BackBack

Aadi Shankracharya : Jeewan Aur Darshan

Rs. 199

आठवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में भारत में जैन धर्म, बौद्ध धर्म तथा अन्य अनेक सम्प्रदायों और मत-मतान्तरों का बोलबाला था। जैन धर्म की अपेक्षा बौद्ध धर्म अधिक शक्तिशाली सिद्ध हुआ। जैन धर्म को खुलकर चुनौती दी। जैन धर्म भी वैदिक धर्म का कम विरोधी नहीं था। बौद्ध और जैन धर्मों... Read More

Description

आठवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में भारत में जैन धर्म, बौद्ध धर्म तथा अन्य अनेक सम्प्रदायों और मत-मतान्तरों का बोलबाला था। जैन धर्म की अपेक्षा बौद्ध धर्म अधिक शक्तिशाली सिद्ध हुआ। जैन धर्म को खुलकर चुनौती दी। जैन धर्म भी वैदिक धर्म का कम विरोधी नहीं था। बौद्ध और जैन धर्मों के अतिरिक्त सातवीं-आठवीं शताब्दी में अन्य धार्मिक सम्‍प्रदाय भी प्रचलित हो गए थे। उनमें भागवत, कपिल, लोकायतिक (चार्वाक), काणाडी, पौराणिक, ऐश्वर, कारणिक, कारंधमिन (धातुवादी), सप्ततान्त्व (मीमांसक), शाब्दिक (वैयाकरण), पांचेरात्रिक प्रमुख थे। ये सभी सम्‍प्रदाय वेद-विरोधक और श्रुति-निन्‍दक थे। ऐसी विषम और भयावह स्थिति में धार्मिक जगत में किसी ऐसे उत्कट त्यागी, निस्पृह, वीतराग, धुरंधर विद्वान, तपोनिष्ठ, उदार, सर्वगुण-संपन्न अवतारी पुरुष की महान आवश्यकता थी जो धर्म की विशृंखलित कड़ियों को एकाकार करके उसे सुदृढ़ बनाता और धर्म का वास्तविक स्वरूप सबके सम्मुख प्रस्तुत करता। मध्‍वाचार्य ने शंकराचार्य के अवतार का वर्णन विस्तार के साथ किया है। उसका सारांश इस प्रकार है—"भगवती भूदेवी और समस्त देवताओं ने जगत-सृष्टा ब्रह्मा के साथ कैलाश पर्वत पर जाकर पिनाकपाणी आशुतोष भगवान शंकर की आर्त्त वाणी में करबद्ध स्तुति की। तब भगवान शंकर उन लोगों के सम्मुख अत्यन्त तेजस्वी रूप में प्रकट हुए और उन्हें इस प्रकार आश्वासन दिया—‘हे देवगण, मैं समस्त घटनाओं से भली-भाँति विज्ञ हूँ। अतः मैं मनुष्य का रूप धारण कर आप लोगों की मनोकामना पूर्ण करूँगा। दुष्टाचार विनाश के लिए तथा धर्म के स्थापन के लिए, ब्रह्मसूत्र के तात्पर्य निर्णायक भाष्य की रचना कर, अज्ञानमूलक द्वैतरूपी अन्धकार को दूर करने के लिए मध्यकालीन सूर्य की भाँति चार शिष्यों के साथ चार भुजाओं से युक्त विष्णु के समान इस भूतल पर यतियों में श्रेष्ठ शंकर नाम से अवतरित होऊँगा। मेरे समान ही आप लोग भी मनुष्य-शरीर धारण कर मेरे कार्य में हाथ बँटाइए।’ इतना कहकर और देवताओं को अन्य आवश्यक निर्देश देकर भगवान शंकर अन्‍तर्धान हो गए!" आचार्य शंकर का भारतीय दार्शनिकों में अप्रतिम स्थान है। पाश्चात्य दार्शनिक भी उन्हें श्रद्धा की दृष्टि से देखते हैं और उनकी प्रतिभा के सम्मुख नतमस्‍तक हैं। उनके बाल्यकाल से देहलीला सँवरण तक की घटनाएँ चमत्कारिक एवं दैवी शक्ति से परिपूर्ण हैं। इसलिए उन्हें भगवान आशुतोष शंकर का अवतार माना जाता है। उन्होंने वैदिक धर्म का पुनरुद्धार किया और उसके वास्तविक स्वरूप को सही अर्थ में समझाने की चेष्टा की। इस महान प्रयास में उन्हें तत्कालीन धर्मों और सम्प्रदायों से लोहा लेना पड़ा। शैवों, शाक्तों, वैष्णवों, बौद्धों, जैनों एवं कापालिकों आदि से शास्त्रार्थ करना पड़ा। अपनी असाधारण प्रतिभा और अकाट्य तर्कों द्वारा उन्हें पराजित किया। पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण में चार शंकराचार्य को अभिषिक्त कर भारतीय वैदिक संस्कृति के संरक्षण और संवर्धन का उत्तरदायित्व उन्हें सौंपा। उन्होंने शैवों, शाक्तों एवं वैष्णवों को एक सूत्र में बाँधा। इससे वैदिक धर्म अत्यन्त शक्तिशाली हो