Abhivanchiton Ka Shikshadhikar

Regular price Rs. 290
Sale price Rs. 290 Regular price Rs. 312
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Abhivanchiton Ka Shikshadhikar

Abhivanchiton Ka Shikshadhikar

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आधुनिक शिक्षा व्यवस्था केवल उच्च और मध्यम वर्गों की सेवा करती है। निम्न-मध्य और निम्न वर्गों के विद्यार्थी इसमें अपनी वास्तविकताओं के बरक्स खड़ी दुनियाओं के अनुकरण से ज्‍़यादा कुछ हासिल नहीं करते। कुछ प्रयास इस दिशा में ज़रूर हुए हैं कि वंचित और हाशिए पर पड़े लोगों तक शिक्षा पहुँचे, लेकिन वह किस रूप में पहुँच पाई है और कितनी, इसका कोई स्पष्ट आकलन हमारे सामने नहीं है। एक सरोकारवान शोध अध्ययन पर आधारित यह पुस्तक कुछ ऐसे पैमानों को गढ़ने की कोशिश करती है जिनके द्वारा हम अभिवंचित समुदायों तक पहुँची शिक्षा की गुणवत्ता, स्वरूप और मात्रा का अन्‍दाज़ा लगा सकते हैं। साथ ही शिक्षा के अपने अधिकार को हासिल करने में क्या कुछ करना आवश्यक है, इसका भी उल्लेख किया गया है। शोध के आधार पर मिले परिणामों के विश्लेषण से शैक्षिक परिदृश्य में सकारात्मक परिवर्तन हेतु एक व्यावहारिक मॉडल के निरूपण का प्रयास भी यह पुस्तक करती है। यह पुस्तक इस बात को भी विशेष रूप से रेखांकित करती है कि अभिवंचित तबकों के बच्चे भी इस देश की उतनी ही मूल्यवान पूँजी हैं जितने सम्पन्न और खाते-पीते लोगों की सन्तानें। ज़रूरत है बस निष्ठा और ईमानदारी के साथ उन्हें मुख्यधारा में शामिल करने, और उससे भी ज्‍़यादा मुख्यधारा में इनके लिए स्थान बनाने की। Aadhunik shiksha vyvastha keval uchch aur madhyam vargon ki seva karti hai. Nimn-madhya aur nimn vargon ke vidyarthi ismen apni vastaviktaon ke baraks khadi duniyaon ke anukran se ‍yada kuchh hasil nahin karte. Kuchh pryas is disha mein zarur hue hain ki vanchit aur hashiye par pade logon tak shiksha pahunche, lekin vah kis rup mein pahunch pai hai aur kitni, iska koi spasht aaklan hamare samne nahin hai. Ek sarokarvan shodh adhyyan par aadharit ye pustak kuchh aise paimanon ko gadhne ki koshish karti hai jinke dvara hum abhivanchit samudayon tak pahunchi shiksha ki gunvatta, svrup aur matra ka an‍daza laga sakte hain. Saath hi shiksha ke apne adhikar ko hasil karne mein kya kuchh karna aavashyak hai, iska bhi ullekh kiya gaya hai. Shodh ke aadhar par mile parinamon ke vishleshan se shaikshik paridrishya mein sakaratmak parivartan hetu ek vyavharik maudal ke nirupan ka pryas bhi ye pustak karti hai. Ye pustak is baat ko bhi vishesh rup se rekhankit karti hai ki abhivanchit tabkon ke bachche bhi is desh ki utni hi mulyvan punji hain jitne sampann aur khate-pite logon ki santanen. Zarurat hai bas nishtha aur iimandari ke saath unhen mukhydhara mein shamil karne, aur usse bhi ‍yada mukhydhara mein inke liye sthan banane ki.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products