Look Inside
Ab Aur Nahin
Ab Aur Nahin
Ab Aur Nahin
Ab Aur Nahin

Ab Aur Nahin

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Ab Aur Nahin

Ab Aur Nahin

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हिन्‍दी दलित कविता की विकास-यात्रा में ओमप्रकाश वाल्मीकि की कविताओं का एक विशिष्ट और महत्त्पूर्ण स्थान है। आक्रोशजनित गम्भीर अभिव्यक्ति में जहाँ अतीत के गहरे दंश हैं, वहीं वर्तमान की विषमतापूर्ण, मोहभंग कर देनेवाली स्थितियों को इन कविताओं में गहनता और सूक्ष्मता के साथ चित्रित किया गया है। दलित कविता के आन्तरिक भावबोध और दलित चेतना के व्यापक स्वरूप को इस संग्रह की कविताओं में वैचारिक प्रतिबद्धता और प्रभावोत्पादक अभिव्यंजना के साथ देखा जा सकता है।
दलित कवि का मानवीय दृष्टिकोण ही दलित कविता को सामाजिकता से जोड़ता है। इस संग्रह की कविताओं में दलित कविता के मानवीय पक्ष को प्रभावशाली ढंग से उभारा गया है। दलित कवि जीवन से असम्पृक्त नहीं रह सकता। वह घृणा में नहीं, प्रेम में विश्वास करता है—'हज़ारों साल की यातना को भूलकर/निकल आए हैं शब्द/कूड़ेदान से बाहर/खड़े हो गए हैं/उनके पक्ष में/जो फँसे हुए हैं अभी तक/अतीत की दलदल में।’
‘अब और नहीं...' संग्रह की कविताओं में ऐतिहासिक सन्दर्भों को वर्तमान से जोड़कर मिथकों को नए अर्थों में प्रस्तुत किया गया है। दलित कविता में पारम्परिक प्रतीकों, मिथकों को नए अर्थ और सन्दर्भों से जोड़कर देखे जाने की प्रवृत्ति दिखाई देती है, जो दलित कविता की विशिष्ट पहचान बनाती है। ओमप्रकाश वाल्मीकि की कविताओं में 'किष्किंधा' शीर्षक कविता में 'बालि' का आक्रोश दलित कवि के आक्रोश में रूपान्तरित होकर कविता के एक विशिष्ट और प्रभावशाली आयाम को स्थापित करता है—'मेरा अँधेरा तब्दील हो रहा है/कविताओं में/याद आ रही है मुझे/बालि की गुफा/और उसका क्रोध |'
इस संग्रह की कविताओं का यथार्थ गहरे भावबोध के साथ सामाजिक शोषण के विभिन्न आयामों से टकराता है और मानवीय मूल्यों की पक्षधरता में खड़ा दिखाई देता है। ओमप्रकाश वाल्मीकि की प्रवाहमयी भावाभिव्यक्ति इन कविताओं को विशिष्ट और बहुआयामी बनाती है | Hin‍di dalit kavita ki vikas-yatra mein omaprkash valmiki ki kavitaon ka ek vishisht aur mahattpurn sthan hai. Aakroshajnit gambhir abhivyakti mein jahan atit ke gahre dansh hain, vahin vartman ki vishamtapurn, mohbhang kar denevali sthitiyon ko in kavitaon mein gahanta aur sukshmta ke saath chitrit kiya gaya hai. Dalit kavita ke aantrik bhavbodh aur dalit chetna ke vyapak svrup ko is sangrah ki kavitaon mein vaicharik pratibaddhta aur prbhavotpadak abhivyanjna ke saath dekha ja sakta hai. Dalit kavi ka manviy drishtikon hi dalit kavita ko samajikta se jodta hai. Is sangrah ki kavitaon mein dalit kavita ke manviy paksh ko prbhavshali dhang se ubhara gaya hai. Dalit kavi jivan se asamprikt nahin rah sakta. Vah ghrina mein nahin, prem mein vishvas karta hai—hazaron saal ki yatna ko bhulkar/nikal aae hain shabd/kudedan se bahar/khade ho ge hain/unke paksh men/jo phanse hue hain abhi tak/atit ki daldal mein. ’
‘ab aur nahin. . . Sangrah ki kavitaon mein aitihasik sandarbhon ko vartman se jodkar mithkon ko ne arthon mein prastut kiya gaya hai. Dalit kavita mein paramprik prtikon, mithkon ko ne arth aur sandarbhon se jodkar dekhe jane ki prvritti dikhai deti hai, jo dalit kavita ki vishisht pahchan banati hai. Omaprkash valmiki ki kavitaon mein kishkindha shirshak kavita mein bali ka aakrosh dalit kavi ke aakrosh mein rupantrit hokar kavita ke ek vishisht aur prbhavshali aayam ko sthapit karta hai—mera andhera tabdil ho raha hai/kavitaon men/yad aa rahi hai mujhe/bali ki gupha/aur uska krodh.
Is sangrah ki kavitaon ka yatharth gahre bhavbodh ke saath samajik shoshan ke vibhinn aayamon se takrata hai aur manviy mulyon ki pakshadharta mein khada dikhai deta hai. Omaprkash valmiki ki prvahamyi bhavabhivyakti in kavitaon ko vishisht aur bahuayami banati hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products