Look Inside
Akhilesh : Ek Samvad
Akhilesh : Ek Samvad
Akhilesh : Ek Samvad
Akhilesh : Ek Samvad
Akhilesh : Ek Samvad
Akhilesh : Ek Samvad
Akhilesh : Ek Samvad
Akhilesh : Ek Samvad
Akhilesh : Ek Samvad
Akhilesh : Ek Samvad

Akhilesh : Ek Samvad

Regular price Rs. 465
Sale price Rs. 465 Regular price Rs. 500
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Akhilesh : Ek Samvad

Akhilesh : Ek Samvad

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारतीय कला के व्यापक क्षेत्र में, और हिन्‍दी में तो बहुत कम, ऐसा हुआ है कि कोई कलाकार अपनी कला, संसार की कला, परम्‍परा, आधुनिकता आदि पर विस्तार से, स्पष्टता से, गरमाहट और उत्तेजना से बात करे और उसे ऐसी सुघरता से दर्ज किया जाए। चित्रकार अखिलेश इस समय भारत के समकालीन कला-दृश्य में अपनी अमूर्त कला के माध्यम से उपस्थित और सक्रिय हैं। उनकी बातचीत से हिन्‍दी में समकालीन कला-संघर्ष के कितने ही पहलू ज़ाहिर होते हैं। पीयूष दईया एक कल्पनाशील सम्‍पादक, कवि और सजग कलाप्रेमी हैं। उनकी उकसाहट ने इस बातचीत में उत्तेजक भूमिका निभाई है।....
ऐसी अनेक जगहें इस बातचीत में हैं जहाँ बतरस के सुख के साथ-साथ कुछ नया या विचारोत्तेजक जानने को मिलता है। हमारे समय में कला को तथाकथित सामाजिक यथार्थ के प्रतिबिम्बन और अन्वेषण के रूप में देखने की जो वैचारिकी उसके प्रतिबिन्‍दु, प्रतिरोध की तरह उभरती है, इस पुस्तक का महत्त्व इससे और बढ़ जाता है। वह एक अपेक्षाकृत जनाकीर्ण परिदृश्य में वैकल्पिक कला और सौन्दर्यबोध के लिए जगह खोजती और बनाती है। उसकी दिलचस्पी किसी को अपदस्थ करने में नहीं है : वह तो अपनी जगह की तलाश करती और फिर उस पर रमने की ज़‍िद से उपजी है।
—अशोक वाजपेयी Bhartiy kala ke vyapak kshetr mein, aur hin‍di mein to bahut kam, aisa hua hai ki koi kalakar apni kala, sansar ki kala, param‍para, aadhunikta aadi par vistar se, spashtta se, garmahat aur uttejna se baat kare aur use aisi sugharta se darj kiya jaye. Chitrkar akhilesh is samay bharat ke samkalin kala-drishya mein apni amurt kala ke madhyam se upasthit aur sakriy hain. Unki batchit se hin‍di mein samkalin kala-sangharsh ke kitne hi pahlu zahir hote hain. Piyush daiya ek kalpnashil sam‍padak, kavi aur sajag kalapremi hain. Unki uksahat ne is batchit mein uttejak bhumika nibhai hai. . . . . Aisi anek jaghen is batchit mein hain jahan batras ke sukh ke sath-sath kuchh naya ya vicharottejak janne ko milta hai. Hamare samay mein kala ko tathakthit samajik yatharth ke pratibimban aur anveshan ke rup mein dekhne ki jo vaichariki uske pratibin‍du, pratirodh ki tarah ubharti hai, is pustak ka mahattv isse aur badh jata hai. Vah ek apekshakrit janakirn paridrishya mein vaikalpik kala aur saundarybodh ke liye jagah khojti aur banati hai. Uski dilchaspi kisi ko apdasth karne mein nahin hai : vah to apni jagah ki talash karti aur phir us par ramne ki za‍id se upji hai.
—ashok vajpeyi

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products