Look Inside
Antim Sataren
Antim Sataren

Antim Sataren

Regular price Rs. 371
Sale price Rs. 371 Regular price Rs. 399
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Antim Sataren

Antim Sataren

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कथाकार मोहन राकेश के साथ बिताए अपने समय को लेकर अनीता राकेश के संस्मरणों की दो पुस्तकें हिन्दी पाठकों की प्रिय पुस्तकों में पहले से शामिल हैं—'चन्द सतरें और' तथा 'सतरें और सतरें'। उसी शृंखला में यह उनकी अगली पुस्तक है जिसे उन्होंने 'अन्तिम सतरें' नाम दिया है। इस पुस्तक में उन्होंने जितना अपने बीते समय का अवलोकन किया है, उतने ही चित्र अपने वर्तमान से भी प्रस्तुत किए हैं। बीते दिनों की यादों में जहाँ राकेश के साथ हुई कुछ झड़पें उन्हें याद आती हैं, वहीं राकेश की माताजी के साथ गुजरे अपने सबसे पूर्ण, सबसे आर्द्र क्षणों को भी वे याद करती हैं। बहैसियत लेखक राकेश जब अपने पति और पिता रूप के साथ लगभग नाइंसाफ़ी पर उतर आते, तब उन्हें अपने सिर पर अम्मा का ही साया मिलता, राकेश जब अपने कमरे का दरवाज़ा बन्द कर इनसानी रिश्तों की पेचीदगियों को सुलझाने की लेखकीय कोशिशें कर रहे होते, अनीता जी अम्मा के स्नेह के उसी साये तले रहतीं, खातीं-पीतीं, सोतीं, बीमार होतीं और फिर ठीक होतीं। इस समय वे अपने एक बेटे के साथ दिल्ली में रहती हैं। इस पुस्तक में राकेश और अम्मा के अलावा सबसे ज्यादा जगह उसी को मिली है। यह पुस्तक राकेश के व्यक्तित्व के कुछ पहलुओं से हमें परिचित कराती है, लेकिन उससे ज़्यादा इस समय में जबकि साहित्य और पुस्तकों का बाज़ार बाक़ी बाज़ारों से मुक़ाबला करने के लिए तरह-तरह की मुद्राओं से लगभग खिजा रहा है, लेखकों और लेखकों के आश्रितों की स्थिति पर हमें सोचने पर विवश करती है। Kathakar mohan rakesh ke saath bitaye apne samay ko lekar anita rakesh ke sansmarnon ki do pustken hindi pathkon ki priy pustkon mein pahle se shamil hain—chand satren aur tatha satren aur satren. Usi shrinkhla mein ye unki agli pustak hai jise unhonne antim satren naam diya hai. Is pustak mein unhonne jitna apne bite samay ka avlokan kiya hai, utne hi chitr apne vartman se bhi prastut kiye hain. Bite dinon ki yadon mein jahan rakesh ke saath hui kuchh jhadpen unhen yaad aati hain, vahin rakesh ki mataji ke saath gujre apne sabse purn, sabse aardr kshnon ko bhi ve yaad karti hain. Bahaisiyat lekhak rakesh jab apne pati aur pita rup ke saath lagbhag nainsafi par utar aate, tab unhen apne sir par amma ka hi saya milta, rakesh jab apne kamre ka darvaza band kar insani rishton ki pechidagiyon ko suljhane ki lekhkiy koshishen kar rahe hote, anita ji amma ke sneh ke usi saye tale rahtin, khatin-pitin, sotin, bimar hotin aur phir thik hotin. Is samay ve apne ek bete ke saath dilli mein rahti hain. Is pustak mein rakesh aur amma ke alava sabse jyada jagah usi ko mili hai. Ye pustak rakesh ke vyaktitv ke kuchh pahaluon se hamein parichit karati hai, lekin usse jyada is samay mein jabaki sahitya aur pustkon ka bazar baqi bazaron se muqabla karne ke liye tarah-tarah ki mudraon se lagbhag khija raha hai, lekhkon aur lekhkon ke aashriton ki sthiti par hamein sochne par vivash karti hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products