BackBack
-11%

Amar Shahid Chandrashekhar Azad

Rs. 350 Rs. 312

वैशम्पायन ने आज़ाद की एक मनुष्य, एक साथी और क्रान्तिकारी पार्टी के सुयोग्य सेनापति की छवि को विस्तार देते हुए उनके सम्पूर्ण क्रान्तिकारी योगदान के सार्थक मूल्यांकन के साथ ही आज़ाद के अन्तिम दिनों में पार्टी की स्थिति, कुछेक साथियों की गद्दारी और आज़ाद की शहादत के लिए ज़‍िम्मेदार तत्त्वों... Read More

Description

वैशम्पायन ने आज़ाद की एक मनुष्य, एक साथी और क्रान्तिकारी पार्टी के सुयोग्य सेनापति की छवि को विस्तार देते हुए उनके सम्पूर्ण क्रान्तिकारी योगदान के सार्थक मूल्यांकन के साथ ही आज़ाद के अन्तिम दिनों में पार्टी की स्थिति, कुछेक साथियों की गद्दारी और आज़ाद की शहादत के लिए ज़‍िम्मेदार तत्त्वों का पर्दाफाश किया है। अपनी पुस्तक में वैशम्पायन जी बहुत निर्भीकता से सारी बातें कह पाए हैं। उनके पास तथ्य हैं और तर्क भी। आज़ाद से उनकी निकटता इस कार्य को और भी आसान बना देती है। आज़ाद और वैशम्पायन के बीच सेनापति और सिपाही का रिश्ता है तो अग्रज और अनुज का भी। वे आज़ाद के सर्वाधिक विश्वस्त सहयोगी के रूप में हमें हर जगह खड़े दिखाई देते हैं।
आज़ाद की शहादत के बाद यदि वैशम्पायन न लिखते तो आज़ाद के उस पूरे दौर पर एक निष्पक्ष और तर्कपूर्ण दृष्टि डालना हमारे लिए सम्भव न होता। एक गुप्त क्रान्तिकारी पार्टी के संकट, पार्टी का वैचारिक आधार, जनता से उसका जुड़ाव, केन्द्रीय समिति के सदस्यों का टूटना और दूर होना तथा आज़ाद के अन्तिम दिनों में पार्टी की संगठनात्मक स्थिति जैसे गम्भीर मुद्दों पर वैशम्पायन जी ने बहुत खरेपन के साथ कहा है। वे स्वयं भी एक क्रान्तिकारी की कसौटी पर सच्चे उतरे हैं। आज़ाद के साथ किसी भी कठिन परीक्षा में वे कभी अनुत्तीर्ण नहीं हुए। आज़ाद को खोकर वैशम्पायन ने कितना अकेलापन महसूस किया, इसे उनकी इस कृति में साफ़-साफ़ पढ़ा जा सकता है।
आज़ाद-युग पर वैशम्पायन जी की यह अत्यन्त विचारोत्तेजक कृति है जो आज़ाद की तस्वीर पर पड़ी धूल को हटाकर उनके क्रान्तिकारित्व को सामने लाने का ऐतिहासिक दायित्व पूरा करती है।
—सुधीर विद्यार्थी Vaishampayan ne aazad ki ek manushya, ek sathi aur krantikari parti ke suyogya senapati ki chhavi ko vistar dete hue unke sampurn krantikari yogdan ke sarthak mulyankan ke saath hi aazad ke antim dinon mein parti ki sthiti, kuchhek sathiyon ki gaddari aur aazad ki shahadat ke liye za‍immedar tattvon ka pardaphash kiya hai. Apni pustak mein vaishampayan ji bahut nirbhikta se sari baten kah paye hain. Unke paas tathya hain aur tark bhi. Aazad se unki nikatta is karya ko aur bhi aasan bana deti hai. Aazad aur vaishampayan ke bich senapati aur sipahi ka rishta hai to agraj aur anuj ka bhi. Ve aazad ke sarvadhik vishvast sahyogi ke rup mein hamein har jagah khade dikhai dete hain. Aazad ki shahadat ke baad yadi vaishampayan na likhte to aazad ke us pure daur par ek nishpaksh aur tarkpurn drishti dalna hamare liye sambhav na hota. Ek gupt krantikari parti ke sankat, parti ka vaicharik aadhar, janta se uska judav, kendriy samiti ke sadasyon ka tutna aur dur hona tatha aazad ke antim dinon mein parti ki sangathnatmak sthiti jaise gambhir muddon par vaishampayan ji ne bahut kharepan ke saath kaha hai. Ve svayan bhi ek krantikari ki kasauti par sachche utre hain. Aazad ke saath kisi bhi kathin pariksha mein ve kabhi anuttirn nahin hue. Aazad ko khokar vaishampayan ne kitna akelapan mahsus kiya, ise unki is kriti mein saf-saf padha ja sakta hai.
Aazad-yug par vaishampayan ji ki ye atyant vicharottejak kriti hai jo aazad ki tasvir par padi dhul ko hatakar unke krantikaritv ko samne lane ka aitihasik dayitv pura karti hai.
—sudhir vidyarthi