Look Inside
Aadikaleen Aur Madhyakaleen kaviyon Ka Aalochanatmak Paath
Aadikaleen Aur Madhyakaleen kaviyon Ka Aalochanatmak Paath
Aadikaleen Aur Madhyakaleen kaviyon Ka Aalochanatmak Paath
Aadikaleen Aur Madhyakaleen kaviyon Ka Aalochanatmak Paath

Aadikaleen Aur Madhyakaleen kaviyon Ka Aalochanatmak Paath

Regular price Rs. 605
Sale price Rs. 605 Regular price Rs. 650
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Aadikaleen Aur Madhyakaleen kaviyon Ka Aalochanatmak Paath

Aadikaleen Aur Madhyakaleen kaviyon Ka Aalochanatmak Paath

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारतीय जनमानस में अगर धर्म के बाद किसी भावना को बहुत साफ़ ढंग से देखा जा सकता है, तो वह कविता-प्रेम है। यही कारण है कि भारत में साहित्य की अन्य विधाओं के सापेक्ष कविता की परम्परा न सिर्फ़ बहुत लम्बी, गहरी और व्यापक रही है, बल्कि उसने भारतीय समाज के विभिन्न सामाजिक-राजनीतिक युगों को वाणी भी दी है। यही नहीं उसने एक सामाजिक शक्ति के रूप में अपनी निर्णायक भूमिका भी निभाई है।
इस पुस्तक में हिन्दी कविता के दो आरम्भिक और महत्त्वपूर्ण युगों का विवेचन किया गया है, एक आदिकाल और दूसरा मध्यकाल। अब तक उपलब्ध सामग्री के आधार पर कहा जा सकता है कि हिन्दी कविता का उद्भव सातवीं-आठवीं शताब्दी के आसपास हुआ जिसकी पृष्ठभूमि में पालि, प्राकृत और अपभ्रंश का बड़ा योगदान है। आदिकालीन काव्य में अपभ्रंश का बहुत रचनात्मक इस्तेमाल मिलता है। इस दौर की कविता की मूल संवेदना भक्ति, प्रेम, शौर्य, वैराग्य और नीति आदि से मिल-जुलकर बनी है।
आदिकालीन काव्य के बाद भक्तियुग में कबीर, सूर, तुलसी तथा जायसी जैसे महान कवियों की अगुआई में काव्य रचा गया। संवेदना और शील की दृष्टि से इस युग में भी कई काव्य-धाराएँ मौजूद थीं। सन्त कवियों की वाणी की व्याप्ति दूर-दूर तक थी। ये लोग अक्सर भ्रमणरत रहते थे, इसलिए इनकी भाषा में बहुत विविधता मिलती है।
इस पुस्तक में इन दोनों युगों की कविता की विस्तार से, तत्कालीन सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक परिस्थितियों के सन्दर्भ में विवेचना की गई है। दोनों युगों के महत्त्वपूर्ण कवियों की रचनाओं, उनके जीवन-वृत्त और उनके युग की विशेषताओं की जानकारी से समृद्ध इस पुस्तक से छात्रों को निश्चय ही अत्यन्‍त लाभ होगा। हिन्दी साहित्य के विद्वान और महत्त्वपूर्ण कवि हेमंत कुकरेती ने अपने अध्यापन-अनुभव को समेटते हुए इस पुस्तक को छात्रों के लिए उपादेय बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है । Bhartiy janmanas mein agar dharm ke baad kisi bhavna ko bahut saaf dhang se dekha ja sakta hai, to vah kavita-prem hai. Yahi karan hai ki bharat mein sahitya ki anya vidhaon ke sapeksh kavita ki parampra na sirf bahut lambi, gahri aur vyapak rahi hai, balki usne bhartiy samaj ke vibhinn samajik-rajnitik yugon ko vani bhi di hai. Yahi nahin usne ek samajik shakti ke rup mein apni nirnayak bhumika bhi nibhai hai. Is pustak mein hindi kavita ke do aarambhik aur mahattvpurn yugon ka vivechan kiya gaya hai, ek aadikal aur dusra madhykal. Ab tak uplabdh samagri ke aadhar par kaha ja sakta hai ki hindi kavita ka udbhav satvin-athvin shatabdi ke aaspas hua jiski prishthbhumi mein pali, prakrit aur apabhransh ka bada yogdan hai. Aadikalin kavya mein apabhransh ka bahut rachnatmak istemal milta hai. Is daur ki kavita ki mul sanvedna bhakti, prem, shaurya, vairagya aur niti aadi se mil-julkar bani hai.
Aadikalin kavya ke baad bhaktiyug mein kabir, sur, tulsi tatha jaysi jaise mahan kaviyon ki aguaii mein kavya racha gaya. Sanvedna aur shil ki drishti se is yug mein bhi kai kavya-dharayen maujud thin. Sant kaviyon ki vani ki vyapti dur-dur tak thi. Ye log aksar bhramanrat rahte the, isaliye inki bhasha mein bahut vividhta milti hai.
Is pustak mein in donon yugon ki kavita ki vistar se, tatkalin samajik, aarthik aur rajnitik paristhitiyon ke sandarbh mein vivechna ki gai hai. Donon yugon ke mahattvpurn kaviyon ki rachnaon, unke jivan-vritt aur unke yug ki visheshtaon ki jankari se samriddh is pustak se chhatron ko nishchay hi atyan‍ta labh hoga. Hindi sahitya ke vidvan aur mahattvpurn kavi hemant kukreti ne apne adhyapan-anubhav ko samette hue is pustak ko chhatron ke liye upadey banane mein koi kasar nahin chhodi hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products