BackBack
-11%

Aadim Ratri Ki Mehak

Rs. 395 Rs. 352

फणीश्वरनाथ रेणु के कथा साहित्य को आंचलिक कहा गया है किन्तु उनकी कहानियाँ (तथा उपन्यास भी) जहाँ एक ओर ग्राम्य-जीवन की आंचलिकता को ही नहीं उसकी सम्पूर्ण आन्तरिकता को व्यक्त करती हैं, वहीं दूसरी ओर ग्रामीण तथा शहरी जीवन के अन्त:सम्बन्धों की वास्तविकता का भी उद्घाटन करती हैं। रेणु की... Read More

BlackBlack
Description

फणीश्वरनाथ रेणु के कथा साहित्य को आंचलिक कहा गया है किन्तु उनकी कहानियाँ (तथा उपन्यास भी) जहाँ एक ओर ग्राम्य-जीवन की आंचलिकता को ही नहीं उसकी सम्पूर्ण आन्तरिकता को व्यक्त करती हैं, वहीं दूसरी ओर ग्रामीण तथा शहरी जीवन के अन्त:सम्बन्धों की वास्तविकता का भी उद्घाटन करती हैं।
रेणु की कहानियों में अत्यन्त ‘निजी’ को व्यापक सामाजिक यथार्थ से जोड़ पाने की अद्भुत क्षमता है और ऐसा वे अपूर्व काव्यात्मक रचाव के साथ कर पाते हैं। इस प्रक्रिया में उनकी कहानियाँ संगीत की सरहदों को छूने लगती हैं। उनके सहज प्रतीत होनेवाले कथा-शिल्प से अनायास ‘ऑडियो-विजुअल’ प्रभाव उत्पन्न होने लगता है। उनकी टेकनीक एक सुरयलिस्टिक पैटर्न निर्मित करती है जिसमें एक ‘प्रिज़्म’ की तरह छनकर रंगारंग विचारों तथा भावनाओं की घुलनशीलता शामिल हो जाती है। उनकी कहानियाँ हमारी सम्पूर्ण संवेदनाओं को एक साथ तृप्त करती हैं। अगर उनमें गहरी लयबद्ध ऐन्द्रिकता है तो बिना बौद्धिकता का छद्म धारण किये ही ‘वस्तु सत्य’ के मर्म तक पहुँच जानेवाली विश्लेषणपरकता भी है। आजादी के बाद के राजनैतिक परिवर्तनों का दस्तावेजी बयान प्रस्तुत करनेवाली कहानियों में यह तथ्य खूब उभरकर आता है–‘जलवा’ तथा ‘आत्म-साक्षी’ जैसी कहानियों में तटस्थ राजनैतिक बोध की निर्ममता के साथ उस क्रूर ‘ट्रेजडी’ का एहसास भी है जिसमें कोमल मानवीय सच्चाइयों के निर्दयता से कुचले जाने का इतिहास अंकित है।
‘आदिम रात्रि की महक’ की कहानियों में एक नैसर्गिक विनोद वृत्ति है जो एक साथ भाषा, स्थितियों तथा चरित्रों से छेड़छाड़ करती चलती है–चुलबुलेपन की हद तक जाकर! लेकिन उनमें कब अचानक एक करुण मानवीय बोध उतर आता है, इसका पता पाठक को तब चलता है जब उसकी ‘हँसी’ में सहसा एक ‘हूक’ शामिल हो जाती है। ऐसे विरल संयोगों के हिन्दी में रेणु एकमात्र कथाकार हैं।
–विजय मोहन सिंह Phanishvarnath renu ke katha sahitya ko aanchlik kaha gaya hai kintu unki kahaniyan (tatha upanyas bhi) jahan ek or gramya-jivan ki aanchalikta ko hi nahin uski sampurn aantarikta ko vyakt karti hain, vahin dusri or gramin tatha shahri jivan ke ant:sambandhon ki vastavikta ka bhi udghatan karti hain. Renu ki kahaniyon mein atyant ‘niji’ ko vyapak samajik yatharth se jod pane ki adbhut kshamta hai aur aisa ve apurv kavyatmak rachav ke saath kar pate hain. Is prakriya mein unki kahaniyan sangit ki sarahdon ko chhune lagti hain. Unke sahaj prtit honevale katha-shilp se anayas ‘audiyo-vijual’ prbhav utpann hone lagta hai. Unki teknik ek suraylistik paitarn nirmit karti hai jismen ek ‘prizm’ ki tarah chhankar rangarang vicharon tatha bhavnaon ki ghulanshilta shamil ho jati hai. Unki kahaniyan hamari sampurn sanvednaon ko ek saath tript karti hain. Agar unmen gahri laybaddh aindrikta hai to bina bauddhikta ka chhadm dharan kiye hi ‘vastu satya’ ke marm tak pahunch janevali vishleshanaparakta bhi hai. Aajadi ke baad ke rajanaitik parivartnon ka dastaveji bayan prastut karnevali kahaniyon mein ye tathya khub ubharkar aata hai–‘jalva’ tatha ‘atm-sakshi’ jaisi kahaniyon mein tatasth rajanaitik bodh ki nirmamta ke saath us krur ‘trejdi’ ka ehsas bhi hai jismen komal manviy sachchaiyon ke nirdayta se kuchle jane ka itihas ankit hai.
‘adim ratri ki mahak’ ki kahaniyon mein ek naisargik vinod vritti hai jo ek saath bhasha, sthitiyon tatha charitron se chhedchhad karti chalti hai–chulabulepan ki had tak jakar! lekin unmen kab achanak ek karun manviy bodh utar aata hai, iska pata pathak ko tab chalta hai jab uski ‘hansi’ mein sahsa ek ‘huk’ shamil ho jati hai. Aise viral sanyogon ke hindi mein renu ekmatr kathakar hain.
–vijay mohan sinh