Look Inside
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi
Achchhi Hindi

Achchhi Hindi

Regular price ₹ 331
Sale price ₹ 331 Regular price ₹ 356
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Achchhi Hindi

Achchhi Hindi

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आज-कल देश में हिन्‍दी का जितना अधिक मान है और उसके प्रति जन-साधारण का जितना अधिक अनुराग है, उसे देखते हुए हम कह सकते हैं कि हमारी भाषा सचमुच राष्ट्र-भाषा के पद पर आसीन होती जा रही है। लोग गला फाड़कर चिल्लाते हैं कि राज-काज में, रेडियो में, देशी रियासतों में सब जगह हिन्‍दी का प्रचार करना चाहिए, पर वे कभी आँख उठाकर यह नहीं देखते कि हम स्वयं कैसी हिन्‍दी लिखते हैं। मैं ऐसे लोगों को बतलाना चाहता हूँ कि, हमारी भाषा में उच्‍छृंखलता के लिए कोई स्थान नहीं होना चाहिए। किसी को हमारी भाषा का कलेवर विकृत करने का अधिकार नहीं होना चाहिए। देह के अनेक ऐसे प्रान्तों में हिन्‍दी का ज़ोरों से प्रचार हो रहा है, जहाँ की मात्र-भाषा हिन्‍दी नहीं है। अतः हिन्‍दी का स्वरूप निश्चित और स्थिर करने का सबसे बड़ा उत्तरदायित्व उत्तर भारत के हिन्‍दी लेखकों पर ही है। उन्हें यह सोचना चाहिए कि हमारी लिखी हुई भद्दी, अशुद्ध और बे-मुहावरे भाषा का अन्य प्रान्तवालों पर क्या प्रभाव पड़ेगा, और भाषा के क्षेत्र में हमारा यह पतन उन लोगों को कहाँ ले जाकर पटकेगा। इसी बात का ध्यान रखते हुए पूज्य अम्बिका प्रसाद जी वाजपेयी ने कुछ दिन पहले हिन्‍दी के एक प्रसिद्ध लेखक और प्रचारक से कहा था, "आप अन्य प्रान्तों के निवासियों को हिन्‍दी पढ़ा रहे हैं और उन्हें अपना व्याकरण भी दे रहे हैं, पर जल्दी ही वह समय आएगा, जबकि वही लोग आपके ही व्यकारण से आपकी भूल दिखाएँगे!" यह मानो भाषा की अशुद्धियों वाले व्यापक तत्त्व की और गूढ़ संकेत था। जब हमारी समझ में यह तत्‍त्‍व अच्छी तरह आ जाएगा, तब हम भाषा लिखने में बहुत सचेत होने लगेंगे। और मैं समझता हूँ कि हमारी भाषा की वास्तविक उन्नति का आरम्भ भी उसी दिन से होगा। भाषा वह साधन है, जिससे हम अपने मन के भाव दूसरों पर प्रकट करते हैं। वस्तुतः यह मन के भाव प्रकट करने का ढंग या प्रकार मात्र है। अपने परम प्रचलित और सीमित अर्थ में भाषा के अन्तर्गत वे सार्थक शब्द भी आते हैं, जो हम बोलते हैं और उन शब्दों के वे क्रम भी आते हैं, जो हम लगाते हैं। हमारे मन में समय-समय पर विचार, भाव, इच्छाएँ, अनुभूतियाँ आदि उत्पन्न होती हैं, वही हम अपनी भाषा के द्वारा, चाहे बोलकर, चाहे लिखकर, चाहे किसी संकेत से दूसरों पर प्रकट करते हैं, कभी-कभी हम अपने मुख की कुछ विशेष प्रकार की आकृति बनाकर या भावभंगी आदि से भी अपने विचार और भाव एक सीमा तक प्रकट करते हैं, पर भाव प्रकट करने के ये सब प्रकार हमारे विचार प्रकट करने में उतने अधिक सहायक नहीं होते, जितनी बोली जानेवाली भाषा होती है। यह ठीक है कि कुछ चरम अवस्थाओं में मन का कोई विशेष भाव किसी अवसर पर मूक रहकर या फिर कुछ विशिष्ट मुद्राओं से प्रकट किया जाता है और इसीलिए 'मूक अभिनय' भी 'अभिनय' का एक उत्कृष्ट प्रकार माना जाता है। पर साधारणतः मन के भाव प्रकट करने का सबसे अच्छा, सुगम और सब लोगों के लिए सुलभ उपाय भाषा ही है। Aaj-kal desh mein hin‍di ka jitna adhik maan hai aur uske prati jan-sadharan ka jitna adhik anurag hai, use dekhte hue hum kah sakte hain ki hamari bhasha sachmuch rashtr-bhasha ke pad par aasin hoti ja rahi hai. Log gala phadkar chillate hain ki raj-kaj mein, rediyo mein, deshi riyaston mein sab jagah hin‍di ka prchar karna chahiye, par ve kabhi aankh uthakar ye nahin dekhte ki hum svayan kaisi hin‍di likhte hain. Main aise logon ko batlana chahta hun ki, hamari