BackBack
-11%

Aatma Ki Aankhen : Dinkar Granthmala

Ramdhari Singh 'Dinkar'

Rs. 395 Rs. 352

Lokbharti Prakashan

‘आत्मा की आँखें' में संकलित हैं डी.एच. लॉरेन्स की वे कविताएँ जो यूरोप और अमेरिका में बहुत लोकप्रिय नहीं हो सकीं, लेकिन दिनकर जी ने उन्हें चयनित कर अपनी सहज भाषा-शैली में इस तरह अनुवाद किया कि नितान्त मौलिक प्रतीत होती हैं। डी.एच. लॉरेन्स की कविताओं के अनुवाद के पीछे... Read More

Description

‘आत्मा की आँखें' में संकलित हैं डी.एच. लॉरेन्स की वे कविताएँ जो यूरोप और अमेरिका में बहुत लोकप्रिय नहीं हो सकीं, लेकिन दिनकर जी ने उन्हें चयनित कर अपनी सहज भाषा-शैली में इस तरह अनुवाद किया कि नितान्त मौलिक प्रतीत होती हैं।
डी.एच. लॉरेन्स की कविताओं के अनुवाद के पीछे जो मुख्य बातें थीं, उनके बारे में ख़ुद दिनकर जी का कहना है कि ‘इन सभी कविताओं की भाषा बुनियादी हिन्दी है। लॉरेन्स की जिन कविताओं पर ये कविताएँ तैयार हुई हैं, उनकी भाषा भी मुझे बुनियादी अंग्रेज़ी के समान दिखाई पड़ी–सरल, मुहावरेदार, चलतू और पुरजोर जिसमें बनावट का नाम भी नहीं है। कविताओं की भाषा गढ़ने के लिए लॉरेन्स छेनी और हथौड़ी का प्रयोग नहीं करते थे। जैसे ज़‍िन्दगी वे उसे मानते थे जो हमारी सभ्यतावाली पोशाक के भीतर बहती है। उसी तरह, भाषा उन्हें वह पसन्द थी जो बोलचाल से उछलकर क़लम पर आ बैठती है। बुद्धि को वे बराबर शंका से देखते रहे और कला में पच्चीकारी का काम उन्हें नापसन्द था। मैंने ख़ासकर उन्हीं कविताओं को चुना है जो भारतीय चेतना के काफ़ी आस-पास चक्कर काटती हैं।’ इस तरह देखें तो ‘आत्मा की आँखें’ नए आस्वाद और सहज सम्प्रेष्य कविताओं का एक अनूठा संकलन है। ‘atma ki aankhen mein sanklit hain di. Ech. Laurens ki ve kavitayen jo yurop aur amerika mein bahut lokapriy nahin ho sakin, lekin dinkar ji ne unhen chaynit kar apni sahaj bhasha-shaili mein is tarah anuvad kiya ki nitant maulik prtit hoti hain. Di. Ech. Laurens ki kavitaon ke anuvad ke pichhe jo mukhya baten thin, unke bare mein khud dinkar ji ka kahna hai ki ‘in sabhi kavitaon ki bhasha buniyadi hindi hai. Laurens ki jin kavitaon par ye kavitayen taiyar hui hain, unki bhasha bhi mujhe buniyadi angrezi ke saman dikhai padi–saral, muhavredar, chaltu aur purjor jismen banavat ka naam bhi nahin hai. Kavitaon ki bhasha gadhne ke liye laurens chheni aur hathaudi ka pryog nahin karte the. Jaise za‍indagi ve use mante the jo hamari sabhytavali poshak ke bhitar bahti hai. Usi tarah, bhasha unhen vah pasand thi jo bolchal se uchhalkar qalam par aa baithti hai. Buddhi ko ve barabar shanka se dekhte rahe aur kala mein pachchikari ka kaam unhen napsand tha. Mainne khaskar unhin kavitaon ko chuna hai jo bhartiy chetna ke kafi aas-pas chakkar katti hain. ’ is tarah dekhen to ‘atma ki aankhen’ ne aasvad aur sahaj sampreshya kavitaon ka ek anutha sanklan hai.