BackBack
-11%

Aap Hi Baniye Krishna

Rs. 150 Rs. 134

महाभारत के चरित्रों में अकेले कृष्ण हैं, जिनका किसी न किसी रूप में प्रायः सभी चरित्रों से जुडाव रहा। उनकी सबसे बड़ी विशेषता यह थी कि वे सिंहासन पर विराजमान सम्राट से लेकर गली-कूचों में घूमनेवाली ग्वालिनों तक सबसे उनके स्तर पर जाकर संवाद ही नहीं कर लेते थे, उन्हें... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Management
Description

महाभारत के चरित्रों में अकेले कृष्ण हैं, जिनका किसी न किसी रूप में प्रायः सभी चरित्रों से जुडाव रहा। उनकी सबसे बड़ी विशेषता यह थी कि वे सिंहासन पर विराजमान सम्राट से लेकर गली-कूचों में घूमनेवाली ग्वालिनों तक सबसे उनके स्तर पर जाकर संवाद ही नहीं कर लेते थे, उन्हें अपनी नीति और राजनीति का पोषक भी बना लेते थे। बचपन से लेकर प्रौढ़ावस्था तक देश-भर में उन्होंने जो किया और जैसे किया, उनके सिवा और कौन कर सका? अपने हर काम से वे विपक्षी को पस्त-परास्त और निरस्त्र ही नहीं कर देते थे, उसे अपना अनुरक्त भी बना लिया करते थे। अपने कारनामों के औचित्य के अदभुत-अपूर्व तर्क भी वे जुटा लिया करते थे। धरती के भविष्य को सँवारने और पर्यावरण को बचाने के साथ-साथ सबको प्यार देने और सबका प्यार पाने में कृष्ण पूर्णतः सफल सिद्ध हुए। योगेश्वर कृष्ण की क्रन्तिकारी नीतियों, सफल रणनीतियों, दार्शनिक विचारों और नेतृत्व की अदभुत शैलियों को प्रबन्‍धन की दृष्टि से विवेचित-विश्लेषित करनेवाली हिन्‍दी की एक ऐसी पुस्तक, जिसे पढ़कर आप भी अपने जीवन को कृष्ण की तरह एक विजेता के रूप में ढाल सकते हैं। Mahabharat ke charitron mein akele krishn hain, jinka kisi na kisi rup mein prayः sabhi charitron se judav raha. Unki sabse badi visheshta ye thi ki ve sinhasan par virajman samrat se lekar gali-kuchon mein ghumnevali gvalinon tak sabse unke star par jakar sanvad hi nahin kar lete the, unhen apni niti aur rajniti ka poshak bhi bana lete the. Bachpan se lekar praudhavastha tak desh-bhar mein unhonne jo kiya aur jaise kiya, unke siva aur kaun kar saka? apne har kaam se ve vipakshi ko past-parast aur nirastr hi nahin kar dete the, use apna anurakt bhi bana liya karte the. Apne karnamon ke auchitya ke adbhut-apurv tark bhi ve juta liya karte the. Dharti ke bhavishya ko sanvarane aur paryavran ko bachane ke sath-sath sabko pyar dene aur sabka pyar pane mein krishn purnatः saphal siddh hue. Yogeshvar krishn ki krantikari nitiyon, saphal rannitiyon, darshnik vicharon aur netritv ki adbhut shailiyon ko prban‍dhan ki drishti se vivechit-vishleshit karnevali hin‍di ki ek aisi pustak, jise padhkar aap bhi apne jivan ko krishn ki tarah ek vijeta ke rup mein dhal sakte hain.