Look Inside
Aisi laagi Lagan
Aisi laagi Lagan

Aisi laagi Lagan

Regular price Rs. 207
Sale price Rs. 207 Regular price Rs. 223
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Aisi laagi Lagan

Aisi laagi Lagan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

विज्ञान के इस युग में नई तकनीक और भौतिकवाद भले ही अब आम जीवन का आधार हो चला है, लेकिन विज्ञान भी चमत्कार को स्वीकार करता है। ऐसे ही कुछ चमत्कार होते हैं जो अनायास ही छोटी-छोटी घटनाओं के माध्यम से होकर, कई बार नियति को भी बदल देते हैं और ईश्वर में विश्वास को हर बार और दृढ़ करते जाते हैं।
‘ऐसी लागी लगन’ ऐसी ही कुछ सूक्ष्म और वृहद् चमत्कारिक घटनाओं को आम जनमानस के सामने रखती है, जो ब्रम्हांड का संचालन करनेवाले उस परमात्मा की उपस्थ‍िति में दृढ़ विश्वास रखने के लिए प्रोत्साहित नहीं बल्कि बाध्य करती हैं।
डॉ. पी. राजेश माहेश्वरी द्वारा लिखी गई यह किताब अपने आप में विज्ञान और विश्वास का संगम है—''सांईं के साथ मेरी लगन कुछ ऐसी लगी कि मुझे अनुभव हुआ, यह सिलसिला अभी से शुरू नहीं हो रहा, वाक़ई कोई बेहद पुराना नाता है। जैसे कोई भूला-बिसरा अत्यन्‍त आत्मीय कहीं अचानक नज़रों के सामने आ जाए।''
एक डॉक्टर, जो विज्ञान के आधार पर लोगों के जीवन की रक्षा करता है, उसका इन र्ईश्वर के चमत्कारों में इस क़दर दृढ़ विश्वास होना आश्चर्यचकित तो करता ही है, साथ ही पाठक के मन में भी एक ललक और अगाध विश्वास पैदा करता है। लेखक ने इस किताब के माध्यम से अपने निजी तथा सच्चे अनुभवों को साझा किया है, जो किसी चमत्कार से कम नहीं लगते।
सांईं लीलाओं में विश्वास करनेवाले लोगों का भारत में एक बड़ा प्रतिशत है। यह किताब उन सभी लोगों के सांईं बाबा से जुड़े आत्मिक और भौतिक अनुभवों से जोड़ने और सांईं बाबा के प्रति सहज ही आकर्ष‍ित करने का काम करती है।
''व्यावसायिक दृष्ट‍ि से डॉक्टरी जैसे निष्ठुर पेशे में रहकर अब साल-भर में तीन-चार बार मुझे शिरडी पहुँचने की ललक होने लगी और फिर धीरे-धीरे हर महीने जाने की तलब। जैसे कोई परिन्‍दा लौट-लौटकर अपने नीड़ में आए...बाबा के समक्ष हमेशा ही मैंने ख़ुद को एक नई ऊर्जा से सराबोर पाया है। इसे व्यक्त करने योग्य शब्द तलाशना अत्यन्‍त कठिन है। शायद अविश्वसनीय-सा भी लगे...!''
इस किताब में डॉ. माहेश्वरी ने अपने निजी जीवन के अनुभवों को भी साझा किया, और बताया कि, ''बेशक, एक बाबा के प्रति एक डॉक्टर के भीतर जागी इस भक्ति के कारण मेरी अर्धांगिनी डॉ. कल्पना माहेश्वरी को भारी समस्या हुई। उन्होंने मेरी क्षणिक भावना को पागलपन तक कहा, लेकिन समय के साथ उन्हें मेरे भीतर हुए परिवर्तन और अनुभूतियों का अहसास हुआ और उन्होंने शिरडी के प्रति मेरे अनुराग को स्वीकार लिया।''
‘ऐसी लागी लगन’ किताब पूर्णत: सांईं बाबा से जुड़े चमत्कारिक और सकारात्मक अनुभवों पर आधारित है। इसे लिखने में अपने अनुभवों को न केवल डॉ. माहेश्वरी बल्कि उनके कुछ साथियों और अन्य परिचित सांईं भक्तों ने भी साझा किए हैं, जिनमें आमजन से लेकर डॉक्टर्स, पत्रकार, शिक्षक आदि शामिल हैं। किताब पढ़ते समय सांईं बाबा के प्रति श्रद्धा का बढ़ना स्वाभाविक है। कहीं-कहीं पर वृत्तान्‍तों का विस्तृत विवरण पाठक की दिलचस्पी कम भी करता है, लेकिन प्रमुख घटनाओं के प्रति श्रद्धा और उत्सुकता बरकरार रहती है। सच्चे अनुभवों पर आधारित यह किताब, विश्वास के आधार पर एक बेहतर प्रेरणास्रोत बन सकती है। Vigyan ke is yug mein nai taknik aur bhautikvad bhale hi ab