BackBack

Ankon Ki Kahani

Rs. 95

प्राचीन काल में हमारा देश ज्ञान-विज्ञान के क्षेत्र में संसार के किसी भी दूसरे सभ्‍य देश से पीछे नहीं था। मध्‍ययुग में अरब देशों ने और यूरोप के देशों ने भारतीय विज्ञान की बहुत-सी बातें सीखीं। लेकिन यदि पूछा जाए कि विज्ञान के क्षेत्र में संसार को भारत की सबसे... Read More

BlackBlack
Description

प्राचीन काल में हमारा देश ज्ञान-विज्ञान के क्षेत्र में संसार के किसी भी दूसरे सभ्‍य देश से पीछे नहीं था। मध्‍ययुग में अरब देशों ने और यूरोप के देशों ने भारतीय विज्ञान की बहुत-सी बातें सीखीं। लेकिन यदि पूछा जाए कि विज्ञान के क्षेत्र में संसार को भारत की सबसे बड़ी देन कौन-सी है, तो उत्‍तर होगा—आज की हमारी अंक-पद्धति।
आज की हमारी अंक-पद्धति में केवल दस संकेत हैं—शून्‍य और नौ अंक-संकेत। इन दस अंक-संकेतों से हम बड़ी-से-बड़ी संख्‍या लिख सकते हैं। इन दस अंक-संकेतों के अपने स्‍वतंत्र मान हैं। इसके अलावा, हर अंक-संकेत का, संख्‍या में उसके स्‍थान के अनुसार, मान बदलता है। स्‍थानमान और शून्‍य की यह धारणा ही इस अंक-पद्धति की विशेषता है।
हमें गर्व है कि इस वैज्ञानिक अंक-पद्धति की खोज भारत में हुई है। सारे संसार में आज इसी भारतीय अंक-पद्धति का इस्‍तेमाल होता है।
लेकिन यह अंक-पद्धति मुश्किल से दो हज़ार साल पुरानी है। उसके पहले हमारे देश में और संसार के अन्‍य देशों में भिन्‍न-भिन्‍न अंक-पद्धतियों का इस्‍तेमाल होता था। आज की इस वैज्ञानिक अंक-पद्धति के महत्‍त्‍व को समझने के लिए उन पुरानी अंक-पद्धतियों के बारे में भी जानना ज़रूरी है। इस पुस्‍तक में मैंने देश-विदेश की पुरानी अंक-पद्धतियों की जानकारी दी है। तदनन्‍तर, इस शून्‍य वाली नई अंक-पद्धति के आविष्‍कार की जानकारी। यह भारतीय अंक-पद्धति पहले अरब देशों में और बाद में यूरोप के देशों में कैसे फैली, इसका भी रोचक वर्णन इस पुस्‍तक में है।
निस्‍सन्‍देह, हिन्‍दी में यह अपनी तरह की पहली पुस्‍तक है जो विद्यार्थियों एवं सामान्‍य पाठकों के लिए बहुत ही उपयोगी है। Prachin kaal mein hamara desh gyan-vigyan ke kshetr mein sansar ke kisi bhi dusre sabh‍ya desh se pichhe nahin tha. Madh‍yayug mein arab deshon ne aur yurop ke deshon ne bhartiy vigyan ki bahut-si baten sikhin. Lekin yadi puchha jaye ki vigyan ke kshetr mein sansar ko bharat ki sabse badi den kaun-si hai, to ut‍tar hoga—aj ki hamari ank-paddhati. Aaj ki hamari ank-paddhati mein keval das sanket hain—shun‍ya aur nau ank-sanket. In das ank-sanketon se hum badi-se-badi sankh‍ya likh sakte hain. In das ank-sanketon ke apne ‍vatantr maan hain. Iske alava, har ank-sanket ka, sankh‍ya mein uske ‍than ke anusar, maan badalta hai. ‍thanman aur shun‍ya ki ye dharna hi is ank-paddhati ki visheshta hai.
Hamein garv hai ki is vaigyanik ank-paddhati ki khoj bharat mein hui hai. Sare sansar mein aaj isi bhartiy ank-paddhati ka is‍temal hota hai.
Lekin ye ank-paddhati mushkil se do hazar saal purani hai. Uske pahle hamare desh mein aur sansar ke an‍ya deshon mein bhin‍na-bhin‍na ank-paddhatiyon ka is‍temal hota tha. Aaj ki is vaigyanik ank-paddhati ke mahat‍‍va ko samajhne ke liye un purani ank-paddhatiyon ke bare mein bhi janna zaruri hai. Is pus‍tak mein mainne desh-videsh ki purani ank-paddhatiyon ki jankari di hai. Tadnan‍tar, is shun‍ya vali nai ank-paddhati ke aavish‍kar ki jankari. Ye bhartiy ank-paddhati pahle arab deshon mein aur baad mein yurop ke deshon mein kaise phaili, iska bhi rochak varnan is pus‍tak mein hai.
Nis‍san‍deh, hin‍di mein ye apni tarah ki pahli pus‍tak hai jo vidyarthiyon evan saman‍ya pathkon ke liye bahut hi upyogi hai.