BackBack
-11%

Anasakt Aastik : Jainendra Kumar Ki Jeewani

Rs. 299 Rs. 266

जैनेन्द्र कुमार हिन्दी के केवल मूर्धन्य कथाकार ही नहीं है अपितु प्रखर राष्ट्रवादी चिन्तक-विचारक भी है। वे हिन्दी भाषा में सोचने-विचारने वाले अन्यतम व्यावहारिक भारतीय दार्शनिक भी हैं तो भारत सहित वैश्विक राजनीति पर गहरी दृष्टि रखनेवाले प्रबुद्ध राजनैतिक विशेषज्ञ भी। वे स्वाधीनता आन्दोलन के तपोनिष्ठ सत्याग्रही भी रहे जिन्होंने... Read More

Description

जैनेन्द्र कुमार हिन्दी के केवल मूर्धन्य कथाकार ही नहीं है अपितु प्रखर राष्ट्रवादी चिन्तक-विचारक भी है। वे हिन्दी भाषा में सोचने-विचारने वाले अन्यतम व्यावहारिक भारतीय दार्शनिक भी हैं तो भारत सहित वैश्विक राजनीति पर गहरी दृष्टि रखनेवाले प्रबुद्ध राजनैतिक विशेषज्ञ भी। वे स्वाधीनता आन्दोलन के तपोनिष्ठ सत्याग्रही भी रहे जिन्होंने स्वाधीनता मिलने के बाद भी अपने समग्र जीवन और लेखन क्रो सत्याग्रह बनाया। उन्होंने जो लिखा और जिया वह हमेशा एक नई राह की खोज का करण बना। कहानी और उपन्यास को नई भाषा, शिल्प तथा अधुनातन प्रविधियों में ढालकर जैनेन्द्र ने उन विषयों को प्रमुखता दी, जिन पर विचार करने का साहस पहले न किया जा सका। इसमें प्रमुखता से वह स्त्री उभरी, जिसे सदियों से उत्पीड़ित किया जाता रहा है। अपने दर्शन में आत्म को प्रतिष्ठित करनेवाले, विचारों में भारतीय-राष्ट्र-राज्य को अधिकाधिक सर्वोदय में देखनेवाले तथा जीवन में एक गृहस्थ संन्यासी का आदर्श प्रस्तुत करनेवाले जैनेन्द्र कुमार का महात्मा गाँधी, जवाहरलाल नेहरू, राजेन्द्र प्रसाद, विनोबा भावे, राधाकृष्णन, जयप्रकाश नारायण, इन्दिरा गाँधी आदि राष्ट्रीय नेताओं से सीधा संवाद था। पर यह संवाद राष्ट्रीय हितों के लिए था, निजी स्वार्थों के लिए नहीं। ऐसे जैनेन्द्र कुमार के विराट व्यक्तित्व को उनकी जीवनी ‘अनासक्त आस्तिक' में देखने और उनके क्रमिक विकास को परखने का एक बड़ा प्रयत्न है, जो निश्चय ही उन्हें नए सिरे से समझने में सहायक होगा। कहना न होगा कि जैनेन्द्र साहित्य के मर्मज्ञ आलोचक ज्योतिष जोशी द्वारा मनोयोग से लिखी गई यह जीवनी पठनीय तो है ही, संग्रहणीय भी है। Jainendr kumar hindi ke keval murdhanya kathakar hi nahin hai apitu prkhar rashtrvadi chintak-vicharak bhi hai. Ve hindi bhasha mein sochne-vicharne vale anytam vyavharik bhartiy darshnik bhi hain to bharat sahit vaishvik rajniti par gahri drishti rakhnevale prbuddh rajanaitik visheshagya bhi. Ve svadhinta aandolan ke taponishth satyagrhi bhi rahe jinhonne svadhinta milne ke baad bhi apne samagr jivan aur lekhan kro satyagrah banaya. Unhonne jo likha aur jiya vah hamesha ek nai raah ki khoj ka karan bana. Kahani aur upanyas ko nai bhasha, shilp tatha adhunatan pravidhiyon mein dhalkar jainendr ne un vishyon ko pramukhta di, jin par vichar karne ka sahas pahle na kiya ja saka. Ismen pramukhta se vah stri ubhri, jise sadiyon se utpidit kiya jata raha hai. Apne darshan mein aatm ko prtishthit karnevale, vicharon mein bhartiy-rashtr-rajya ko adhikadhik sarvoday mein dekhnevale tatha jivan mein ek grihasth sannyasi ka aadarsh prastut karnevale jainendr kumar ka mahatma gandhi, javaharlal nehru, rajendr prsad, vinoba bhave, radhakrishnan, jayaprkash narayan, indira gandhi aadi rashtriy netaon se sidha sanvad tha. Par ye sanvad rashtriy hiton ke liye tha, niji svarthon ke liye nahin. Aise jainendr kumar ke virat vyaktitv ko unki jivni ‘anasakt aastik mein dekhne aur unke krmik vikas ko parakhne ka ek bada pryatn hai, jo nishchay hi unhen ne sire se samajhne mein sahayak hoga. Kahna na hoga ki jainendr sahitya ke marmagya aalochak jyotish joshi dvara manoyog se likhi gai ye jivni pathniy to hai hi, sangrahniy bhi hai.