंडलीकरण से समूचा संसार ‘विश्वग्राम’ के रूप में उभरकर आया है और इसी कारण विभिन्न भाषा-भाषी समुदायों तथा ज्ञानक्षेत्रों में अनुवाद की महत्ता और सार्थकता में वृद्धि हुई है। इधर भाषाविज्ञान और व्यतिरेकी विश्लेषण के परिप्रेक्ष्य में हो रहे अनुवाद चिन्तन से अनुवाद सिद्धान्त अपेक्षाकृत नए ज्ञानक्षेत्र के रूप में उभरा है तथा इसके कलात्मक स्वरूप के साथ-साथ वैज्ञानिक स्वरूप को भी स्पष्ट करने का प्रयास हो रहा है। इसीलिए अनुवाद ने एक बहुविधात्मक और अपेक्षाकृत स्वायत्त विषय के रूप में अपनी पहचान बना ली है। इसी परिप्रेक्ष्य में प्रस्तुत पुस्तक में सैद्धान्तिक चिन्तन करते हुए उसे सामान्य अनुवाद और आशु-अनुवाद की परिधि से बाहर लाकर मशीनी अनुवाद के सोपान तक लाने का प्रयास किया गया है। ‘अनुप्रायोगिक आयाम’ में साहित्य, विज्ञान, जनसंचार, वाणिज्य, विधि आदि विभिन्न ज्ञानक्षेत्रों को दूसरी भाषा में ले आने की इसकी विशिष्टताओं की जानकारी दी गई है। ‘विविध अवधारणाएँ’ आयाम में तुलनात्मक साहित्य, भाषा-शिक्षण, शब्दकोश आदि से अनुवाद के सम्‍बन्‍धों के विवेचन का जहाँ प्रयास है, वहाँ अनुसृजन और अनुवाद की अपनी अलग-अलग सत्ता दिखाने की भी कोशिश है।
अनुवाद की महत्ता और प्रासंगिकता तभी सार्थक होगी जब इसकी भारतीय और पाश्चात्य परम्परा का भी सिंहावलोकन किया जाए। इस प्रकार अनुवाद के विभिन्न आयामों और पहलुओं पर यह प्रथम प्रयास है। अतः उच्चस्तरीय अध्ययन तथा गम्भीर अध्येताओं के लिए इसकी सार्थक और उपयोगी भूमिका रहेगी। Anuvad aadhunik yug mein ek samajik aavashyakta ban gaya hai. Bhumandlikran se samucha sansar ‘vishvagram’ ke rup mein ubharkar aaya hai aur isi karan vibhinn bhasha-bhashi samudayon tatha gyanakshetron mein anuvad ki mahatta aur sarthakta mein vriddhi hui hai. Idhar bhashavigyan aur vyatireki vishleshan ke pariprekshya mein ho rahe anuvad chintan se anuvad siddhant apekshakrit ne gyanakshetr ke rup mein ubhra hai tatha iske kalatmak svrup ke sath-sath vaigyanik svrup ko bhi spasht karne ka pryas ho raha hai. Isiliye anuvad ne ek bahuvidhatmak aur apekshakrit svayatt vishay ke rup mein apni pahchan bana li hai. Isi pariprekshya mein prastut pustak mein saiddhantik chintan karte hue use samanya anuvad aur aashu-anuvad ki paridhi se bahar lakar mashini anuvad ke sopan tak lane ka pryas kiya gaya hai. ‘anuprayogik aayam’ mein sahitya, vigyan, jansanchar, vanijya, vidhi aadi vibhinn gyanakshetron ko dusri bhasha mein le aane ki iski vishishttaon ki jankari di gai hai. ‘vividh avdharnayen’ aayam mein tulnatmak sahitya, bhasha-shikshan, shabdkosh aadi se anuvad ke sam‍ban‍dhon ke vivechan ka jahan pryas hai, vahan anusrijan aur anuvad ki apni alag-alag satta dikhane ki bhi koshish hai. Anuvad ki mahatta aur prasangikta tabhi sarthak hogi jab iski bhartiy aur pashchatya parampra ka bhi sinhavlokan kiya jaye. Is prkar anuvad ke vibhinn aayamon aur pahaluon par ye prtham pryas hai. Atः uchchastriy adhyyan tatha gambhir adhyetaon ke liye iski sarthak aur upyogi bhumika rahegi.
Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8126715411
Pages 496p
Publishing Year

Anuvad Vigyan Ki Bhumika

अनुवाद आधुनिक युग में एक सामाजिक आवश्यकता बन गया है। भूमंडलीकरण से समूचा संसार ‘विश्वग्राम’ के रूप में उभरकर आया है और इसी कारण विभिन्न भाषा-भाषी समुदायों तथा ज्ञानक्षेत्रों में अनुवाद की महत्ता और सार्थकता में वृद्धि हुई है। इधर भाषाविज्ञान और व्यतिरेकी विश्लेषण के परिप्रेक्ष्य में हो रहे अनुवाद चिन्तन से अनुवाद सिद्धान्त अपेक्षाकृत नए ज्ञानक्षेत्र के रूप में उभरा है तथा इसके कलात्मक स्वरूप के साथ-साथ वैज्ञानिक स्वरूप को भी स्पष्ट करने का प्रयास हो रहा है। इसीलिए अनुवाद ने एक बहुविधात्मक और अपेक्षाकृत स्वायत्त विषय के रूप में अपनी पहचान बना ली है। इसी परिप्रेक्ष्य में प्रस्तुत पुस्तक में सैद्धान्तिक चिन्तन करते हुए उसे सामान्य अनुवाद और आशु-अनुवाद की परिधि से बाहर लाकर मशीनी अनुवाद के सोपान तक लाने का प्रयास किया गया है। ‘अनुप्रायोगिक आयाम’ में साहित्य, विज्ञान, जनसंचार, वाणिज्य, विधि आदि विभिन्न ज्ञानक्षेत्रों को दूसरी भाषा में ले आने की इसकी विशिष्टताओं की जानकारी दी गई है। ‘विविध अवधारणाएँ’ आयाम में तुलनात्मक साहित्य, भाषा-शिक्षण, शब्दकोश आदि से अनुवाद के सम्‍बन्‍धों के विवेचन का जहाँ प्रयास है, वहाँ अनुसृजन और अनुवाद की अपनी अलग-अलग सत्ता दिखाने की भी कोशिश है।
अनुवाद की महत्ता और प्रासंगिकता तभी सार्थक होगी जब इसकी भारतीय और पाश्चात्य परम्परा का भी सिंहावलोकन किया जाए। इस प्रकार अनुवाद के विभिन्न आयामों और पहलुओं पर यह प्रथम प्रयास है। अतः उच्चस्तरीय अध्ययन तथा गम्भीर अध्येताओं के लिए इसकी सार्थक और उपयोगी भूमिका रहेगी। Anuvad aadhunik yug mein ek samajik aavashyakta ban gaya hai. Bhumandlikran se samucha sansar ‘vishvagram’ ke rup mein ubharkar aaya hai aur isi karan vibhinn bhasha-bhashi samudayon tatha gyanakshetron mein anuvad ki mahatta aur sarthakta mein vriddhi hui hai. Idhar bhashavigyan aur vyatireki vishleshan ke pariprekshya mein ho rahe anuvad chintan se anuvad siddhant apekshakrit ne gyanakshetr ke rup mein ubhra hai tatha iske kalatmak svrup ke sath-sath vaigyanik svrup ko bhi spasht karne ka pryas ho raha hai. Isiliye anuvad ne ek bahuvidhatmak aur apekshakrit svayatt vishay ke rup mein apni pahchan bana li hai. Isi pariprekshya mein prastut pustak mein saiddhantik chintan karte hue use samanya anuvad aur aashu-anuvad ki paridhi se bahar lakar mashini anuvad ke sopan tak lane ka pryas kiya gaya hai. ‘anuprayogik aayam’ mein sahitya, vigyan, jansanchar, vanijya, vidhi aadi vibhinn gyanakshetron ko dusri bhasha mein le aane ki iski vishishttaon ki jankari di gai hai. ‘vividh avdharnayen’ aayam mein tulnatmak sahitya, bhasha-shikshan, shabdkosh aadi se anuvad ke sam‍ban‍dhon ke vivechan ka jahan pryas hai, vahan anusrijan aur anuvad ki apni alag-alag satta dikhane ki bhi koshish hai. Anuvad ki mahatta aur prasangikta tabhi sarthak hogi jab iski bhartiy aur pashchatya parampra ka bhi sinhavlokan kiya jaye. Is prkar anuvad ke vibhinn aayamon aur pahaluon par ye prtham pryas hai. Atः uchchastriy adhyyan tatha gambhir adhyetaon ke liye iski sarthak aur upyogi bhumika rahegi.