bhasha mein uch‍chhrinkhalta ke liye koi sthan nahin hona chahiye. Kisi ko hamari bhasha ka kalevar vikrit karne ka adhikar nahin hona chahiye. Deh ke anek aise pranton mein hin‍di ka zoron se prchar ho raha hai, jahan ki matr-bhasha hin‍di nahin hai. Atः hin‍di ka svrup nishchit aur sthir karne ka sabse bada uttardayitv uttar bharat ke hin‍di lekhkon par hi hai. Unhen ye sochna chahiye ki hamari likhi hui bhaddi, ashuddh aur be-muhavre bhasha ka anya prantvalon par kya prbhav padega, aur bhasha ke kshetr mein hamara ye patan un logon ko kahan le jakar patkega. Isi baat ka dhyan rakhte hue pujya ambika prsad ji vajpeyi ne kuchh din pahle hin‍di ke ek prsiddh lekhak aur prcharak se kaha tha, "aap anya pranton ke nivasiyon ko hin‍di padha rahe hain aur unhen apna vyakran bhi de rahe hain, par jaldi hi vah samay aaega, jabaki vahi log aapke hi vykaran se aapki bhul dikhayenge!" ye mano bhasha ki ashuddhiyon vale vyapak tattv ki aur gudh sanket tha. Jab hamari samajh mein ye tat‍‍va achchhi tarah aa jayega, tab hum bhasha likhne mein bahut sachet hone lagenge. Aur main samajhta hun ki hamari bhasha ki vastvik unnati ka aarambh bhi usi din se hoga. Bhasha vah sadhan hai, jisse hum apne man ke bhav dusron par prkat karte hain. Vastutः ye man ke bhav prkat karne ka dhang ya prkar matr hai. Apne param prachlit aur simit arth mein bhasha ke antargat ve sarthak shabd bhi aate hain, jo hum bolte hain aur un shabdon ke ve kram bhi aate hain, jo hum lagate hain. Hamare man mein samay-samay par vichar, bhav, ichchhayen, anubhutiyan aadi utpann hoti hain, vahi hum apni bhasha ke dvara, chahe bolkar, chahe likhkar, chahe kisi sanket se dusron par prkat karte hain, kabhi-kabhi hum apne mukh ki kuchh vishesh prkar ki aakriti banakar ya bhavbhangi aadi se bhi apne vichar aur bhav ek sima tak prkat karte hain, par bhav prkat karne ke ye sab prkar hamare vichar prkat karne mein utne adhik sahayak nahin hote, jitni boli janevali bhasha hoti hai. Ye thik hai ki kuchh charam avasthaon mein man ka koi vishesh bhav kisi avsar par muk rahkar ya phir kuchh vishisht mudraon se prkat kiya jata hai aur isiliye muk abhinay bhi abhinay ka ek utkrisht prkar mana jata hai. Par sadharnatः man ke bhav prkat karne ka sabse achchha, sugam aur sab logon ke liye sulabh upay bhasha hi hai.

Shipping & Return
  • Over 27,000 Pin Codes Served: Nationwide Delivery Across India!

  • Upon confirmation of your order, items are dispatched within 24-48 hours on business days.

  • Certain books may be delayed due to alternative publishers handling shipping.

  • Typically, orders are delivered within 5-7 days.

  • Delivery partner will contact before delivery. Ensure reachable number; not answering may lead to return.

  • Study the book description and any available samples before finalizing your order.

  • To request a replacement, reach out to customer service via phone or chat.

  • Replacement will only be provided in cases where the wrong books were sent. No replacements will be offered if you dislike the book or its language.

Note: Saturday, Sunday and Public Holidays may result in a delay in dispatching your order by 1-2 days.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products