BackBack

Aaj Ki Kavita

Rs. 995 Rs. 886

आज की कविता’ आलोचना के नए दर खोलती है और समकालीन कविता के तज़ुर्बों को मुख़्तलिफ़ ढंग से विश्लेषित करती है। समकालीन कविता के लिए, जिस विनम्र और बाशऊर नज़रिए की ज़रूरत थी, वो यहाँ मौजूद है। पूरी किताब विनम्र लेकिन सचेत नज़रिए का प्रतिफल है। ...इस आलोचना-पुस्तक में कविता... Read More

BlackBlack
Description

आज की कविता’ आलोचना के नए दर खोलती है और समकालीन कविता के तज़ुर्बों को मुख़्तलिफ़ ढंग से विश्लेषित करती है। समकालीन कविता के लिए, जिस विनम्र और बाशऊर नज़रिए की ज़रूरत थी, वो यहाँ मौजूद है। पूरी किताब विनम्र लेकिन सचेत नज़रिए का प्रतिफल है। ...इस आलोचना-पुस्तक में कविता का होना, जीवन के होने जैसा है। विनय विश्वास इतने शालीन और एकाग्र ढंग से हिन्दी-उर्दू कविता को ज़‍िन्दगी के तत्त्वों से जोड़ते चलते हैं कि आलोचना-पुस्तक सिर्फ़ विनय की नहीं, बल्कि समकालीन हिन्दी के तमाम कवियों और उर्दू के शायरों की हो जाती है। ...आलोचना में जो उखाड़-पछाड़ (और गुटबाज़ी) चल रही है, यह आलोचना उससे कोसों दूर है। यहाँ मक़सद, बड़ी दयानतदारी के साथ समकालीन कविता को परखना है। उसकी सामाजिकता को पहचानना है। सच मायने में 'आज की कविता’ महज़ आलोचना का नहीं, बल्कि मौजूदा कविता का पर्यावरण रचती है। यही इस आलोचना की विशेषता है और मौलिकता भी। ...इस आलोचना में लोकतांत्रिक छवियाँ हैं। कमज़र्फ़ आग्रह, फ़रेब और छल का नकार है। ...विनय विश्वास ने कविताओं को अपनी आलोचना-पुस्तक में 'भर’ नहीं दिया, उन्हें माकूल और मुस्तकिल स्थान दिया है। संवेदनशील आलोचक यही करते हैं। ...विनय विश्वास के सरोकार स्पष्ट हैं। वो आज की कविता में जीवन की लय तलाश करते हैं। यहाँ एक सादगी है। यही आलोचकीय शक्ति भी है। वो इसी शक्ति के सहारे, समकालीन कविता के जिस्म तक नहीं बल्कि उसकी आत्मा तक पहुँचते हैं।
—ज्ञान प्रकाश विवेक, ‘वागर्थ’, अक्तूबर, 2009 Aaj ki kavita’ aalochna ke ne dar kholti hai aur samkalin kavita ke tazurbon ko mukhtlif dhang se vishleshit karti hai. Samkalin kavita ke liye, jis vinamr aur bashuur nazariye ki zarurat thi, vo yahan maujud hai. Puri kitab vinamr lekin sachet nazariye ka pratiphal hai. . . . Is aalochna-pustak mein kavita ka hona, jivan ke hone jaisa hai. Vinay vishvas itne shalin aur ekagr dhang se hindi-urdu kavita ko za‍indagi ke tattvon se jodte chalte hain ki aalochna-pustak sirf vinay ki nahin, balki samkalin hindi ke tamam kaviyon aur urdu ke shayron ki ho jati hai. . . . Aalochna mein jo ukhad-pachhad (aur gutbazi) chal rahi hai, ye aalochna usse koson dur hai. Yahan maqsad, badi dayanatdari ke saath samkalin kavita ko parakhna hai. Uski samajikta ko pahchanna hai. Sach mayne mein aaj ki kavita’ mahaz aalochna ka nahin, balki maujuda kavita ka paryavran rachti hai. Yahi is aalochna ki visheshta hai aur maulikta bhi. . . . Is aalochna mein loktantrik chhaviyan hain. Kamzarf aagrah, fareb aur chhal ka nakar hai. . . . Vinay vishvas ne kavitaon ko apni aalochna-pustak mein bhar’ nahin diya, unhen makul aur mustkil sthan diya hai. Sanvedanshil aalochak yahi karte hain. . . . Vinay vishvas ke sarokar spasht hain. Vo aaj ki kavita mein jivan ki lay talash karte hain. Yahan ek sadgi hai. Yahi aalochkiy shakti bhi hai. Vo isi shakti ke sahare, samkalin kavita ke jism tak nahin balki uski aatma tak pahunchate hain. —gyan prkash vivek, ‘vagarth’, aktubar, 2009

