Look Inside
Aadivasi : Vikas Se Visthapan
Aadivasi : Vikas Se Visthapan
Aadivasi : Vikas Se Visthapan
Aadivasi : Vikas Se Visthapan

Aadivasi : Vikas Se Visthapan

Regular price Rs. 553
Sale price Rs. 553 Regular price Rs. 595
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Aadivasi : Vikas Se Visthapan

Aadivasi : Vikas Se Visthapan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आदिवासियों का पलायन और विस्थापन सदियों से होता रहा है और ये आज भी जारी है। आदिवासियों के जंगलों, ज़मीनों, गाँवों, संसाधनों पर क़ब्ज़ा कर उन्हें दर-दर भटकने के लिए मजबूर करने के पीछे मुख्य कारण हमारी सरकारी व्यवस्था रही है। वे केवल अपने जंगलों, संसाधनों या गाँवों से ही बेदख़ल नहीं हुए बल्कि मूल्यों, नैतिक अवधारणाओं, जीवन-शैलियों, भाषाओं एवं संस्कृति से भी वे बेदख़ल कर दिए गए हैं।
हमारे मौलिक सिद्धान्तों के अन्तर्गत सभी को विकास का समान अधिकार है। लेकिन आज़ादी के बाद के पहले पाँच वर्षों में लगभग ढाई लाख लोगों में से 25 प्रतिशत आदिवासियों को मजबूरन विस्थापित होना पड़ा। विकास के नाम पर लाखों लोगों को अपनी रोज़ी-रोटी, काम-धंधों तथा ज़मीनों से हाथ धोना पड़ा। उनको मिलनेवाले मूलभूत अधिकार जो उनकी ज़मीनों से जुड़े थे, वे भी उन्हें प्राप्त नहीं हुए।
आदिवासियों के प्रति सरकार तथा तथाकथित मुख्यधारा के समाज के लोगों का नज़रिया कभी संतोषजनक नहीं रहा। आदिवासियों को सरकार द्वारा पुनर्वसित करने का प्रयास भी पूर्ण रूप से सार्थक नहीं हो सका। अन्ततः अपनी ही ज़मीनों व संसाधनों से विलग हुए आदिवासियों का जीवन मरणासन्न अवस्था में पहुँच गया।
21वीं सदी में पहुँचकर भी हमारे देश का आदिवासी समाज जहाँ विकास की बाट जोह रहा है। वहीं दूसरी तरफ़ सरकार की उदासीन नीतियों के कारण उनकी स्थिति ज्यों की त्यों ही है।
विकास के नाम पर छले जा रहे आदिवासियों के पलायन और विस्थापन आदि समस्याओं पर केन्द्रित यह पुस्तक समाज और सरकार के सम्मुख कई सवाल खड़ा करती है। Aadivasiyon ka palayan aur visthapan sadiyon se hota raha hai aur ye aaj bhi jari hai. Aadivasiyon ke janglon, zaminon, ganvon, sansadhnon par qabza kar unhen dar-dar bhatakne ke liye majbur karne ke pichhe mukhya karan hamari sarkari vyvastha rahi hai. Ve keval apne janglon, sansadhnon ya ganvon se hi bedkhal nahin hue balki mulyon, naitik avdharnaon, jivan-shailiyon, bhashaon evan sanskriti se bhi ve bedkhal kar diye ge hain. Hamare maulik siddhanton ke antargat sabhi ko vikas ka saman adhikar hai. Lekin aazadi ke baad ke pahle panch varshon mein lagbhag dhai lakh logon mein se 25 pratishat aadivasiyon ko majburan visthapit hona pada. Vikas ke naam par lakhon logon ko apni rozi-roti, kam-dhandhon tatha zaminon se hath dhona pada. Unko milnevale mulbhut adhikar jo unki zaminon se jude the, ve bhi unhen prapt nahin hue.
Aadivasiyon ke prati sarkar tatha tathakthit mukhydhara ke samaj ke logon ka nazariya kabhi santoshajnak nahin raha. Aadivasiyon ko sarkar dvara punarvsit karne ka pryas bhi purn rup se sarthak nahin ho saka. Antatः apni hi zaminon va sansadhnon se vilag hue aadivasiyon ka jivan marnasann avastha mein pahunch gaya.
21vin sadi mein pahunchakar bhi hamare desh ka aadivasi samaj jahan vikas ki baat joh raha hai. Vahin dusri taraf sarkar ki udasin nitiyon ke karan unki sthiti jyon ki tyon hi hai.
Vikas ke naam par chhale ja rahe aadivasiyon ke palayan aur visthapan aadi samasyaon par kendrit ye pustak samaj aur sarkar ke sammukh kai saval khada karti hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products