Aaj Ke Ateet

Regular price Rs. 367
Sale price Rs. 367 Regular price Rs. 395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Aaj Ke Ateet

Aaj Ke Ateet

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भीष्म साहनी की कथा-शैली से जो बात सबसे पहले ध्यान खींचती है, वह ये कि हम एक ऐसे लेखक के पाठ के साथ हैं, जो लेखक बाद में है, पहले साथ बैठा हुआ मित्र है। ऐसा मित्र जो आपको कम-से-कम चौंकाते हुए, बल्कि शायद इस बात का ध्यान रखते हुए, अपनी बात कहता है कि उसकी कोई बात अगर आपके साथ कुछ करे तो आपके व्यक्तित्व की सबसे भीतरी तहों में वह सबसे पहले घटित हो।
'आज के अतीत’ में उनका यह मित्र भाव चरम पर है, और संयोग यह कि यहाँ वे अपने बारे में बता रहे हैं जो हमारा दोहरा लाभ है। हम अपने प्रिय लेखक को जान रहे हैं और उसकी कला के जादुई दायरे में ख़ुद को भी नवीकृत कर रहे हैं।
इस आत्मकथा से हम उनके जीवन के साथ-साथ उनकी कई कृतियों की रचना-प्रक्रिया से भी अवगत होंगे, जानेंगे कि 'तमस’ कैसे बना, 'हानूश’ ने आकार कैसे लिया, और किस तरह भीष्म जी ने बतौर लेखक अपने समय, समाज, साथियों और इतिहास को देखा-समझा।
इसमें उनके मास्को प्रवास का ब्यौरा भी आता है जहाँ वे काफ़ी समय रहे, और अनुवादक के रूप में कई पुस्तकों के अनुवाद हम तक पहुँचाए। यह हिस्सा ख़ास तौर पर पठनीय इसलिए है कि यहाँ हमें साम्यवादी सोवियत संघ के भीतर जारी उस प्रक्रिया की जानकारी भी मिलती है, जो धीरे-धीरे सोवियत संघ के पतन की तरफ़ गई।
'आज के अतीत’ से हमें उनके इप्टा के दौर और बड़े भाई बलराज साहनी के साथ उनके रिश्तों के बारे में भी बहुत कुछ जानने को मिलता है।
हिन्दी आत्मकथाओं में ईमानदारी और पारदर्शी सहजता को स्थापित करनेवाली एक अनूठी रचना। Bhishm sahni ki katha-shaili se jo baat sabse pahle dhyan khinchti hai, vah ye ki hum ek aise lekhak ke path ke saath hain, jo lekhak baad mein hai, pahle saath baitha hua mitr hai. Aisa mitr jo aapko kam-se-kam chaunkate hue, balki shayad is baat ka dhyan rakhte hue, apni baat kahta hai ki uski koi baat agar aapke saath kuchh kare to aapke vyaktitv ki sabse bhitri tahon mein vah sabse pahle ghatit ho. Aaj ke atit’ mein unka ye mitr bhav charam par hai, aur sanyog ye ki yahan ve apne bare mein bata rahe hain jo hamara dohra labh hai. Hum apne priy lekhak ko jaan rahe hain aur uski kala ke jadui dayre mein khud ko bhi navikrit kar rahe hain.
Is aatmaktha se hum unke jivan ke sath-sath unki kai kritiyon ki rachna-prakriya se bhi avgat honge, janenge ki tamas’ kaise bana, hanush’ ne aakar kaise liya, aur kis tarah bhishm ji ne bataur lekhak apne samay, samaj, sathiyon aur itihas ko dekha-samjha.
Ismen unke masko prvas ka byaura bhi aata hai jahan ve kafi samay rahe, aur anuvadak ke rup mein kai pustkon ke anuvad hum tak pahunchaye. Ye hissa khas taur par pathniy isaliye hai ki yahan hamein samyvadi soviyat sangh ke bhitar jari us prakriya ki jankari bhi milti hai, jo dhire-dhire soviyat sangh ke patan ki taraf gai.
Aaj ke atit’ se hamein unke ipta ke daur aur bade bhai balraj sahni ke saath unke rishton ke bare mein bhi bahut kuchh janne ko milta hai.
Hindi aatmakthaon mein iimandari aur pardarshi sahajta ko sthapit karnevali ek anuthi rachna.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products