Anna Karenina : Vols. 1-2 Rajkamal

Anna Karenina : Vols. 1-2

Regular price Rs. 326
Sale price Rs. 326 Regular price Rs. 350
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Anna Karenina : Vols. 1-2 Rajkamal

Anna Karenina : Vols. 1-2

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description
‘आन्ना कारेनिना’ महाकाव्यात्मक त्रासदी को नए दिक्-काल सन्दर्भों में पुनर्परिभाषित करने का दबाव बनानेवाला यह महान उपन्यास अपराध या पाप के नैतिक प्रश्न को गहरे ऐतिहासिक-सामाजिक सन्दर्भों में प्रस्तुत करते हुए, समाज और स्वयं अपने जीवन के प्रति प्रत्येक व्यक्ति के उत्तरदायित्व को चिन्तन के केन्द्र में उपस्थित करता है। इसके साथ ही, यह तत्कालीन रूसी जीवन के सभी बुनियादी और केन्द्रीय अन्तर्विरोधों को भी चित्रित करता है। सामाजिक जीवन की समस्याओं तथा कला और दर्शन के प्रश्नों के साथ ही तोल्स्तोय ने इस उपन्यास में परिवार और नैतिक जीवन की समस्याओं पर केन्द्रित करते हुए स्त्री-प्रश्न को भी गहरी दार्शनिक चिन्ता के साथ प्रस्तुत किया है। उल्लेखनीय है कि इस उपन्यास के प्रकाशन के बाद, तोल्स्तोय गम्भीर विचारधारात्मक संकट के दौर से गुज़रे, जिसकी परिणति के तौर पर, बल के द्वारा बुराई के अप्रतिरोध का सिद्धान्त प्रतिपादित करते हुए भी, वे मौजूदा व्यवस्था की सभी बुनियादों को ख़ारिज करने तथा सामाजिक ढाँचे की निर्मम-बेलाग आलोचना करने की स्थिति तक जा पहुँचे। ‘आन्ना कारेनिना’ का दायरा हालाँकि ‘युद्ध और शान्ति’ की अपेक्षा संकुचित है, लेकिन इस उपन्यास के चरित्र अधिक जटिल हैं। वे अधिक संवेदनशील प्रतीत होते हैं और उनके आन्तरिक तनाव और चिन्ताएँ उपन्यास में समग्र जीवन की अनिश्चितता और अस्थायित्व के परिवेश को परावर्तित करती हैं। ‘आन्ना कारेनिना’ एक हद तक आत्मकथात्मक उपन्यास भी है। इसे लिखते हुए तोल्स्तोय अपने समय और अपने ख़ुद के जीवन के बारे में स्वयं ही स्पष्ट होने की प्रक्रिया से गुज़र रहे थे। उपन्यास में जिन समस्याओं को उठाने और हल करने की कोशिश की गई थी, उनके प्रति तोल्स्तोय के सरोकार ने 1870 के दशक के अन्त में उन्हें एक नए विचारधारात्मक संकट के भँवर में धकेल दिया और पितृसत्तात्मक किसानी नज़रिए के प्रति उनकी पक्षधरता भी संकटग्रस्त हो गई। ‘anna karenina’ mahakavyatmak trasdi ko ne dik-kal sandarbhon mein punarparibhashit karne ka dabav bananevala ye mahan upanyas apradh ya paap ke naitik prashn ko gahre aitihasik-samajik sandarbhon mein prastut karte hue, samaj aur svayan apne jivan ke prati pratyek vyakti ke uttardayitv ko chintan ke kendr mein upasthit karta hai. Iske saath hi, ye tatkalin rusi jivan ke sabhi buniyadi aur kendriy antarvirodhon ko bhi chitrit karta hai. Samajik jivan ki samasyaon tatha kala aur darshan ke prashnon ke saath hi tolstoy ne is upanyas mein parivar aur naitik jivan ki samasyaon par kendrit karte hue stri-prashn ko bhi gahri darshnik chinta ke saath prastut kiya hai. Ullekhniy hai ki is upanyas ke prkashan ke baad, tolstoy gambhir vichardharatmak sankat ke daur se guzre, jiski parinati ke taur par, bal ke dvara burai ke apratirodh ka siddhant pratipadit karte hue bhi, ve maujuda vyvastha ki sabhi buniyadon ko kharij karne tatha samajik dhanche ki nirmam-belag aalochna karne ki sthiti tak ja pahunche. ‘anna karenina’ ka dayra halanki ‘yuddh aur shanti’ ki apeksha sankuchit hai, lekin is upanyas ke charitr adhik jatil hain. Ve adhik sanvedanshil prtit hote hain aur unke aantrik tanav aur chintayen upanyas mein samagr jivan ki anishchitta aur asthayitv ke parivesh ko paravartit karti hain. ‘anna karenina’ ek had tak aatmakthatmak upanyas bhi hai. Ise likhte hue tolstoy apne samay aur apne khud ke jivan ke bare mein svayan hi spasht hone ki prakriya se guzar rahe the. Upanyas mein jin samasyaon ko uthane aur hal karne ki koshish ki gai thi, unke prati tolstoy ke sarokar ne 1870 ke dashak ke ant mein unhen ek ne vichardharatmak sankat ke bhanvar mein dhakel diya aur pitrisattatmak kisani nazariye ke prati unki pakshadharta bhi sanktagrast ho gai.
Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products