Look Inside
Aadivasi Prem Kahaniyan
Aadivasi Prem Kahaniyan
Aadivasi Prem Kahaniyan
Aadivasi Prem Kahaniyan

Aadivasi Prem Kahaniyan

Regular price Rs. 185
Sale price Rs. 185 Regular price Rs. 199
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Aadivasi Prem Kahaniyan

Aadivasi Prem Kahaniyan

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

‘आदिवासी प्रेम कहानियाँ' में इतिहास के अमर पात्रों के प्रेम और संघर्ष को रोचकता और प्रमाण के साथ प्रस्तुत किया गया है। इन कहानियों में झारखंड का आदिवासी परिवेश, प्रकृति, परिस्थितियाँ, आदिवासियों का जीवन, उनकी सहज प्रवृत्तियाँ और स्वतंत्रता-संग्राम में अंग्रेज़ी सत्ता के साथ उनके द्वारा किया गया संघर्ष उभरकर आया है।
ग़ौरतलब है कि औपनिवेशिक काल में अंग्रेज़ी समाज शोषण और सुन्दरता के लिए प्रसिद्ध था। अंग्रेज़ों के शोषण और अन्याय से मुक्ति के लिए आदिवासियों ने संघर्ष की ज़मीन रची और विद्रोह किए। आदिवासियों के न्याय-प्रेम और सुन्दरता की ओर अंग्रेज़ी समाज आकर्षित भी हुआ। और यही प्रेम की उत्स-भूमि है। चाहे वह सिदो और जेली हो, चाहे बुन्दी और सन्दु हो, चाहे बीरबन्ता बजल और जेलर को बेटी हो, चाहे मँगरी और रोजवेलगुड हो, चाहे बादल और मैग्नोलिया हो; सबके प्रेम की उत्स-भूमि न्याय-प्रेम और संघर्ष है। इसलिए इन नौ कहानियों में प्रेम के सच्चे स्वरूप के दर्शन होते हैं। जहाँ बहुत सहजता के साथ प्रेम जीवन में प्रवेश करता है और उसी के प्रति पूर्ण समर्पण भाव है। इन प्रेम कहानियों में कुछ का अन्त सुखान्त है तो कुछ का दुखान्त।
पाठक पाएँगे कि इन कहानियों के माध्यम से अपनी जातीय संस्कृति और अपनी भूमि के प्रति मर मिटने के अद्भुत ज़ज्बे से लैस आदिवासियों के प्रेम और संघर्ष का जो चित्रण है, वह हमें नए तरीक़े से देश के इतिहास को समझने के लिए बाध्य करता है। ‘adivasi prem kahaniyan mein itihas ke amar patron ke prem aur sangharsh ko rochakta aur prman ke saath prastut kiya gaya hai. In kahaniyon mein jharkhand ka aadivasi parivesh, prkriti, paristhitiyan, aadivasiyon ka jivan, unki sahaj prvrittiyan aur svtantrta-sangram mein angrezi satta ke saath unke dvara kiya gaya sangharsh ubharkar aaya hai. Gauratlab hai ki aupaniveshik kaal mein angrezi samaj shoshan aur sundarta ke liye prsiddh tha. Angrezon ke shoshan aur anyay se mukti ke liye aadivasiyon ne sangharsh ki zamin rachi aur vidroh kiye. Aadivasiyon ke nyay-prem aur sundarta ki or angrezi samaj aakarshit bhi hua. Aur yahi prem ki uts-bhumi hai. Chahe vah sido aur jeli ho, chahe bundi aur sandu ho, chahe birbanta bajal aur jelar ko beti ho, chahe mangari aur rojvelgud ho, chahe badal aur maignoliya ho; sabke prem ki uts-bhumi nyay-prem aur sangharsh hai. Isaliye in nau kahaniyon mein prem ke sachche svrup ke darshan hote hain. Jahan bahut sahajta ke saath prem jivan mein prvesh karta hai aur usi ke prati purn samarpan bhav hai. In prem kahaniyon mein kuchh ka ant sukhant hai to kuchh ka dukhant.
Pathak payenge ki in kahaniyon ke madhyam se apni jatiy sanskriti aur apni bhumi ke prati mar mitne ke adbhut zajbe se lais aadivasiyon ke prem aur sangharsh ka jo chitran hai, vah hamein ne tariqe se desh ke itihas ko samajhne ke liye badhya karta hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products