Aise Kaise Panpe Pakhandi

Regular price Rs. 278
Sale price Rs. 278 Regular price Rs. 299
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Aise Kaise Panpe Pakhandi

Aise Kaise Panpe Pakhandi

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

अन्धविश्वासों की मानव-समाजों में एक समानान्‍तर सत्ता चली आई है। शिक्षा, विज्ञान और सामाजिक चेतना के विस्तार के साथ इसके औचित्य पर लगातार प्रश्नचिन्ह लगते रहे हैं और लम्बे समय तक इसका शिकार बनते रहे लोगों ने एक समय पर आकर अन्धविश्वासों की जड़ों को मज़बूत करके अपना कारोबार चलानेवाले पाखंडी बाबाओं से मुक्ति भी पाई है, लेकिन वे नए-नए रूपों में आकर वापस लोगों के मानस पर अपना अधिकार जमा लेते हैं।
आज इक्कीसवीं सदी के इस दौर में भी जब तकनीक और संचार के साधनों ने बहुत सारी चीज़ों को समझना आसान कर दिया है, ऐसे बाबाओं की कमी नहीं है जो किसी मनोशारीरिक कमज़ोरी के किसी क्षण में अच्छे-खासे शिक्षित लोगों को भी अपनी तरफ़ खींचने में कामयाब हो जाते हैं। डॉ. नरेंद्र दाभोलकर और उनकी 'अन्‍धश्रद्धा निर्मूलन समिति' ने महाराष्ट्र में इन बाबाओं और जनसाधारण की सहज अन्धानुकरण वृत्ति को लेकर लगातार संघर्ष किया। लोगों से सीधे सम्पर्क करके, आन्दोलन करके और लगातार लेखन के द्वारा उन्होंने कोशिश की कि तर्क और ज्ञान से अन्धविश्वास की जड़ें काटी जाएँ ताकि भोले-भाले लोग चालाक और चरित्रहीन बाबाओं के चंगुल में फँसकर अपनी ख़ून-पसीने की कमाई और जीवन तथा स्वास्थ्य को ख़तरे में न डालें।
इस पुस्तक में उन्होंने क़‍िस्म-क़‍िस्म के बाबाओं, गुरुओं, अपने आप को भगवान या भगवान का अवतार कहकर भ्रम फैलानेवालों का नाम ले-लेकर उनकी चालाकियों का पर्दाफाश किया है। इनमें भगवान रजनीश और साईं बाबा जैसे नाम भी शामिल हैं जो इधर शिक्षित लोगों में भी ख़ासे लोकप्रिय हैं। बाबाओं की ठगी का शिकार होनेवाले अनेक लोगों की कहानियाँ भी उन्होंने यहाँ दी हैं। Andhvishvason ki manav-samajon mein ek samanan‍tar satta chali aai hai. Shiksha, vigyan aur samajik chetna ke vistar ke saath iske auchitya par lagatar prashnchinh lagte rahe hain aur lambe samay tak iska shikar bante rahe logon ne ek samay par aakar andhvishvason ki jadon ko mazbut karke apna karobar chalanevale pakhandi babaon se mukti bhi pai hai, lekin ve ne-ne rupon mein aakar vapas logon ke manas par apna adhikar jama lete hain. Aaj ikkisvin sadi ke is daur mein bhi jab taknik aur sanchar ke sadhnon ne bahut sari chizon ko samajhna aasan kar diya hai, aise babaon ki kami nahin hai jo kisi manosharirik kamzori ke kisi kshan mein achchhe-khase shikshit logon ko bhi apni taraf khinchne mein kamyab ho jate hain. Dau. Narendr dabholkar aur unki an‍dhashraddha nirmulan samiti ne maharashtr mein in babaon aur jansadharan ki sahaj andhanukran vritti ko lekar lagatar sangharsh kiya. Logon se sidhe sampark karke, aandolan karke aur lagatar lekhan ke dvara unhonne koshish ki ki tark aur gyan se andhvishvas ki jaden kati jayen taki bhole-bhale log chalak aur charitrhin babaon ke changul mein phansakar apni khun-pasine ki kamai aur jivan tatha svasthya ko khatre mein na dalen.
Is pustak mein unhonne qa‍ism-qa‍ism ke babaon, guruon, apne aap ko bhagvan ya bhagvan ka avtar kahkar bhram phailanevalon ka naam le-lekar unki chalakiyon ka pardaphash kiya hai. Inmen bhagvan rajnish aur sain baba jaise naam bhi shamil hain jo idhar shikshit logon mein bhi khase lokapriy hain. Babaon ki thagi ka shikar honevale anek logon ki kahaniyan bhi unhonne yahan di hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products