Aadi Dharam

Regular price Rs. 1,390
Sale price Rs. 1,390 Regular price Rs. 1,495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Aadi Dharam

Aadi Dharam

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

भारतीय संविधान ने देश के क़रीब 10 करोड़ आदिवासियों को अनुसूचित जनजाति (Scheduled Tribe) के रूप में एक सामाजिक, आर्थिक पहचान दी है किन्तु जनगणना प्रक्रिया में आदिवासी आस्थाओं को प्रतिबिम्बित करनेवाले किसी निश्चित ‘कोड’ के अभाव में इस आबादी के बहुलांश को ‘हिन्दू जैसा’ मानकर हिन्दू घोषित कर दिया गया है। एक अनिश्चित कोड ज़रूर है ‘अन्य’, किन्तु भूले-भटकों के इस विकल्प में कोई जानबूझकर सम्मिलित होना नहीं चाहता। सभी धर्मों के साथ वृहत्तर दायरे में अल्पांश में मेल रहते हुए और सतही तौर पर आपसी वैभिन्न्य के रहते हुए भी आदिवासी आस्थाएँ अन्दर से जुड़ी हुई हैं। यह पुस्तक आदिवासी आस्थाओं की इन्हीं विशिष्टताओं को उजागर करती है और उन्हें ‘आदि धरम’ के अन्तर्गत चिन्हित करने और क़ानूनी मान्यता देने का प्रस्ताव करती है। वे विशिष्टताएँ हैं—
परमेश्वर के ‘घर’ के रूप में किन्हीं कृत्रिम संरचनाओं पर ज़ोर न देकर प्रकृति के अवयवों (पहाड़, जंगल, नदियों) को ही प्राथमिकता देना।
मृत्यु के बाद मनुष्य का अपने समाज में ही वापस आना और अपने पूर्वजों के साथ हमेशा रहना। इसलिए समाज सम्मत जीवन बिताकर पुण्य का भागी होना सर्वोत्तम आदर्श। समाज विरोधी होने को पापकर्म समझना। इसलिए स्वर्ग-नरक इसी पृथ्वी पर ही। अन्यत्र नहीं।
आदि धरम सृष्टि के साथ ही स्वतःस्फूर्त है, किसी अवतार, मसीहा या पैगम्बर द्वारा चलाया हुआ नहीं। समुदाय की पूर्व आत्माओं के सामूहिक नेतृत्व द्वारा समाज का दिशा-निर्देश।
आदि धरम व्यवस्था में परमेश्वर के साथ सीधे जुड़ने की स्वतंत्रता होना। किसी मध्यस्थ पुरोहित, पादरी की अनिवार्यता नहीं।
सृष्टि के अन्य अवदानों के साथ पारस्परिक सम्पोषण (Symbiotic) सम्बन्ध का होना।
आखेट एवं कृषि आधारित सामुदायिक जीवन के पर्व-त्योहारों के अनुष्ठानों एवं व्यक्ति संस्कार के अनुष्ठान मंत्रों द्वारा पुस्तक में इन्हीं आशयों का सत्यापन हुआ है। पुस्तक में इन अवसरों पर उच्चरित होनेवाले मंत्रों पर विशेष ज़ोर है क्योंकि वर्णनात्मक सूचनाएँ तो पूर्ववर्ती स्रोतों में मिल जाती हैं किन्तु भाषागत तथ्य बिरले ही मिलते हैं। Bhartiy sanvidhan ne desh ke qarib 10 karod aadivasiyon ko anusuchit janjati (scheduled tribe) ke rup mein ek samajik, aarthik pahchan di hai kintu janaganna prakriya mein aadivasi aasthaon ko pratibimbit karnevale kisi nishchit ‘kod’ ke abhav mein is aabadi ke bahulansh ko ‘hindu jaisa’ mankar hindu ghoshit kar diya gaya hai. Ek anishchit kod zarur hai ‘anya’, kintu bhule-bhatkon ke is vikalp mein koi janbujhkar sammilit hona nahin chahta. Sabhi dharmon ke saath vrihattar dayre mein alpansh mein mel rahte hue aur sathi taur par aapsi vaibhinnya ke rahte hue bhi aadivasi aasthaen andar se judi hui hain. Ye pustak aadivasi aasthaon ki inhin vishishttaon ko ujagar karti hai aur unhen ‘adi dharam’ ke antargat chinhit karne aur qanuni manyta dene ka prastav karti hai. Ve vishishttayen hain—Parmeshvar ke ‘ghar’ ke rup mein kinhin kritrim sanrachnaon par zor na dekar prkriti ke avayvon (pahad, jangal, nadiyon) ko hi prathamikta dena.
Mrityu ke baad manushya ka apne samaj mein hi vapas aana aur apne purvjon ke saath hamesha rahna. Isaliye samaj sammat jivan bitakar punya ka bhagi hona sarvottam aadarsh. Samaj virodhi hone ko papkarm samajhna. Isaliye svarg-narak isi prithvi par hi. Anyatr nahin.
Aadi dharam srishti ke saath hi svatःsphurt hai, kisi avtar, masiha ya paigambar dvara chalaya hua nahin. Samuday ki purv aatmaon ke samuhik netritv dvara samaj ka disha-nirdesh.
Aadi dharam vyvastha mein parmeshvar ke saath sidhe judne ki svtantrta hona. Kisi madhyasth purohit, padri ki anivaryta nahin.
Srishti ke anya avdanon ke saath parasprik samposhan (symbiotic) sambandh ka hona.
Aakhet evan krishi aadharit samudayik jivan ke parv-tyoharon ke anushthanon evan vyakti sanskar ke anushthan mantron dvara pustak mein inhin aashyon ka satyapan hua hai. Pustak mein in avasron par uchchrit honevale mantron par vishesh zor hai kyonki varnnatmak suchnayen to purvvarti sroton mein mil jati hain kintu bhashagat tathya birle hi milte hain.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Based on 1 review
100%
(1)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
D
DAMOR YOGESHCHANDRA HALKARBHAI

GOOD BOOK

Related Products

Recently Viewed Products