Look Inside
Abalaaon Ka Insaf
Abalaaon Ka Insaf
Abalaaon Ka Insaf
Abalaaon Ka Insaf

Abalaaon Ka Insaf

Regular price Rs. 290
Sale price Rs. 290 Regular price Rs. 312
Unit price
Save 6%
6% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Abalaaon Ka Insaf

Abalaaon Ka Insaf

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

नवजागरण अपने राष्ट्रीय जागरण व सुधारवादी आन्दोलन के दौरान अनेक सार्थक प्रयासों और अपनी सफलताओं के लिए जाना जाता है। यह वही दौर था जब साम्राज्य विरोधी चेतना एक विराट राष्ट्रीय आन्दोलन का रूप ले चुकी थी, और राष्ट्रवाद अपने पूरे उफान पर था। मगर बावजूद इसके यह दौर अनेक विडम्बनाओं और विरोधाभासों के साथ-साथ कई विवादों का जन्मदाता भी रहा है। सबसे बड़ी विडम्बना इसकी यह रही कि दलित-प्रश्न और स्त्री-लेखन इसके परिदृश्य से पूरी तरह ग़ायब रहे। विशेषकर स्त्री-मुक्ति की छटपटाहट और चिन्ता इसके चिन्तन के केन्द्र में जैसे रहे ही नहीं। स्त्री-शिक्षा के अभाव और पितृसत्तात्मक व्यवस्था की गहरी पैठ के चलते, यह छटपटाहट हिन्दी साहित्य के इस दौर के इतिहास में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने से वंचित रह गई।
बाद में इस काल के साहित्यिक परिदृश्य और विशेषताओं को हिन्दी के अनेक महानायकों ने रेखांकित और विश्लेषित किया, लेकिन उनकी नज़रों से भी यह छटपटाहट अलक्षित और ओझल ही रही। इन महानायकों के सामने पुरुषों द्वारा रचित वही लेखन रहा, जिसके कारण हिन्दी नवजागरण को अतिशयोक्ति में कभी-कभी ‘हिन्दू नवजागरण’ भी कहा जाता है। ऐसे में यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि हिन्दी नवजागरण के शुरुआत से लेकर आधुनिक काल (द्विवेदी युग) का पूरा कालखंड स्त्री-लेखन (स्त्रियों द्वारा किया गया लेखन) रहित रहा है? आख़िर ऐसे कौन से कारण थे जिनके चलते स्त्री-लेखन के रूप में, जो भी लेखन प्रकाश में आया, वह पुरुषों द्वारा ही किया गया लेखन था? ये ऐसे प्रश्न हैं जो हिन्दी साहित्य में बड़ी बहस की माँग करते हैं। बड़ी इसलिए कि यह मात्र एक धारणा या भ्रामक प्रचार है कि हिन्दी नवजागरण और उसके बाद के कुछ दशकों के दौरान स्त्री-लेखन नहीं हुआ। ‘अबलाओं का इन्साफ़’ (1927) को इसके उदाहरण के रूप में देखा जा सकता है। यह आत्मकथा गम्भीर स्त्री-प्रश्नों के साथ-साथ उस पुरुषवादी मानसिकता और सोच को पूरी निर्ममता के साथ बेपर्दा और उनके ऊपर जमी गर्द को पोंछती है, जिसे या तो जानबूझकर पोंछा नहीं गया या किसी कारणवश छोड़ दिया गया। Navjagran apne rashtriy jagran va sudharvadi aandolan ke dauran anek sarthak pryason aur apni saphaltaon ke liye jana jata hai. Ye vahi daur tha jab samrajya virodhi chetna ek virat rashtriy aandolan ka rup le chuki thi, aur rashtrvad apne pure uphan par tha. Magar bavjud iske ye daur anek vidambnaon aur virodhabhason ke sath-sath kai vivadon ka janmdata bhi raha hai. Sabse badi vidambna iski ye rahi ki dalit-prashn aur stri-lekhan iske paridrishya se puri tarah gayab rahe. Visheshkar stri-mukti ki chhataptahat aur chinta iske chintan ke kendr mein jaise rahe hi nahin. Stri-shiksha ke abhav aur pitrisattatmak vyvastha ki gahri paith ke chalte, ye chhataptahat hindi sahitya ke is daur ke itihas mein apni upasthiti darj karane se vanchit rah gai. Baad mein is kaal ke sahityik paridrishya aur visheshtaon ko hindi ke anek mahanaykon ne rekhankit aur vishleshit kiya, lekin unki nazron se bhi ye chhataptahat alakshit aur ojhal hi rahi. In mahanaykon ke samne purushon dvara rachit vahi lekhan raha, jiske karan hindi navjagran ko atishyokti mein kabhi-kabhi ‘hindu navjagran’ bhi kaha jata hai. Aise mein ye prashn uthna svabhavik hai ki hindi navjagran ke shuruat se lekar aadhunik kaal (dvivedi yug) ka pura kalkhand stri-lekhan (striyon dvara kiya gaya lekhan) rahit raha hai? aakhir aise kaun se karan the jinke chalte stri-lekhan ke rup mein, jo bhi lekhan prkash mein aaya, vah purushon dvara hi kiya gaya lekhan tha? ye aise prashn hain jo hindi sahitya mein badi bahas ki mang karte hain. Badi isaliye ki ye matr ek dharna ya bhramak prchar hai ki hindi navjagran aur uske baad ke kuchh dashkon ke dauran stri-lekhan nahin hua. ‘ablaon ka insaf’ (1927) ko iske udahran ke rup mein dekha ja sakta hai. Ye aatmaktha gambhir stri-prashnon ke sath-sath us purushvadi manasikta aur soch ko puri nirmamta ke saath beparda aur unke uupar jami gard ko ponchhti hai, jise ya to janbujhkar ponchha nahin gaya ya kisi karanvash chhod diya gaya.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Pradip Rekhta Books

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products