BackBack
-11%

Aakhiri Manzil

Rs. 150 Rs. 134

वरिष्ठ क़लमकार रवीन्द्र वर्मा के उपन्यास ‘आख़िरी मंज़ि‍ल’ के कवि-नायक में एक ओर ऐसी आत्मिक उत्कटता है कि वह अपने शरीर का अतिक्रमण करना चाहता है, दूसरी ओर अपनी अन्तिम आत्मिक हताशा में भी उसे आत्महत्या से बचे किसान का सपना आता है जो उसका पड़ोसी है और जिसका घर... Read More

BlackBlack
Description

वरिष्ठ क़लमकार रवीन्द्र वर्मा के उपन्यास ‘आख़िरी मंज़ि‍ल’ के कवि-नायक में एक ओर ऐसी आत्मिक उत्कटता है कि वह अपने शरीर का अतिक्रमण करना चाहता है, दूसरी ओर अपनी अन्तिम आत्मिक हताशा में भी उसे आत्महत्या से बचे किसान का सपना आता है जो उसका पड़ोसी है और जिसका घर ‘ईश्वर का घर’ है। हमारे कथा-साहित्य में अक्सर ये आत्मिक और सामाजिक चेतना के दोनों धरातल बहुत-कुछ अलग-अलग पाए जाते हैं। यह उपन्यास मनुष्य की चेतना के विविध स्तरों की पूँजीभूत खोज है—उनकी सम्भावनाओं और सीमाओं की भी। इसमें चेतना के आत्मिक-आध्यात्मिक और सामाजिक पहलू एक-दूसरे से अन्तर्क्रिया करते हुए एक-दूसरे से अपना रिश्ता ढूँढ़ते हैं। ऐसा लगता है जैसे चेतना के विभिन्न स्तर एक-दूसरे से मिलकर एक संश्लिष्ट, पूर्ण, बेचैन मानव-अस्मिता रच रहे हैं जिसमें सारे तार एक-दूसरे में गुँथे हैं।
इस भोगवादी समय में कलाकार की नियति से जुड़ा सफलता और सार्थकता का द्वन्द्व और भी तीखा हो गया है। यह द्वन्द्व इस आख्यान का एक मूलभूत आयाम है जिसके माध्यम से मनुष्य की नियति की खोज सम्भव होती है। यह खोज अन्ततः एक त्रासद सिम्फ़नी में समाप्त होती है।
रवीन्द्र वर्मा अपने क़िस्म के अनूठे रचनाकार हैं। कथ्य और शिल्प के मामले में परम्परा और आधुनिकता का जो सम्मिलन उनके इस नए उपन्यास में दिखाई देता है, वह अद्वितीय है।
साहित्य-समाज की मौजूदा तिक्तता और संत्रास तथा प्रकाशन और पुरस्कार की राजनीति को जानने-समझने का अवसर मुहैया करानेवाला अत्यन्त ज़रूरी उपन्यास। Varishth qalamkar ravindr varma ke upanyas ‘akhiri manzi‍la’ ke kavi-nayak mein ek or aisi aatmik utkatta hai ki vah apne sharir ka atikrman karna chahta hai, dusri or apni antim aatmik hatasha mein bhi use aatmhatya se bache kisan ka sapna aata hai jo uska padosi hai aur jiska ghar ‘iishvar ka ghar’ hai. Hamare katha-sahitya mein aksar ye aatmik aur samajik chetna ke donon dharatal bahut-kuchh alag-alag paye jate hain. Ye upanyas manushya ki chetna ke vividh stron ki punjibhut khoj hai—unki sambhavnaon aur simaon ki bhi. Ismen chetna ke aatmik-adhyatmik aur samajik pahlu ek-dusre se antarkriya karte hue ek-dusre se apna rishta dhundhate hain. Aisa lagta hai jaise chetna ke vibhinn star ek-dusre se milkar ek sanshlisht, purn, bechain manav-asmita rach rahe hain jismen sare taar ek-dusre mein gunthe hain. Is bhogvadi samay mein kalakar ki niyati se juda saphalta aur sarthakta ka dvandv aur bhi tikha ho gaya hai. Ye dvandv is aakhyan ka ek mulbhut aayam hai jiske madhyam se manushya ki niyati ki khoj sambhav hoti hai. Ye khoj antatः ek trasad simfni mein samapt hoti hai.
Ravindr varma apne qism ke anuthe rachnakar hain. Kathya aur shilp ke mamle mein parampra aur aadhunikta ka jo sammilan unke is ne upanyas mein dikhai deta hai, vah advitiy hai.
Sahitya-samaj ki maujuda tiktta aur santras tatha prkashan aur puraskar ki rajniti ko janne-samajhne ka avsar muhaiya karanevala atyant zaruri upanyas.