Aalochana Aur Samvad

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Aalochana Aur Samvad

Aalochana Aur Samvad

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

उनका अध्ययन असीम है, स्मृति अथाह और वैचारिक व्याकुलता अविराम। नामवर सिंह के रूप में हिन्दी के पास एक ऐसा व्यक्तित्व है जो सतत चिन्तनशील है, सतत सृजनरत है, सदैव मुखर है। आलोचक या लेखक होना उनके लिए सिर्फ़ एक औपचारिक बाना नहीं है जिसे अवसर देखकर पहना और उतारा जा सके। उनका होना वही होना है जैसा हम उन्हें देखते हैं। जब वे नियमपूर्वक नहीं लिख रहे थे, और ज्‍़यादातर भाषणों और व्याख्यानों में अपनी बात रख रहे थे तब भी उन्होंने बहुत लिखा : कभी किसी पुस्तक की भूमिका के रूप में, कभी किसी आयोजन के लिए और कभी स्वतंत्र किसी पत्र-पत्रिका के लिए।
इस पुस्तक में उनके ऐसे ही असंकलित और कुछ अप्रकाशित आलेखों को संकलित किया गया है। इनमें से जो आलेख किसी पुस्तक की भूमिका के तौर पर लिखे गए, वे भी सिर्फ़ पुस्तक की प्रशस्ति नहीं हैं, उनमें समीक्षा-आलोचना के उन्हीं मानदंडों का निर्वाह किया गया है, जो नामवर सिंह के चिन्तन की पहचान हैं। रचना को अनेक कोणों से जानने की कोशिश और उसके उस मूल तत्त्व को रेखांकित करने का प्रयास जो उस रचना या उस लेखक को विशिष्ट बनाता है।
इस संकलन में हम भारत और विश्व के कुछ ऐसे रचनाकारों को नामवर जी की निगाह से देखेंगे जो निसन्देह अपरिचित नाम नहीं हैं। उन्हें हमने पढ़ा भी है, समझा भी है लेकिन यहाँ नामवर जी की व्याख्या के साथ उन्हें जानना बेशक एक उपलब्धि है। साथ ही भाषा सम्बन्धी विमर्श और अंग्रेज़ी में लिखित कुछ व्याख्यानों का अनुवाद भी यहाँ संकलित है जो पाठकों के लिए निश्चित ही संग्रहणीय है। Unka adhyyan asim hai, smriti athah aur vaicharik vyakulta aviram. Namvar sinh ke rup mein hindi ke paas ek aisa vyaktitv hai jo satat chintanshil hai, satat srijanrat hai, sadaiv mukhar hai. Aalochak ya lekhak hona unke liye sirf ek aupcharik bana nahin hai jise avsar dekhkar pahna aur utara ja sake. Unka hona vahi hona hai jaisa hum unhen dekhte hain. Jab ve niyampurvak nahin likh rahe the, aur ‍yadatar bhashnon aur vyakhyanon mein apni baat rakh rahe the tab bhi unhonne bahut likha : kabhi kisi pustak ki bhumika ke rup mein, kabhi kisi aayojan ke liye aur kabhi svtantr kisi patr-patrika ke liye. Is pustak mein unke aise hi asanklit aur kuchh aprkashit aalekhon ko sanklit kiya gaya hai. Inmen se jo aalekh kisi pustak ki bhumika ke taur par likhe ge, ve bhi sirf pustak ki prshasti nahin hain, unmen samiksha-alochna ke unhin mandandon ka nirvah kiya gaya hai, jo namvar sinh ke chintan ki pahchan hain. Rachna ko anek konon se janne ki koshish aur uske us mul tattv ko rekhankit karne ka pryas jo us rachna ya us lekhak ko vishisht banata hai.
Is sanklan mein hum bharat aur vishv ke kuchh aise rachnakaron ko namvar ji ki nigah se dekhenge jo nisandeh aparichit naam nahin hain. Unhen hamne padha bhi hai, samjha bhi hai lekin yahan namvar ji ki vyakhya ke saath unhen janna beshak ek uplabdhi hai. Saath hi bhasha sambandhi vimarsh aur angrezi mein likhit kuchh vyakhyanon ka anuvad bhi yahan sanklit hai jo pathkon ke liye nishchit hi sangrahniy hai.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products