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year

Aaj Ki Kavita

आज की कविता’ आलोचना के नए दर खोलती है और समकालीन कविता के तज़ुर्बों को मुख़्तलिफ़ ढंग से विश्लेषित करती है। समकालीन कविता के लिए, जिस विनम्र और बाशऊर नज़रिए की ज़रूरत थी, वो यहाँ मौजूद है। पूरी किताब विनम्र लेकिन सचेत नज़रिए का प्रतिफल है। ...इस आलोचना-पुस्तक में कविता का होना, जीवन के होने जैसा है। विनय विश्वास इतने शालीन और एकाग्र ढंग से हिन्दी-उर्दू कविता को ज़‍िन्दगी के तत्त्वों से जोड़ते चलते हैं कि आलोचना-पुस्तक सिर्फ़ विनय की नहीं, बल्कि समकालीन हिन्दी के तमाम कवियों और उर्दू के शायरों की हो जाती है। ...आलोचना में जो उखाड़-पछाड़ (और गुटबाज़ी) चल रही है, यह आलोचना उससे कोसों दूर है। यहाँ मक़सद, बड़ी दयानतदारी के साथ समकालीन कविता को परखना है। उसकी सामाजिकता को पहचानना है। सच मायने में 'आज की कविता’ महज़ आलोचना का नहीं, बल्कि मौजूदा कविता का पर्यावरण रचती है। यही इस आलोचना की विशेषता है और मौलिकता भी। ...इस आलोचना में लोकतांत्रिक छवियाँ हैं। कमज़र्फ़ आग्रह, फ़रेब और छल का नकार है। ...विनय विश्वास ने कविताओं को अपनी आलोचना-पुस्तक में 'भर’ नहीं दिया, उन्हें माकूल और मुस्तकिल स्थान दिया है। संवेदनशील आलोचक यही करते हैं। ...विनय विश्वास के सरोकार स्पष्ट हैं। वो आज की कविता में जीवन की लय तलाश करते हैं। यहाँ एक सादगी है। यही आलोचकीय शक्ति भी है। वो इसी शक्ति के सहारे, समकालीन कविता के जिस्म तक नहीं बल्कि उसकी आत्मा तक पहुँचते हैं।
—ज्ञान प्रकाश विवेक, ‘वागर्थ’, अक्तूबर, 2009 Aaj ki kavita’ aalochna ke ne dar kholti hai aur samkalin kavita ke tazurbon ko mukhtlif dhang se vishleshit karti hai. Samkalin kavita ke liye, jis vinamr aur bashuur nazariye ki zarurat thi, vo yahan maujud hai. Puri kitab vinamr lekin sachet nazariye ka pratiphal hai. . . . Is aalochna-pustak mein kavita ka hona, jivan ke hone jaisa hai. Vinay vishvas itne shalin aur ekagr dhang se hindi-urdu kavita ko za‍indagi ke tattvon se jodte chalte hain ki aalochna-pustak sirf vinay ki nahin, balki samkalin hindi ke tamam kaviyon aur urdu ke shayron ki ho jati hai. . . . Aalochna mein jo ukhad-pachhad (aur gutbazi) chal rahi hai, ye aalochna usse koson dur hai. Yahan maqsad, badi dayanatdari ke saath samkalin kavita ko parakhna hai. Uski samajikta ko pahchanna hai. Sach mayne mein aaj ki kavita’ mahaz aalochna ka nahin, balki maujuda kavita ka paryavran rachti hai. Yahi is aalochna ki visheshta hai aur maulikta bhi. . . . Is aalochna mein loktantrik chhaviyan hain. Kamzarf aagrah, fareb aur chhal ka nakar hai. . . . Vinay vishvas ne kavitaon ko apni aalochna-pustak mein bhar’ nahin diya, unhen makul aur mustkil sthan diya hai. Sanvedanshil aalochak yahi karte hain. . . . Vinay vishvas ke sarokar spasht hain. Vo aaj ki kavita mein jivan ki lay talash karte hain. Yahan ek sadgi hai. Yahi aalochkiy shakti bhi hai. Vo isi shakti ke sahare, samkalin kavita ke jism tak nahin balki uski aatma tak pahunchate hain. —gyan prkash vivek, ‘vagarth’, aktubar, 2009