Adhkhaya Fal

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Adhkhaya Fal

Adhkhaya Fal

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘अधखाया फल’ आनंद हर्षुल का तीसरा कहानी-संग्रह है। शिल्प-सजगता और भाषा का अपूर्व सौष्ठव लेखक के इस तीसरे संग्रह की कहानियों में भी भरपूर मौजूद है। यथार्थ के साथ रोमांस के जिस सर्जनात्मक दुस्साहस के लिए आनंद हर्षुल जाने जाते हैं, वह उनके विलक्षण कथा-गद्य में प्रकट हुआ है। यह ऐसा गद्य है जो इन दिनों प्रचलित कथात्मक गद्य की स्थूल रूढ़ियों—विवरणात्मकता, वृत्तान्‍त के निपट एकरैखिक विन्यास, यथार्थ की सपाट समाजशास्त्रीयता आदि—के बरअक़्स किंचित् स्वैरमूलक, बहुस्तरीय और स्मृतिबहुल रूप ग्रहण करता है। इस रूप में यह कहानी के जाने-पहचाने गद्य का प्रतिलोम जान पड़ता है। आनन्द हर्षुल कहानी की अन्तर्वस्तु को यथार्थवाद के वाचाल मुहावरों में पकड़ने की लोकप्रिय प्रविधि से परहेज़ करते हैं। वे यथार्थ की अन्तर्ध्वनियों को एकाग्रचित्त होकर सुनते हैं और उसकी आन्तरिक विडम्बनाओं पर धीरे-से उँगली रखते हैं। ज़ाहिर है, वे कहीं पहुँचने की आपाधापी में नहीं होते; कहानी उनके तईं यथार्थ के पेंच को आहिस्ता-आहिस्ता खोलने की सतर्कता और धीरज की कला है। कथा के मर्मस्थल तक आनंद दबे पाँव पहुँचते हैं और अनायास उसे उद्घाटित कर देते हैं। उनकी कहानियाँ सनसनी में नहीं, संवेदना में जीती हैं। प्रेम इस संग्रह की ज़्यादातर कहानियों की केन्द्रीय थीम है। यहाँ प्रेम के अनुभव के अलग-अलग रूप-रंग, छवियाँ और आस्वाद हैं—रोमानी उमंग, औत्सुक्य, आन्तरिक उत्ताप से लेकर वंचना और दुःखबोध तक। आनंद ने बहुत मार्मिक ढंग से इन्हें रचा है। उन्होंने अभाव और भूख के मर्म को भी वैसी ही आन्तरिक विकलता के साथ पकड़ा है, जिस तरह प्रेम के मर्म को। इन दोनों तरह के अनुभवों को संवेदनात्मक रूप से मुखर बनाने और प्रभावी ढंग से उजागर करने के लिए वे उनके पार्श्व में निश्छल-निर्बोध मनुष्यता की छवियों का सृजन करते हैं। ग़ौर करें कि आनंद अपने कथा-चरित्रों के कार्यकलाप का चित्रण करते हुए उनके अन्तर्मन में प्रवेश करते हैं और बाहरी दुनिया की घटनात्मकता को उनके अन्तर्जगत की हलचलों से जोड़ते हैं। यहाँ पात्र कथाकार की कठपुतलियाँ नहीं हैं; वे अपने आसपास की निष्ठुर वास्तविकता—अभाव, दु:ख और यंत्रणा—को भीतर तक महसूस करते स्पन्दित मनुष्य हैं। उनके जीवन-यथार्थ को अनुभूति के सूक्ष्म स्तरों पर ग्रहण करने की संवेदनशीलता के चलते भी इस संग्रह की कहानियाँ उल्लेखनीय सिद्ध होंगी। ‘adhkhaya phal’ aanand harshul ka tisra kahani-sangrah hai. Shilp-sajagta aur bhasha ka apurv saushthav lekhak ke is tisre sangrah ki kahaniyon mein bhi bharpur maujud hai. Yatharth ke saath romans ke jis sarjnatmak dussahas ke liye aanand harshul jane jate hain, vah unke vilakshan katha-gadya mein prkat hua hai. Ye aisa gadya hai jo in dinon prachlit kathatmak gadya ki sthul rudhiyon—vivarnatmakta, vrittan‍ta ke nipat ekaraikhik vinyas, yatharth ki sapat samajshastriyta aadi—ke baraks kinchit svairmulak, bahustriy aur smritibhul rup grhan karta hai. Is rup mein ye kahani ke jane-pahchane gadya ka pratilom jaan padta hai. Aanand harshul kahani ki antarvastu ko yatharthvad ke vachal muhavron mein pakadne ki lokapriy prvidhi se parhez karte hain. Ve yatharth ki antardhvaniyon ko ekagrchitt hokar sunte hain aur uski aantrik vidambnaon par dhire-se ungali rakhte hain. Zahir hai, ve kahin pahunchane ki aapadhapi mein nahin hote; kahani unke tain yatharth ke pench ko aahista-ahista kholne ki satarkta aur dhiraj ki kala hai. Katha ke marmasthal tak aanand dabe panv pahunchate hain aur anayas use udghatit kar dete hain. Unki kahaniyan sanasni mein nahin, sanvedna mein jiti hain. Prem is sangrah ki zyadatar kahaniyon ki kendriy thim hai. Yahan prem ke anubhav ke alag-alag rup-rang, chhaviyan aur aasvad hain—romani umang, autsukya, aantrik uttap se lekar vanchna aur duःkhabodh tak. Aanand ne bahut marmik dhang se inhen racha hai. Unhonne abhav aur bhukh ke marm ko bhi vaisi hi aantrik vikalta ke saath pakda hai, jis tarah prem ke marm ko. In donon tarah ke anubhvon ko sanvednatmak rup se mukhar banane aur prbhavi dhang se ujagar karne ke liye ve unke parshv mein nishchhal-nirbodh manushyta ki chhaviyon ka srijan karte hain. Gaur karen ki aanand apne katha-charitron ke karyaklap ka chitran karte hue unke antarman mein prvesh karte hain aur bahri duniya ki ghatnatmakta ko unke antarjgat ki halachlon se jodte hain. Yahan patr kathakar ki kathaputaliyan nahin hain; ve apne aaspas ki nishthur vastavikta—abhav, du:kha aur yantrna—ko bhitar tak mahsus karte spandit manushya hain. Unke jivan-yatharth ko anubhuti ke sukshm stron par grhan karne ki sanvedanshilta ke chalte bhi is sangrah ki kahaniyan ullekhniy siddh hongi.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products