Akath Kahani Prem Ki : Kabir Ki Kavita Aur Unka Samay

Regular price Rs. 464
Sale price Rs. 464 Regular price Rs. 499
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Akath Kahani Prem Ki : Kabir Ki Kavita Aur Unka Samay

Akath Kahani Prem Ki : Kabir Ki Kavita Aur Unka Samay

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

कबीर के समय को, जबदी हुई मनोवृत्ति का ‘मध्य-काल’ नहीं, देशज आधुनिकता का समय बताती हुई यह चर्चित और बहु-प्रशंसित पुस्तक प्रामाणिक और विचारोत्तेजक ढंग से कबीर और उनके समय का नया आख्यान रचती है।
कबीर की काव्य-संवेदना का मार्मिक विश्लेषण करते हुए पुरुषोत्तम अग्रवाल याद दिलाते हैं कि ‘नारी-निंदक’ कहे गए कबीर प्रेम के पलों में नारी का ही रूप धारण करते हैं। यह पाठक पर है कि वह सम्बन्ध नारी-निन्दा के संस्कार से बनाता है, या नारी रूप धारण करती कवि-संवेदना से। पुस्तक काव्योक्त और शास्त्रोक्त भक्ति की धारणाएँ प्रस्तुत कर भक्ति-संवेदना के इतिहास पर पुनर्विचार की दिशा भी देती है।
पुरुषोत्तम जी ने व्यापारियों और दस्तकारों द्वारा रचे जा रहे भक्ति के लोकवृत्त की अभूतपूर्व अवधारणा प्रस्तुत की है, और दिखाया है कि कबीर और अन्य सन्‍तों को ‘हाशिए की आवाज़’ देशज आधुनिकता में रचे गए भक्ति के लोकवृत्त ने नहीं, औपनिवेशिक ज्ञानकांड ने बनाया है।
देशभाषा स्रोतों से संवाद किए बिना भारतीय इतिहास को समझना असम्भव है। बीसवीं सदी में गढ़ी गई रामानन्द की संस्कृत निर्मिति के इतिहास को मौलिक शोध के आधार पर, जासूसी कहानी की सी रोमांचकता के साथ प्रस्तुत करते हुए पुरुषोत्तम जी बताते हैं कि ‘साजिश’ और ‘बुद्धूपन’ जैसे बीज-शब्दों के सहारे किसी परम्परा को नहीं समझा जा सकता।
इस पुस्तक की स्थापना है कि औपनिवेशिक आधुनिकता ने ग़ैर-यूरोपिय समाजों में ‘मध्यकालीन जड़ता को तोड़नेवाली प्रगतिशील भूमिका’ नहीं, देशज आधुनिकता को अवरुद्ध करने की भूमिका निभाई है। इस अवरोध ने अब तक चला आ रहा जो सांस्कृतिक संवेदना-विच्छेद उत्पन्न किया है, उसे दूर किए बिना हम न तो अपने अतीत का प्रामाणिक आख्यान रच सकते हैं, और न भविष्य की चुनौतियों के लिए तैयार हो सकते हैं।
कबीर की कविता और भारतीय इतिहास के जिज्ञासुओं के लिए अनिवार्य पुस्तक। Kabir ke samay ko, jabdi hui manovritti ka ‘madhya-kal’ nahin, deshaj aadhunikta ka samay batati hui ye charchit aur bahu-prshansit pustak pramanik aur vicharottejak dhang se kabir aur unke samay ka naya aakhyan rachti hai. Kabir ki kavya-sanvedna ka marmik vishleshan karte hue purushottam agrval yaad dilate hain ki ‘nari-nindak’ kahe ge kabir prem ke palon mein nari ka hi rup dharan karte hain. Ye pathak par hai ki vah sambandh nari-ninda ke sanskar se banata hai, ya nari rup dharan karti kavi-sanvedna se. Pustak kavyokt aur shastrokt bhakti ki dharnayen prastut kar bhakti-sanvedna ke itihas par punarvichar ki disha bhi deti hai.
Purushottam ji ne vyapariyon aur dastkaron dvara rache ja rahe bhakti ke lokvritt ki abhutpurv avdharna prastut ki hai, aur dikhaya hai ki kabir aur anya san‍ton ko ‘hashiye ki aavaz’ deshaj aadhunikta mein rache ge bhakti ke lokvritt ne nahin, aupaniveshik gyankand ne banaya hai.
Deshbhasha sroton se sanvad kiye bina bhartiy itihas ko samajhna asambhav hai. Bisvin sadi mein gadhi gai ramanand ki sanskrit nirmiti ke itihas ko maulik shodh ke aadhar par, jasusi kahani ki si romanchakta ke saath prastut karte hue purushottam ji batate hain ki ‘sajish’ aur ‘buddhupan’ jaise bij-shabdon ke sahare kisi parampra ko nahin samjha ja sakta.
Is pustak ki sthapna hai ki aupaniveshik aadhunikta ne gair-yuropiy samajon mein ‘madhykalin jadta ko todnevali pragatishil bhumika’ nahin, deshaj aadhunikta ko avruddh karne ki bhumika nibhai hai. Is avrodh ne ab tak chala aa raha jo sanskritik sanvedna-vichchhed utpann kiya hai, use dur kiye bina hum na to apne atit ka pramanik aakhyan rach sakte hain, aur na bhavishya ki chunautiyon ke liye taiyar ho sakte hain.
Kabir ki kavita aur bhartiy itihas ke jigyasuon ke liye anivarya pustak.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products