Look Inside
Anuprayukt Bhashavigyan : Siddhant Evam Prayog
Anuprayukt Bhashavigyan : Siddhant Evam Prayog
Anuprayukt Bhashavigyan : Siddhant Evam Prayog
Anuprayukt Bhashavigyan : Siddhant Evam Prayog

Anuprayukt Bhashavigyan : Siddhant Evam Prayog

Regular price Rs. 884
Sale price Rs. 884 Regular price Rs. 950
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Anuprayukt Bhashavigyan : Siddhant Evam Prayog

Anuprayukt Bhashavigyan : Siddhant Evam Prayog

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अप्रयुक्त भाषाविज्ञान अपने सिद्धान्त और प्रणाली के आधार पर भाषा से सम्बन्धित ज्ञान के अन्य क्षेत्रों के अध्ययन विश्लेषण के लिए नया कार्यक्षेत्र खोलता है। इस नए कार्यक्षेत्र के प्रति प्रो. रवीन्द्रनाथ श्रीवास्तव सचेत रहे तथा इससे उनके भाषावैज्ञानिक की संलग्नता भी निरन्तर बनी रही। उनका यह दृढ़ मत था कि भाषाविदों को ही आज अनुप्रयुक्त भाषाविज्ञान की सर्वाधिक आवश्यकता है। वे यह मानते थे कि भाषाविद् ही अपने भाषावैज्ञानिक ज्ञान का अनुप्रयोग करते हुए भाषा-अध्ययन को प्रौढ़ तथा उपयोगी बना सकता है। इसमें सन्देह नहीं कि समाज में भाषा-प्रयोग, भाषा का कलात्मक प्रयोग, भाषा का शिक्षण आदि कई ऐसे क्षेत्र हैं जो अनुप्रयुक्त भाषाविज्ञान के उपयोग के अभाव में उजागर हो ही नहीं सकते। यदि गम्भीरता से देखा जाए तो मातृभाषा और अन्य भाषाओं के शिक्षक, साहित्य-समीक्षक, अनुवादक, कोशकार सभी को भाषावैज्ञानिक ज्ञान की आवश्यकता पड़ती है। इसके साथ ही जो अध्येता साक्षरता-अभियान, लेखन-पद्धति के विकास, वर्तनी-शोधन, भाषा-नीति, कंप्यूटर-भाषा जैसे क्षेत्रों से सम्बन्ध हैं, वे भी भाषावैज्ञानिक अनुप्रयोग के अभाव में अपेक्षित लक्ष्य की प्राप्ति नहीं कर सकते। अनुप्रयुक्त भाषाविज्ञान के विषय-क्षेत्र एवं उसकी कार्य-प्रणाली पर काफ़ी समय तक भ्रामक विचारों की धुंध छाई रही। प्रो. श्रीवास्तव ने इस प्रकार अवैज्ञानिक अन्तर्विरोधों को शान्त करने के साथ ही अपनी तार्किक और वैज्ञानिक विवेचन-पद्धति और इसके सभी उपवर्गों को एक भ्रान्तिमुक्त दिशा दी। उन्होंने यह प्रतिपादित और प्रमाणित किया कि भाषावैज्ञानिक नियमों के अनुप्रयोग के लक्ष्य भिन्न होते हैं। लक्ष्य-भेद से ही अनुप्रयुक्त भाषाविज्ञान के भिन्न सन्दर्भ उपजते हैं; यही उसकी भिन्न शाखाओं के निर्माण और विकास का कारण बनते हैं। इन और ऐसे अनेक प्रश्नों पर यह पुस्तक
प्रो. श्रीवास्तव का नज़रिया प्रस्तुत करती है। इनमें से कई लेख कालक्रम के लम्बे अन्तराल में लिखे गए हैं। इन्हें क्रमबद्ध ढंग से उपलब्ध कराना इस संकलन के प्रकाशन का प्रमुख लक्ष्य है। हमारा यह भी उद्देश्य है कि समय के साथ प्रो. श्रीवास्तव के चिन्तन में क्रमशः प्रखरता, वैज्ञानिकता और व्यापकता के जो आयाम जुड़ते चले गए उनकी पहचान हो सके। पुस्तक के व्यापक फ़लक और इसकी वैचारिक गहराई को देखते हुए इसे हिन्‍दी में अनुप्रयुक्त भाषाविज्ञान की पहली सम्पूर्ण कृति कहा जा सकता है। Apryukt bhashavigyan apne siddhant aur prnali ke aadhar par bhasha se sambandhit gyan ke anya kshetron ke adhyyan vishleshan ke liye naya karyakshetr kholta hai. Is ne karyakshetr ke prati pro. Ravindrnath shrivastav sachet rahe tatha isse unke bhashavaigyanik ki sanlagnta bhi nirantar bani rahi. Unka ye dridh mat tha ki bhashavidon ko hi aaj anupryukt bhashavigyan ki sarvadhik aavashyakta hai. Ve ye mante the ki bhashavid hi apne bhashavaigyanik gyan ka anupryog karte hue bhasha-adhyyan ko praudh tatha upyogi bana sakta hai. Ismen sandeh nahin ki samaj mein bhasha-pryog, bhasha ka kalatmak pryog, bhasha ka shikshan aadi kai aise kshetr hain jo anupryukt bhashavigyan ke upyog ke abhav mein ujagar ho hi nahin sakte. Yadi gambhirta se dekha jaye to matribhasha aur anya bhashaon ke shikshak, sahitya-samikshak, anuvadak, koshkar sabhi ko bhashavaigyanik gyan ki aavashyakta padti hai. Iske saath hi jo adhyeta saksharta-abhiyan, lekhan-paddhati ke vikas, vartni-shodhan, bhasha-niti, kampyutar-bhasha jaise kshetron se sambandh hain, ve bhi bhashavaigyanik anupryog ke abhav mein apekshit lakshya ki prapti nahin kar sakte. Anupryukt bhashavigyan ke vishay-kshetr evan uski karya-prnali par kafi samay tak bhramak vicharon ki dhundh chhai rahi. Pro. Shrivastav ne is prkar avaigyanik antarvirodhon ko shant karne ke saath hi apni tarkik aur vaigyanik vivechan-paddhati aur iske sabhi upvargon ko ek bhrantimukt disha di. Unhonne ye pratipadit aur prmanit kiya ki bhashavaigyanik niymon ke anupryog ke lakshya bhinn hote hain. Lakshya-bhed se hi anupryukt bhashavigyan ke bhinn sandarbh upajte hain; yahi uski bhinn shakhaon ke nirman aur vikas ka karan bante hain. In aur aise anek prashnon par ye pustakPro. Shrivastav ka nazariya prastut karti hai. Inmen se kai lekh kalakram ke lambe antral mein likhe ge hain. Inhen krambaddh dhang se uplabdh karana is sanklan ke prkashan ka prmukh lakshya hai. Hamara ye bhi uddeshya hai ki samay ke saath pro. Shrivastav ke chintan mein krmashः prakharta, vaigyanikta aur vyapakta ke jo aayam judte chale ge unki pahchan ho sake. Pustak ke vyapak falak aur iski vaicharik gahrai ko dekhte hue ise hin‍di mein anupryukt bhashavigyan ki pahli sampurn kriti kaha ja sakta hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products