गया। मात्र बत्तीस वर्ष की अल्पायु में उन्होंने अद्वितीय आश्चर्यजनक कार्य किए। Aathvin shatabdi ke uttrarddh mein bharat mein jain dharm, bauddh dharm tatha anya anek samprdayon aur mat-matantron ka bolbala tha. Jain dharm ki apeksha bauddh dharm adhik shaktishali siddh hua. Jain dharm ko khulkar chunauti di. Jain dharm bhi vaidik dharm ka kam virodhi nahin tha. Bauddh aur jain dharmon ke atirikt satvin-athvin shatabdi mein anya dharmik sam‍prday bhi prachlit ho ge the. Unmen bhagvat, kapil, lokaytik (charvak), kanadi, pauranik, aishvar, karnik, karandhmin (dhatuvadi), sapttantv (mimansak), shabdik (vaiyakran), pancheratrik prmukh the. Ye sabhi sam‍prday ved-virodhak aur shruti-nin‍dak the. Aisi visham aur bhayavah sthiti mein dharmik jagat mein kisi aise utkat tyagi, nisprih, vitrag, dhurandhar vidvan, taponishth, udar, sarvgun-sampann avtari purush ki mahan aavashyakta thi jo dharm ki vishrinkhlit kadiyon ko ekakar karke use sudridh banata aur dharm ka vastvik svrup sabke sammukh prastut karta. Madh‍vacharya ne shankracharya ke avtar ka varnan vistar ke saath kiya hai. Uska saransh is prkar hai—"bhagavti bhudevi aur samast devtaon ne jagat-srishta brahma ke saath kailash parvat par jakar pinakpani aashutosh bhagvan shankar ki aartt vani mein karbaddh stuti ki. Tab bhagvan shankar un logon ke sammukh atyant tejasvi rup mein prkat hue aur unhen is prkar aashvasan diya—‘he devgan, main samast ghatnaon se bhali-bhanti vigya hun. Atः main manushya ka rup dharan kar aap logon ki manokamna purn karunga. Dushtachar vinash ke liye tatha dharm ke sthapan ke liye, brahmsutr ke tatparya nirnayak bhashya ki rachna kar, agyanmulak dvaitrupi andhkar ko dur karne ke liye madhykalin surya ki bhanti char shishyon ke saath char bhujaon se yukt vishnu ke saman is bhutal par yatiyon mein shreshth shankar naam se avatrit hounga. Mere saman hi aap log bhi manushya-sharir dharan kar mere karya mein hath bantaiye. ’ itna kahkar aur devtaon ko anya aavashyak nirdesh dekar bhagvan shankar an‍tardhan ho ge!" aacharya shankar ka bhartiy darshanikon mein aprtim sthan hai. Pashchatya darshnik bhi unhen shraddha ki drishti se dekhte hain aur unki pratibha ke sammukh natmas‍tak hain. Unke balykal se dehlila sanvaran tak ki ghatnayen chamatkarik evan daivi shakti se paripurn hain. Isaliye unhen bhagvan aashutosh shankar ka avtar mana jata hai. Unhonne vaidik dharm ka punruddhar kiya aur uske vastvik svrup ko sahi arth mein samjhane ki cheshta ki. Is mahan pryas mein unhen tatkalin dharmon aur samprdayon se loha lena pada. Shaivon, shakton, vaishnvon, bauddhon, jainon evan kapalikon aadi se shastrarth karna pada. Apni asadharan pratibha aur akatya tarkon dvara unhen parajit kiya. Purv, pashchim, uttar, dakshin mein char shankracharya ko abhishikt kar bhartiy vaidik sanskriti ke sanrakshan aur sanvardhan ka uttardayitv unhen saumpa. Unhonne shaivon, shakton evan vaishnvon ko ek sutr mein bandha. Isse vaidik dharm atyant shaktishali ho gaya. Matr battis varsh ki alpayu mein unhonne advitiy aashcharyajnak karya kiye.