Look Inside
Aaina Saaz
Aaina Saaz
Aaina Saaz
Aaina Saaz
Aaina Saaz
Aaina Saaz
Aaina Saaz
Aaina Saaz
Aaina Saaz
Aaina Saaz

Aaina Saaz

Regular price Rs. 233
Sale price Rs. 233 Regular price Rs. 250
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Aaina Saaz

Aaina Saaz

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

हमारे दौर की राजनीति, समाज, आदमी–सब अपने भीतर से लेकर बाहर तक जाने कैसे तो जंजाल में उलझे हुए हैं, और जब उसे सुलझाने चलते हैं, उस जाल से निकलकर खुली, साफ़ जगह में आने के लिए हाथ-पाँव पटकते हैं तो सुलझते-निकलते नहीं, और उलझ जाते हैं।
क्या नहीं है हमारे पास? जिसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती थी, अब वह भी है, और भरोसा है कि अब जिसकी कल्पना करेंगे, वह भी कल हो उठेगा।
लेकिन ताला अगर कहीं लग गया है तो वह कल्पना ही पर है; और उसके संगी-साथी दूसरे कई मनोभाव-मनोशक्तियाँ और इनका सरदार एक सूफ़ी मन, उजली कामनाओं, और धरती-आकाश को एक करते धवल सपनों की छतरी; यह सब उस ताले के भीतर कहीं छटपटा-सिसक रहे हैं।
खुसरो एक पैदा हुआ, मध्यकालीन कहे जानेवाले उस साँवले हिन्दुस्तान में जिसकी छतें इतनी ऊँची होती थीं, कि हम बौनों की तिमंज़िला बाँबियाँ उनमें खड़ी हो जाएँ। यह उस ख़ुसरो की आत्मकथा से रचा हुआ उपन्यास है जिसमें ख़ुसरो की चेतना को जीनेवाले आज के कुछ सूफ़ी मनवालों की कहानी भी साथ में पिरो दी गई है।
ख़ुसरो इस कथा में अपना वह सब बताते हैं जिस तक हम उनकी नातों, क़व्वालियों और पहेलियों की ओट में नहीं पहुँच पाते–कि उनका एक परिवार था, एक बेटी थी, बेटे थे, पत्नी थी, और थे निज़ाम पिया जिनकी निगाहों के साए तले उन्होंने वह सब सहा जो एक साफ़, हस्सास दिल अपने ख़ून-सने वक़्तों और बेलगाम सनकों से हासिल कर सकता था।
और इसमें कहानी है सपना की, नफ़ीस की, ललिता दी और सरोज की भी, जो आज के हत्यारे समय के सामने अपने दिल के आईने लिए खड़े हैं, लहूलुहान हो रहे हैं, पर हट नहीं रहे, जा नहीं रहे, क्योंकि वे उकताकर या हारकर अगर चले गए तो न पद्मिनियों के जौहर पर मौन रुदन करनेवाला कोई होगा, न इंसानियत को उसके क्षुद्रतर होते वजूद के लिए एक वृहत्तर विकल्प देनेवाला। Hamare daur ki rajniti, samaj, aadmi–sab apne bhitar se lekar bahar tak jane kaise to janjal mein uljhe hue hain, aur jab use suljhane chalte hain, us jaal se nikalkar khuli, saaf jagah mein aane ke liye hath-panv patakte hain to sulajhte-nikalte nahin, aur ulajh jate hain. Kya nahin hai hamare pas? jiski kalpna bhi nahin ki ja sakti thi, ab vah bhi hai, aur bharosa hai ki ab jiski kalpna karenge, vah bhi kal ho uthega.
Lekin tala agar kahin lag gaya hai to vah kalpna hi par hai; aur uske sangi-sathi dusre kai manobhav-manoshaktiyan aur inka sardar ek sufi man, ujli kamnaon, aur dharti-akash ko ek karte dhaval sapnon ki chhatri; ye sab us tale ke bhitar kahin chhatapta-sisak rahe hain.
Khusro ek paida hua, madhykalin kahe janevale us sanvale hindustan mein jiski chhaten itni uunchi hoti thin, ki hum baunon ki timanzila banbiyan unmen khadi ho jayen. Ye us khusro ki aatmaktha se racha hua upanyas hai jismen khusro ki chetna ko jinevale aaj ke kuchh sufi manvalon ki kahani bhi saath mein piro di gai hai.
Khusro is katha mein apna vah sab batate hain jis tak hum unki naton, qavvaliyon aur paheliyon ki ot mein nahin pahunch pate–ki unka ek parivar tha, ek beti thi, bete the, patni thi, aur the nizam piya jinki nigahon ke saye tale unhonne vah sab saha jo ek saaf, hassas dil apne khun-sane vaqton aur belgam sankon se hasil kar sakta tha.
Aur ismen kahani hai sapna ki, nafis ki, lalita di aur saroj ki bhi, jo aaj ke hatyare samay ke samne apne dil ke aaine liye khade hain, lahuluhan ho rahe hain, par hat nahin rahe, ja nahin rahe, kyonki ve uktakar ya harkar agar chale ge to na padminiyon ke jauhar par maun rudan karnevala koi hoga, na insaniyat ko uske kshudrtar hote vajud ke liye ek vrihattar vikalp denevala.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products