BackBack
-11%

Anrahani Rahane Do

Rs. 350 Rs. 312

विचारक और संगीतविद् मुकुन्द लाठ चार दशकों से अधिक कविता लिखते रहे हैं। उनका यह संग्रह 1970 से लेकर 2012 के दौरान लिखी कविताओं का संग्रह है। जितना अचरज की बात है कि उन जैसा अधीत विद्वान चुपचाप इतने बरसों से कविता लिख रहा है, उससे कम अचरज की बात... Read More

BlackBlack
Description

विचारक और संगीतविद् मुकुन्द लाठ चार दशकों से अधिक कविता लिखते रहे हैं। उनका यह संग्रह 1970 से लेकर 2012 के दौरान लिखी कविताओं का संग्रह है। जितना अचरज की बात है कि उन जैसा अधीत विद्वान चुपचाप इतने बरसों से कविता लिख रहा है, उससे कम अचरज की बात यह नहीं है कि ये कविताएँ किसी भी काव्य-निकष या काव्य-रुचि के आधार पर कविताएँ हैं।
इन कविताओं में शास्त्र और लोक दोनों समाहित हैं—उनमें परम्परा की आधुनिक अन्तर्ध्वनियाँ हैं और आधुनिकता के कई मर्म और उत्सुकताएँ गुँथी हुई हैं। वे बहुत सहजता से तत्सम और तद्भव को एक साथ साधती हैं। उन पर विचार हावी नहीं है और वे कविता की काया में हस्तक्षेप नहीं करते हैं बल्कि अनुभव की तरंगित सघनता में घुल-मिलकर आते हैं।
हमारे समय या शायद सभी समयों में मनुष्य की स्थायी विडम्बना यह है कि उसकी स्थिति हमेशा ही अन्तर्विरोध की है। मुकुन्द लाठ की कविता इस स्थायी और अटल अन्तर्विरोध से न मुँह मोड़ती है, न ही उसको सरलीकृत करती है।
मुकुन्द जी के यहाँ शब्द और बिम्ब की लीला के साथ-साथ गहरा विनोद भाव भी सक्रिय है।
कविता अगर एक स्तर पर सार्थक होने के लिए एक समूचे जीवन को उसकी जटिलता और सूक्ष्मता में प्रकट करती है और एक ऐसी मानवीय गरमाहट और हमआहंगी देती है जो अन्यथा सम्भव नहीं है तो मुकुन्द लाठ की कविता भरी-पूरी जीवन-कविता है।
—अशोक वाजपेयी Vicharak aur sangitvid mukund lath char dashkon se adhik kavita likhte rahe hain. Unka ye sangrah 1970 se lekar 2012 ke dauran likhi kavitaon ka sangrah hai. Jitna achraj ki baat hai ki un jaisa adhit vidvan chupchap itne barson se kavita likh raha hai, usse kam achraj ki baat ye nahin hai ki ye kavitayen kisi bhi kavya-nikash ya kavya-ruchi ke aadhar par kavitayen hain. In kavitaon mein shastr aur lok donon samahit hain—unmen parampra ki aadhunik antardhvaniyan hain aur aadhunikta ke kai marm aur utsuktayen gunthi hui hain. Ve bahut sahajta se tatsam aur tadbhav ko ek saath sadhti hain. Un par vichar havi nahin hai aur ve kavita ki kaya mein hastakshep nahin karte hain balki anubhav ki tarangit saghanta mein ghul-milkar aate hain.
Hamare samay ya shayad sabhi samyon mein manushya ki sthayi vidambna ye hai ki uski sthiti hamesha hi antarvirodh ki hai. Mukund lath ki kavita is sthayi aur atal antarvirodh se na munh modti hai, na hi usko sarlikrit karti hai.
Mukund ji ke yahan shabd aur bimb ki lila ke sath-sath gahra vinod bhav bhi sakriy hai.
Kavita agar ek star par sarthak hone ke liye ek samuche jivan ko uski jatilta aur sukshmta mein prkat karti hai aur ek aisi manviy garmahat aur hamahangi deti hai jo anytha sambhav nahin hai to mukund lath ki kavita bhari-puri jivan-kavita hai.
—ashok vajpeyi