BackBack
-11%

Agaria

Rs. 450 Rs. 401

अगरिया' शब्द का अभिप्राय सम्‍भवत: आग पर काम करने वाले लोगों से है अथवा आदिवासियों के देवता, अघासुर से जिनका जन्म लौ से हुआ माना जाता है। अगरिया मध्य भारत के लोहा पिघलानेवाले और लोहारी करनेवाले लोग हैं जो अधिकतर मैकाल पहाड़ी क्षेत्र में पाए जाते हैं लेकिन 'अगरिया क्षेत्र'... Read More

BlackBlack
Description

अगरिया' शब्द का अभिप्राय सम्‍भवत: आग पर काम करने वाले लोगों से है अथवा आदिवासियों के देवता, अघासुर से जिनका जन्म लौ से हुआ माना जाता है। अगरिया मध्य भारत के लोहा पिघलानेवाले और लोहारी करनेवाले लोग हैं जो अधिकतर मैकाल पहाड़ी क्षेत्र में पाए जाते हैं लेकिन 'अगरिया क्षेत्र' को डिंडोरी से लेकर नेतरहाट तक रेखांकित किया जा सकता है। गोंड, बैगा और अन्य आदिवासियों से मिलते-जुलते रिवाजों और आदतों के कारण अगरिया की जीवन-शैली पर बहुत कम अध्ययन किया गया है। हालाँकि उनके पास अपनी एक विकसित टोटमी सभ्यता है और मिथकों का अकूत भंडार भी, जो उन्हें भौतिक सभ्यता से बचाकर रखता है और उन्हें जीवनी-शक्ति देता है। इस पुस्तक के बहाने यह श्रेय प्रमुख नृतत्‍त्‍वशास्त्री वेरियर एलविन को जाता है कि उन्होंने अगरिया जीवन और संस्कृति को इसमें अध्ययन का विषय बनाया है। एलविन के ही शब्दों में, ‘मिथक और शिल्प का संगम ही इस अध्ययन का केन्द्रीय विषय है जो अगरिया को विशेष महत्त्व प्रदान करता है।‘ इसके विभिन्न अध्यायों में अगरिया इतिहास, संख्या और विस्तार, मिथक, टोना-टोटका, शिल्प, आर्थिक स्थिति और पतन की चर्चा एवं विश्लेषण के माध्यम से एक वैविध्यपूर्ण संस्कृति, जिसका अब पतन हो चुका है, की आश्चर्यजनक आन्‍तरिक झाँकी प्रदान की गई है। Agariya shabd ka abhipray sam‍bhavat: aag par kaam karne vale logon se hai athva aadivasiyon ke devta, aghasur se jinka janm lau se hua mana jata hai. Agariya madhya bharat ke loha pighlanevale aur lohari karnevale log hain jo adhiktar maikal pahadi kshetr mein paye jate hain lekin agariya kshetr ko dindori se lekar netarhat tak rekhankit kiya ja sakta hai. Gond, baiga aur anya aadivasiyon se milte-julte rivajon aur aadton ke karan agariya ki jivan-shaili par bahut kam adhyyan kiya gaya hai. Halanki unke paas apni ek viksit totmi sabhyta hai aur mithkon ka akut bhandar bhi, jo unhen bhautik sabhyta se bachakar rakhta hai aur unhen jivni-shakti deta hai. Is pustak ke bahane ye shrey prmukh nritat‍‍vashastri veriyar elvin ko jata hai ki unhonne agariya jivan aur sanskriti ko ismen adhyyan ka vishay banaya hai. Elvin ke hi shabdon mein, ‘mithak aur shilp ka sangam hi is adhyyan ka kendriy vishay hai jo agariya ko vishesh mahattv prdan karta hai. ‘ iske vibhinn adhyayon mein agariya itihas, sankhya aur vistar, mithak, tona-totka, shilp, aarthik sthiti aur patan ki charcha evan vishleshan ke madhyam se ek vaividhypurn sanskriti, jiska ab patan ho chuka hai, ki aashcharyajnak aan‍tarik jhanki prdan ki gai hai.