aam jivan ka aadhar ho chala hai, lekin vigyan bhi chamatkar ko svikar karta hai. Aise hi kuchh chamatkar hote hain jo anayas hi chhoti-chhoti ghatnaon ke madhyam se hokar, kai baar niyati ko bhi badal dete hain aur iishvar mein vishvas ko har baar aur dridh karte jate hain. ‘aisi lagi lagan’ aisi hi kuchh sukshm aur vrihad chamatkarik ghatnaon ko aam janmanas ke samne rakhti hai, jo bramhand ka sanchalan karnevale us parmatma ki upasth‍iti mein dridh vishvas rakhne ke liye protsahit nahin balki badhya karti hain.
Dau. Pi. Rajesh maheshvri dvara likhi gai ye kitab apne aap mein vigyan aur vishvas ka sangam hai—saniin ke saath meri lagan kuchh aisi lagi ki mujhe anubhav hua, ye silasila abhi se shuru nahin ho raha, vaqii koi behad purana nata hai. Jaise koi bhula-bisra atyan‍ta aatmiy kahin achanak nazron ke samne aa jaye.
Ek dauktar, jo vigyan ke aadhar par logon ke jivan ki raksha karta hai, uska in riishvar ke chamatkaron mein is qadar dridh vishvas hona aashcharyachkit to karta hi hai, saath hi pathak ke man mein bhi ek lalak aur agadh vishvas paida karta hai. Lekhak ne is kitab ke madhyam se apne niji tatha sachche anubhvon ko sajha kiya hai, jo kisi chamatkar se kam nahin lagte.
Saniin lilaon mein vishvas karnevale logon ka bharat mein ek bada pratishat hai. Ye kitab un sabhi logon ke saniin baba se jude aatmik aur bhautik anubhvon se jodne aur saniin baba ke prati sahaj hi aakarsh‍it karne ka kaam karti hai.
Vyavsayik drisht‍i se dauktri jaise nishthur peshe mein rahkar ab sal-bhar mein tin-char baar mujhe shirdi pahunchane ki lalak hone lagi aur phir dhire-dhire har mahine jane ki talab. Jaise koi parin‍da laut-lautkar apne nid mein aae. . . Baba ke samaksh hamesha hi mainne khud ko ek nai uurja se sarabor paya hai. Ise vyakt karne yogya shabd talashna atyan‍ta kathin hai. Shayad avishvasniy-sa bhi lage. . . !
Is kitab mein dau. Maheshvri ne apne niji jivan ke anubhvon ko bhi sajha kiya, aur bataya ki, beshak, ek baba ke prati ek dauktar ke bhitar jagi is bhakti ke karan meri ardhangini dau. Kalpna maheshvri ko bhari samasya hui. Unhonne meri kshnik bhavna ko pagalpan tak kaha, lekin samay ke saath unhen mere bhitar hue parivartan aur anubhutiyon ka ahsas hua aur unhonne shirdi ke prati mere anurag ko svikar liya.
‘aisi lagi lagan’ kitab purnat: saniin baba se jude chamatkarik aur sakaratmak anubhvon par aadharit hai. Ise likhne mein apne anubhvon ko na keval dau. Maheshvri balki unke kuchh sathiyon aur anya parichit saniin bhakton ne bhi sajha kiye hain, jinmen aamjan se lekar dauktars, patrkar, shikshak aadi shamil hain. Kitab padhte samay saniin baba ke prati shraddha ka badhna svabhavik hai. Kahin-kahin par vrittan‍ton ka vistrit vivran pathak ki dilchaspi kam bhi karta hai, lekin prmukh ghatnaon ke prati shraddha aur utsukta barakrar rahti hai. Sachche anubhvon par aadharit ye kitab, vishvas ke aadhar par ek behtar prernasrot ban sakti hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products