Aao Baith Len Kuchh Der

Regular price Rs. 248
Sale price Rs. 248 Regular price Rs. 267
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Aao Baith Len Kuchh Der

Aao Baith Len Kuchh Der

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आओ बैठ लें कुछ देर’ प्रसिद्ध कथाकार और चिन्तक श्रीलाल शुक्ल की सीधी-सादी किन्तु व्यंग्यात्मक शैली में 1992-93 के दौरान ‘नवभारत टाइम्स’ में लिखे गए चुनिन्दा स्तम्भ लेखों का संकलन है।
श्री शुक्ल के इन लेखों में राजनीति, समाज, भाषा, साहित्य, रंगमंच, पत्रकारिता, फ़िल्म आदि विषयों पर समग्रता से विचार करने की एक निजी पद्धति देखने को मिलती है। दरअसल ये टिप्पणियाँ एक ख़ास मिज़ाज और ख़ास शैली में लिखी गई हैं, जिनकी प्रासंगिकता पर कभी धूल की परत नहीं जम सकती। कुछ टिप्पणियाँ घटना या समाचार-विशेष से प्रेरित होने के बावजूद अपना व्यापक प्रभाव छोड़ जाती हैं।
दरअसल प्रस्तुत पुस्तक की टिप्पणियों से गुज़रना एक अर्थवान अनुभव लगता है इसलिए नहीं कि इस प्रक्रिया में हम सिर्फ़ वर्तमान का स्पर्श कर रहे होते हैं, बल्कि इसलिए कि यह हमें बहुत कुछ सोचने पर विवश करती है। इन टिप्पणियों में ऐसी अन्तर्दृष्टि है, सूझ-भरी समझ है, जिससे वर्तमान को हम और अधिक प्रामाणिकता से जान पाते हैं।
इन लेखों में यूँ तो व्यंग्य और विनोद का रंग भी मिलता है, लेकिन वे जिन स्थितियों, धारणाओं या विचारों से जुड़े हैं, वे सम्भवतः आज भी हमारी चिन्तन-प्रक्रिया को सक्रिय बना सकते हैं। Aao baith len kuchh der’ prsiddh kathakar aur chintak shrilal shukl ki sidhi-sadi kintu vyangyatmak shaili mein 1992-93 ke dauran ‘navbharat taims’ mein likhe ge chuninda stambh lekhon ka sanklan hai. Shri shukl ke in lekhon mein rajniti, samaj, bhasha, sahitya, rangmanch, patrkarita, film aadi vishyon par samagrta se vichar karne ki ek niji paddhati dekhne ko milti hai. Darasal ye tippaniyan ek khas mizaj aur khas shaili mein likhi gai hain, jinki prasangikta par kabhi dhul ki parat nahin jam sakti. Kuchh tippaniyan ghatna ya samachar-vishesh se prerit hone ke bavjud apna vyapak prbhav chhod jati hain.
Darasal prastut pustak ki tippaniyon se guzarna ek arthvan anubhav lagta hai isaliye nahin ki is prakriya mein hum sirf vartman ka sparsh kar rahe hote hain, balki isaliye ki ye hamein bahut kuchh sochne par vivash karti hai. In tippaniyon mein aisi antardrishti hai, sujh-bhari samajh hai, jisse vartman ko hum aur adhik pramanikta se jaan pate hain.
In lekhon mein yun to vyangya aur vinod ka rang bhi milta hai, lekin ve jin sthitiyon, dharnaon ya vicharon se jude hain, ve sambhvatः aaj bhi hamari chintan-prakriya ko sakriy bana sakte hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products