BackBack

Aaj Ki Kala

Rs. 695

देखते हम सब हैं, लेकिन देखने की कला सीखने और अभ्यास का विषय है। आज का जीवन कुछ ऐसा है कि वस्तुएँ, रंग और स्थितियाँ एक भागमभाग में हमारी आँखों के सामने आती हैं, और इससे पहले कि हम उन्हें 'देख' सकें, लुप्त भी हो जाती हैं; न तो हम... Read More

BlackBlack
Description

देखते हम सब हैं, लेकिन देखने की कला सीखने और अभ्यास का विषय है। आज का जीवन कुछ ऐसा है कि वस्तुएँ, रंग और स्थितियाँ एक भागमभाग में हमारी आँखों के सामने आती हैं, और इससे पहले कि हम उन्हें 'देख' सकें, लुप्त भी हो जाती हैं; न तो हम उन चीजों से, उनके फैलाव से, उनकी वास्तविकता से परिचित हो पाते हैं, और न ही उन छवियों से अपने अनुभव-कोश को समृद्ध कर पाते हैं, जो वे चीज़ें हमारे सामने प्रस्तुत करती हैं। यह कैसी विडम्बना है कि इतनी आँखें एक अजीब-सी अजनबीयत के बोझ तले दबी रहती हैं।
वरिष्ठ कला चिन्तक और कवि प्रयाग शुक्ल एक अरसे से कला और कला के आसपास बसे संसार को बहुत ग़ौर से, बहुत बारीकी और बहुविध कोणों से देखते रहे हैं, और लगातार हमें अपने देखे हुए से तथा देखने के अपने अनुभव और कलाओं के भीतर आने-जाने की अपनी पूरी प्रक्रिया से भी परिचित कराते रहे हैं। समकालीन कला-जगत की गतिविधियों, उपलब्धियों और कला-परिदृश्य में हो रहे प्रयोगों आदि पर उनकी बराबर नज़र रही है। और, सम्भवतः इस समय हिन्दी में वे ही अकेले हैं जिनके पास आज की कला-प्रवृत्तियों के विषय में कहने के लिए बहुत कुछ हमेशा रहता है। यह पुस्तक उसकी एक बानगी है, जिसमें उन्होंने कला के एक अहम् पक्ष यानी 'देखने के हुनर' के अलावा समकालीन कला के दूसरे अनेक पक्षों पर भी प्रकाश डाला है।
कहने की आवश्यकता नहीं कि उनके गद्य की आत्मीयता अपने आप में एक अलग आकर्षण है, जिसके लिए इस पुस्तक को पढ़ा जाना चाहिए । Dekhte hum sab hain, lekin dekhne ki kala sikhne aur abhyas ka vishay hai. Aaj ka jivan kuchh aisa hai ki vastuen, rang aur sthitiyan ek bhagambhag mein hamari aankhon ke samne aati hain, aur isse pahle ki hum unhen dekh saken, lupt bhi ho jati hain; na to hum un chijon se, unke phailav se, unki vastavikta se parichit ho pate hain, aur na hi un chhaviyon se apne anubhav-kosh ko samriddh kar pate hain, jo ve chizen hamare samne prastut karti hain. Ye kaisi vidambna hai ki itni aankhen ek ajib-si ajanbiyat ke bojh tale dabi rahti hain. Varishth kala chintak aur kavi pryag shukl ek arse se kala aur kala ke aaspas base sansar ko bahut gaur se, bahut bariki aur bahuvidh konon se dekhte rahe hain, aur lagatar hamein apne dekhe hue se tatha dekhne ke apne anubhav aur kalaon ke bhitar aane-jane ki apni puri prakriya se bhi parichit karate rahe hain. Samkalin kala-jagat ki gatividhiyon, uplabdhiyon aur kala-paridrishya mein ho rahe pryogon aadi par unki barabar nazar rahi hai. Aur, sambhvatः is samay hindi mein ve hi akele hain jinke paas aaj ki kala-prvrittiyon ke vishay mein kahne ke liye bahut kuchh hamesha rahta hai. Ye pustak uski ek bangi hai, jismen unhonne kala ke ek aham paksh yani dekhne ke hunar ke alava samkalin kala ke dusre anek pakshon par bhi prkash dala hai.
Kahne ki aavashyakta nahin ki unke gadya ki aatmiyta apne aap mein ek alag aakarshan hai, jiske liye is pustak ko padha jana chahiye.